माँ अम्बे स्तुति

27 मार्च 2021   |  अभिनव मिश्र"अदम्य"   (397 बार पढ़ा जा चुका है)

*माँ अम्बे स्तुति*

पंचचामर छन्द
121 212 12, 121 212 12

नमामि मातु अम्बिके त्रिलोक लोक वासिनी!
विशाल चक्षु मोहिनी पिशाच वंश नाशिनी!!
समस्त कष्ट हारिणी सदा विभूति कारिणी!
अनंत रूप धारिणी त्रिलोक देवि तारिणी!!

सवार सिंह शेष पे महाबला कपर्दिनी!
असीम शक्ति स्त्रोत मातु चण्ड मुण्ड मर्दिनी!!
भुजा विशाल भव्य भाल हस्त शूलधारिणी!
कराल काल क्रोध ज्वाल सिंह सी दहाड़नी!!

त्वमेव आदिशक्ति मातु शैलजा कपालिनी!
उमा - रमा महोदरी त्वमेव देवि मालिनी!!
शिरोमणी जलोदरी तपश्वनी सुवासिनी!
त्वमेव रिद्धि सिध्दि और मोक्ष की प्रदायिनी!!

सुगौर गात तीक्ष्णदंत देवि अट्टहासिनी!
महातपा सती शिवा त्वमेव विंध्यवासिनी!!
भजामि ब्रम्हवादिनी सुमातु ज्ञानदायिनी!
नमो नमो कृपालिनी प्रणम्य सिंहवाहिनी!!


मौलिक एवं स्वरचित
अभिनव मिश्र अदम्य
शाहजहाँपुर, उ.प्र.

अगला लेख: अड़चने आएं तो क्या ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
सु
05 अप्रैल 2021
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x