दाल-रोटी की कमी नहीं

23 फरवरी 2021   |  chander prabha sood   (415 बार पढ़ा जा चुका है)

दाल-रोटी की कमी नहीं

पेट भरने के लिए मनुष्य को क्या चाहिए? उसे दो रोटी और थोड़ी-सी सब्जी या दाल चाहिए। शेष सब चोंचलेबाजी होती है। मनुष्य की भूख यदि दिखावटी है, तब तो उसके सामने छप्पन भोग भी परोस दिए जाएँ तो भी वह अतृप्त ही रहेगा, उसका पेट नहीं भरेगा।
        कैसी विचित्र विडम्बना है कि चौरासी लाख योनियों में एक मानव ही है, जो धन कमाता है अपने लिए अन्न जुटाता है, परन्तु फिर भी उसका पेट कभी नहीं भरता, वह भूखा ही रहता है। इसका कारण है उसकी लालसा। पेट भरने लायक प्रायः मनुष्य कमा लेता है। समस्या तभी उत्पन्न होती है जब उसे और अधिक, और अधिक चाहिए होता है।
          इसके विपरीत इस सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में मनुष्य के अतिरिक्त कोई अन्य जीव ऐसा नहीं है जो धन कमाता हो। परन्तु वह कभी भूखा नहीं मरता। इसका कारण है कि जब वह पेट भरकर खा लेता है, तो उसे सन्तुष्टि हो जाती है और वह मस्त हो जाता है।
        इन्सान बहुत ही नाशुकरा जीव है। मालिक ने उसे झोलियाँ भर-भरकर खजाने दिए हैं। वह कभी उसका अहसान नहीं मानता। वह सदा प्रभु को इसलिए कोसता है कि उसे दूसरों की अपेक्षा कम मिला है।वह चाहता है दुनिया की सारी नेमते उसे मिल जाएँ और सब से उसे क्या लेना देना। इसी स्वार्थी प्रवृत्ति के कारण ही मनुष्य जीवन भर दुखी रहता है।
          वह इस सत्य को भूल जाता है कि समय से पहले और भाग्य से अधिक किसी को कुछ भी नहीं मिलता। अपने पूर्वजन्म कृत कर्मों के अनुसार यथासमय उसे सब कुछ बिना माँगे स्वयं ही प्राप्त हो जाता है।
          दूसरों से होड़ करते हुए वह प्रथम स्थान पर रहना चाहता है। इसी चिन्ता में दिन-रात घुलता रहता है कि कोई उसे किसी भी क्षेत्र में पछाड़ न दे। इसलिए अपनी सामर्थ्य से बढ़कर कदम उठा लेता है और मुँह की खाता है।
         वैसे देखा जाए तो हम सबने अपनी आवश्यकताओं का इतना अधिक विस्तार कर लिया है कि उसमें घिरकर परेशान रहने लगे हैं। जिस मालिक ने जन्म देकर हमें इस संसार में भेजा है, वह सबको सदा प्रसन्न देखना चाहता है। इसलिए बिना कहे ही वह मनुष्य की सारी इच्छाएँ देर-सवेर पूरी करता रहता है।
          कुछ अपवादों को यदि छोड़ दें, तो भोजन की कमी मनुष्य को कभी भी नहीं होती। दाल-रोटी तो उसे मिल ही जाती है। देखा जाए तो रसोई का खर्च बहुत कम होता है। बाकी सारा तामझाम दूसरों को दिखाने के लिए होता है।
        अपनी नाक ऊँची रखने के लिए मेहमानों के सामने थ्री कोर्स या फोर कोर्स खाना परोसना होता है। यानी पहले ठण्डा पेय फिर सूप और साथ में कई प्रकार के शाकाहारी व मांसाहारी स्नैक्स सर्व करने होते हैं। फिर कई प्रकार के शाकाहारी व मांसाहारी खाद्यान्न परोसे जाते हैं। अन्त में मीठे की वैरायटी परोसी जाती है। इसके साथ ही शराब के जाम भी टकराते रहते हैं, जो स्टेटस सिम्बल बन रहा है।
        केवल अतिथि सत्कार करने में ही नहीं बल्कि शादी-ब्याह और पार्टियों में इसी तरह से बढ़-चढ़कर बेहिसाब खर्च किया जाता है। अब बताइए ऐसे में दाल-रोटी बेचारी क्या करेगी? इन्हीं शाही व्यञ्जनों को जुटाने के लिए तो मनुष्य का परेशान होना बनता है।
          पहले घर में बन्धु-बान्धव आते थे, तो दिनों-महीनों रहते थे। न मेहमान को बुरा लगता था और न ही मेजबान को। इसका कारण है कि उन दिनों में दिखावा नहीं होता था और सम्बन्धों में मधुरता होती थी। थोड़ा मिला तो शिकायत नहीं और अधिक मिल गया तो भी कोई बात नहीं। यदि किसी पक्ष से कोई कमीबेशी हो भी जाती थी, तब एक-दूसरे की कमी को ढक लिया जाता था।
          दाल-रोटी की कमी वह मालिक होने नहीं देता। वह तो अपने असंख्य हाथों से ब्रह्माण्ड के सभी जीवों का भरण-पोषण करता है। अपनी इच्छाओं को हम जितना चाहें बढ़ा सकते हैं और उन्हें जुटाने के लिए मनचाहा परिश्रम कर सकते हैं। फिर भी कहीं आकर तो सन्तोष की एक रेखा खींचनी ही होगी।
चन्द्र प्रभा सूद

अगला लेख: डिप्रेशन या अवसाद



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 फरवरी 2021
डि
  डिप्रेशन या अवसादडिप्रेशन या अवसाद आधुनिक भौतिक युग की देन है। हर इन्सान वह सब सुविधाएँ पाना चाहता है, जो उसकी जेब खरीद सकती है और वे भी जो उसकी सामर्थ्य से परे हैं। इसलिए जीवन की रेस में भागते हुए हर व्यक्ति अपने आप में इतना अधिक व्यस्त रहने लगा है कि सामाजिक, धार्मिक और पारिवारिक गतिविधियों के ल
11 फरवरी 2021
05 फरवरी 2021
ना
नामी स्कूलों का मोहसब माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे किसी नामी स्कूल में पढ़कर अपना जीवन संवार लें और बड़ा आदमी बन सकें। अपनी तरफ से वे हर सम्भव प्रयास भी करते हैं। स्कूल में दी जाने वाली मोटी फीस आदि का प्रबन्ध करते हैं। इस तथ्य को हम झुठला नहीं सकते कि पब्लिक स्कूल में पढ़ने वाले सभी बच्चे होशियार
05 फरवरी 2021
28 जनवरी 2021
  सन्तान से हारनाप्रत्येक मनुष्य में इतनी सामर्थ्य होती है कि वह सम्पूर्ण जगत को जीत सकता है। सारे संसार पर आसानी से अपनी धाक जमा सकने वाला मजबूत इन्सान भी अपनी औलाद से हार जाता है। उसके समक्ष वह बेबस हो जाता है।           यहाँ प्रश्न यह उठता है कि सर्वसमर्थ होते हुए भी आखिर मनुष्य अपनी सन्तान के स
28 जनवरी 2021
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x