रंगोत्सव (होली) :- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 मार्च 2021   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (439 बार पढ़ा जा चुका है)

रंगोत्सव (होली) :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारत ही नहीं अपितु संपूर्ण विश्व में मनाया जाने वाला होली का त्यौहार हर्षोल्लास का सर्वोपरि पर्व है | यह हमारे देश का मंगलोत्सव है और भारतीयता का शीर्षस्थ पर्व है | होली वसंत ऋतु का यौवनकाल है | होली के इस समय में जहां एक और वनश्री के साथ-साथ खेत खलिहान भी फाल्गुन के ढलते ढलते संपूर्ण समृद्धि की आभा के साथ खिल उठते हैं वहीं इसके उल्लास में उमड़ते अनगिनत रंगों में कई चिंतन के रंग भी सम्मिलित है | चिंतन के इन रंगों में माननीय जीवन का अस्तित्व सिमटा है | इन रंगों में उल्लास के साथ विषाद , खुशी के साथ दुख और हंसी के साथ रुदन का भी सम्मिश्रण है | होली क्या है ? होली को होली क्यों कहा जाता है ? इसे जानने के लिए हमें वैदिक परंपरा को जानना परम आवश्यक है | खेतों में लहलहाते नए अन्न की बालियों को तोड़कर प्रज्वलित अग्नि में भूनने की प्रथा सदियों से चली आ रही है | इसी कारण इस पर्व का नाम होली पड़ा | अनाज की बालियों को संस्कृत में होला कहते हैं यथा:- "तृणाग्निं भ्राण्टर्ध्वपक्व शमधियं होलक:" अर्थात तिनकों की अग्नि में भुने हुए अधपकी फली वाले अन्न को होलक कहते हैं ` होली का शब्द की उत्पत्ति इसी होलक शब्द से ही मानी जाती है | अपने देश के कई स्थानों पर चने की भुनी हुई बालियों को होला (होरा) कहकर पुकारा जाता है | इसी प्रकार फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा को हमारे पूर्वज नए जौ की बालियों के हवन से अग्निहोत्र प्रारंभ करते थे इसीलिए अपने प्राचीन ग्रंथों में होली को "यवाग्रथन यज्ञ" के नाम से भी संबोधित किया गया है | होली के दिन अनेक प्रकार के रंगों से लोग एक दूसरे का स्वागत करते हैं आपसी शत्रुता को भूल कर एक दूसरे से गले मिलते हैं और एक साथ मिलकर इस उल्लास के पर्व को मनाते हैं |*


*आज आधुनिक युग में सब कुछ परिवर्तित दिखाई पड़ रहा है | आज होली है , परंतु ना तो इसमें पवित्रता का रंग है और ना पुरुषार्थ की उमंग | आज तो सिर्फ होलिका का कुचक्र और दमित वासनाओं का उद्दाम अपने उफान पर है | भक्ति के स्थान पर स्वार्थ और अहम की तमसाच्छन्न प्रवृत्ति से यह रंग और भी बदरंग हो चला है | असहनशील और असहिष्णु मन कुछ भी सुनने को तैयार नहीं है | आज मनुष्य ने अपने अंदर भेदभाव की दीवारें खड़ी कर दी है तो सामाजिक समरसता और सद्भाव के सुंदर रंग कैसे विखरेंगे | जाति , धर्म , संप्रदाय एवं वर्ग में लोगों को विभाजित और विखंडित करके होली का पर्व उल्लास के साथ कैसे मनाया जा सकता है ? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूं कि आज इस पर्व के साथ जुड़ी मूल भावनाओं को भुला दिया गया है , तभी तो रंगों की सतरंगी उल्लास में छटा बिखरने की बजाय हम एक दूसरे पर कीचड़ उछालने लगे हैं और इसकी कालिख से होली के रंग में भंग डालकर इसको अरुचि , अवसाद एवं वैर - वैमनस्यपूर्ण बना रहे हैं | जो पर्व सहज ही अंतर की उल्लास उमंग भरी ऊर्जा को उर्ध्वगामी दिशा देने वाला पावन अवसर था वही आज अश्लील पाशविक एवं कुत्सित चेष्टाओं की अभिव्यक्ति का माध्यम बनने लगा है | मूल्य निष्ठा के नाम पर अपसंस्कृति का नग्न नर्तन चहुँओर दृश्यमान मान हो रहा है | सांस्कृतिक जागरण के बजाय यह अवसरवादी संस्कृति के नशे में धुत होकर आत्मविस्मरण और पतनोन्मुख आत्मघाती वृत्तियों के पोषण का पर्व बनता जा रहा है जो कि आने वाली पीढ़ियों के लिए चिंतनीय है | आने वाली पीढ़ियां इन त्योहारों की मूल उद्देश को ना तो जान पाएंगी और ना ही समझ पाएंगी |*


*होली में बासंती उमंगों को लेकर सृजन पर्व की तरह इसको मनाया जाय तथा इसमें सृजनात्मक , रचनात्मक , विधेयात्मक कार्यों में अपनी रुचि बढ़ाया जाय , तभी होली मनाना सार्थक होगा |*

अगला लेख: संस्कारों का महत्व :- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 मार्च 2021
*हमारे देश भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक त्यौहार है होली | होली वस्तुतः दो दिनों का पर्व है प्रथम दिन होलिका दहन का होता है दूसरा दिन रंगोत्सव का | होलिका दहन का पर्व बड़ी ही उल्लास के साथ हमारे देश में मनाया जाता है | सनातन धर्म के प्रत्येक पर्व एवं त्यौहार नकारात्मकता का त्याग करके जीवन में
28 मार्च 2021
31 मार्च 2021
*इस संसार में कोई भी मनुष्य ऐसा नहीं है जिसके मन में कल्पनाएं ना उत्पन्न होती हों | प्रत्येक मनुष्य का मन कल्पनाओं के पंख लगाकर उड़ता रहता है | इन कल्पनाओं की गति असीम होती है तथा यह अपरिमित वेग के साथ दृश्य और अदृश्य लोकों में घूमती रहती हैं | पूर्व काल में हमारे देशवासियों ने इन्हीं कल्पनाओं के बल
31 मार्च 2021
30 मार्च 2021
*हमारे देश भारत में सभी त्योहार बड़े ही हर्षोल्लास के मनाए जाते रहे हैं | हमारे त्योहारों ने समस्त विश्व के समक्ष सदैव एक आदर्श प्रस्तुत किया है इन्हीं त्योहारों में होली का त्योहार एक उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | पूर्वकाल में होली के दिन इतना हर्षोल्लास देखने को मिलता था कि सनातन धर्म को मांनने वा
30 मार्च 2021
31 मार्च 2021
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक मनुष्य जीवन को सफल बनाने के लिए , या किसी भी प्रकार की सफलता प्राप्त करने के लिए एक लक्ष्य निर्धारित करता है और उसी लक्ष्य पर दिन रात चिन्तन करते हुए कर्म करता है तथा अपने लक्ष्य को प्राप्त करने का प्रयास करता है | कोई भी लक्ष्य तभी प्राप्त किया जा सकता है जब
31 मार्च 2021
31 मार्च 2021
*सृष्टि का मूल है प्रकृति इसके बिना जीव का कोई अस्तित्व नहीं है | प्रकृति अग्नि , जल , पृथ्वी , वायु एवं अंतरिक्ष से अर्थात पंचमहाभूते मिलकर बनी है जिसे पर्यावरण भी कहा जाता है | पर्यावरण का संरक्षण आदिकाल से करने का निर्देश हमें प्राप्त होता रहा है | हमारे देश भारत की संस्कृति का विकास वेदों से हुआ
31 मार्च 2021
30 मार्च 2021
*हमारे देश भारत में सभी त्योहार बड़े ही हर्षोल्लास के मनाए जाते रहे हैं | हमारे त्योहारों ने समस्त विश्व के समक्ष सदैव एक आदर्श प्रस्तुत किया है इन्हीं त्योहारों में होली का त्योहार एक उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | पूर्वकाल में होली के दिन इतना हर्षोल्लास देखने को मिलता था कि सनातन धर्म को मांनने वा
30 मार्च 2021
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x