होली है हुडदंग मचा लो

29 मार्च 2021   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (448 बार पढ़ा जा चुका है)

होली है हुडदंग मचा लो

आज सभी रंगों से होली खेल रहे हैं... होली... जो पर्व है रंगों का... रूठे हुओं को मनाने का... मन की सारी नकारात्मकता होलिका के साथ दहन करके सकारात्मकता के रंगों से होली खेलने का... मेल मिलाप का... हमारे अपने कार्यक्रम “मेरी बातें” में आप सभी का स्वागत है... होली के हुडदंग के साथ... प्रस्तुत हैं कुछ पंक्तियाँ... सुनने के लिए कृपया वीडियो पर जाएँ...

होली है, हुडदंग मचा लो, सारे बन्धन तोड़ दो |

और नियम संयम की सारी आज दीवारें तोड़ दो ||

लाल पलाश है फूल रहा और आग लगी हर कोने में

कैसा नखरा, किसका नखरा, आज सभी को रंग डालो ||

____________कात्यायनी...

https://youtu.be/RT5Bj2wdiA8

अगला लेख: नव सम्वत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 मार्च 2021
शा
शाख से है रंग उड़ा मन है बेरंग सा होंठ पर है धूप खिला दर्द ने है आह भरा रंग पर जब रंग चढ़ा रूह से आवाज़ आई ये ज़िन्दगी है आयशा ये भी ज़िन्दगी है क्या
30 मार्च 2021
11 अप्रैल 2021
व्रतऔर उपवासव्रत शब्द का प्रचलित अर्थ है एकप्रकार का धार्मिक उपवास – Fasting – जो निश्चितरूप से किसी कामना की पूर्ति के लिए किया जाता है | यह कामनाभौतिक भी हो सकती है, धार्मिक भी और आध्यात्मिक भी | कुछ लोग अपने मार्ग में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए व्रत रखते हैं, कुछ रोग से मुक्ति के लिए, कुछ लक
11 अप्रैल 2021
12 अप्रैल 2021
सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तुनिरामयाःसर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चितदुःखभाग्भवेत।।भारतीय वांगमय में सदा सबके कल्याणकी कामना की गई है | उसे ही सार्वभौम मानव धर्म माना गया है | प्रार्थना की गई हैकि सभी प्रसन्न रहे, सभी नीरोगी रहें, सभी के समस्त कर्म सिद्ध हों, किसी को भीकिसी प्रकार का कष्ट न मिले..
12 अप्रैल 2021
15 मार्च 2021
तु
मारीच संग मिल रावण ने मायाजाल बिछाया था स्वर्ण मृग का भेष बदल सीता को ललचाया था राम के क्षत होने का उसने स्वांग रचाया था विप्र बन छल से सीता को लक्ष्मण-रेखा पार कराया था वर्तमान में भी रावण जैसे कपटी पाए जाते है स्वर्ण मृग और साधु बन सीता को हर ले जाते है इन कपटियो के
15 मार्च 2021
10 अप्रैल 2021
नमस्कारमित्रों, स्वागत है आज फिर से आप सबका हमारेकार्यक्रम “कुछ दिल से - मेरी बातें” में... अभी तेरह अप्रैल से माँ भगवती कीउपासना का पर्व नवरात्र आरम्भ होने जा रहे हैं... नवरात्र... जिसमें पूजा अर्चनाकी जाती है शक्ति की... इस अवसर प्रायः प्रत्येक घर में बहुत ही श्रद्धाभाव सेदेवी के नौ रूपों की उपासन
10 अप्रैल 2021
31 मार्च 2021
शीतलाष्टकम्अभी दो दिन पूर्व रायपुर छत्तीसगढ़ मेंथे तो एक स्थान पर शीतला माता का मन्दिर देखा | ध्यान आया कि श्वसुरालय ऋषिकेश औरपैतृक नगर नजीबाबाद में इसी प्रकार के शीतला माता के मन्दिर हैं | और तब स्मरण होआया अपने बचपन का – जब होली के बाद आने वाली शीतलाष्टमी को शीतला माता के मन्दिरपर मेला भरा करता था
31 मार्च 2021
15 मार्च 2021
मनोज्ञा छंद "होली"भर सनेह रोली।बहुत आँख रो ली।।सजन आज होली।व्यथित खूब हो ली।।मधुर फाग आया।पर न अल्प भाया।।कछु न रंग खेलूँ।विरह पीड़ झेलूँ।।यह बसंत न्यारी।हरित आभ प्यारी।।प्रकृति भी सुहायी।नव उमंग छायी।।पर मुझे न चैना।कटत ये न रैना।।सजन य
15 मार्च 2021
03 अप्रैल 2021
तुम कहते हो करूँ पश्चताप,कि जीवन के प्रति रहा आकर्षित ,अनगिनत वासनाओं से आसक्ति की ,मन के पीछे भागा , कभी तन के पीछे भागा ,कभी कम की चिंता तो कभी धन की भक्ति की। करूँ पश्चाताप कि शक्ति के पीछे रहा आसक्त ,कभी अनिरा से दूरी , कभी मदिरा की मज़बूरी ,कभी लोभ कभी भोग तो कभी म
03 अप्रैल 2021
31 मार्च 2021
22 मार्च को WOW India की ओर से डिज़िटल प्लेटफ़ॉर्म ज़ूम पररंगोत्सव मनाने के लिए एक काव्य सन्ध्या का आयोजन किया गया... जिसमें बड़े उत्साहसे सदस्यों ने भाग लिया... कार्यक्रम की अध्यक्षता की वरिष्ठ साहित्यकार डॉ रमासिंह ने और संचालन किया WOW India की Cultural Secretary लीना जैन ने... सभी कवयित्रियों के काव
31 मार्च 2021
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x