सलाह लेते रहें सम्मान देते रहें :- आचार्य अर्जुन तिवारी

31 मार्च 2021   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (413 बार पढ़ा जा चुका है)

सलाह लेते रहें सम्मान देते रहें :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन को सुचारू ढंग से जीने के लिए जहां अनेक प्रकार की आवश्यक आवश्यकता होती है वही समाज एवं परिवार में सामंजस्य बनाए रखने के लिए मनुष्य को एक दूसरे से सलाह परामर्श लेते हुए दूसरों का सम्मान भी करना चाहिए | ऐसा करने पर कभी भी आत्मीयता मे कमी नहीं आती | जहां परिवार में परामर्श नहीं होता है उसी परिवार में समस्याएं पनपने लगती हैं | प्रायः लोग समाज के लोगों से तो परामर्श लेना पसंद करते हैं परंतु अपने परिवार के सदस्यों से कोई परामर्श लेना नहीं चाहते जबकि विचारशील गृहसंचालक को अपने परिवार के सदस्यों से व्यक्तिगत संपर्क साधना और विचार - विनियम का क्रम आरंभ करना चाहिए , क्योंकि परिवार के प्रत्येक सदस्य की कुछ न कुछ समस्याएं , आवश्यकताएं एवं आकांक्षायें होती हैं उन्हें समझने और उपयुक्त समाधान के लिए प्रयत्न करने चाहिए | अयोध्या के महाराज दशरथ ने श्री राम के राज्याभिषेक के लिए यदि अपने परिवार में परामर्श लिया होता तो शायद वह घटना न घटती जो कि अयोध्या में घटी , परंतु उन्होंने गुरुजनों , प्रजाजनों एवं मंत्रियों के परामर्श के आधार पर राम के राज्याभिषेक की घोषणा कर दी थी | इसीलिए कोई भी कार्य करने के पहले प्रत्येक मनुष्य को अपने पारिवारिक सदस्यों का सम्मान करते हुए उनकी सलाह को महत्व देना चाहिए | गुण एवं दोष प्रत्येक व्यक्ति में होते हैं , विचार कुविचार सब के मस्तिष्क में प्रकट होते हैं इन विचारों का यदि समय रहते निराकरण नहीं किया जाता है तो परिवार के लिए घातक हो जाते हैं | इसलिए पारिवारिक सदस्यों की मन:स्थिति को समय-समय पर जानते रहना चाहिए अन्यथा अचिंत्य चिंतन पनपता है और घुटन तक सीमित न रहकर कभी-कभी विस्फोट की तरह प्रकट होता है | ऐसी स्थितियां न उत्पन्न होने पाए इसके लिए पारस्परिक विचार - विनियम की प्रक्रिया भी परिवारों में पनपने चाहिए क्योंकि आपसी सलाह / परामर्श , एक - दूसरे के विचारों का आदान-प्रदान मनुष्य की बौद्धिक क्षमता को तो बढ़ाता ही है साथ ही कठिन से कठिन समस्या का समाधान भी इससे प्राप्त हो जाता है |*


*आज समाज में जिस प्रकार परिवार विघटित हो रहे हैं उसका एक प्रमुख कारण यह भी है कि आज परिवारों में आपसी सामंजस्य , आपसी सलाह एवं परामर्श का अभाव स्पष्ट दिख रहा है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को सबसे बुद्धिमान मानते हुए सारे निर्णय स्वयं लेना चाहता है | अनेकों बार तो ऐसा भी होता है कि वह निर्णय परिवार के विपरीत होता है | जब ऐसी स्थिति आती है तब परिवार में विघटन प्रारंभ हो जाता है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि परिवार के मुखिया को यह जानकारी अवश्य रखनी चाहिए कि घर के किस सदस्य की विचारधारा किस दिशा में बढ़ रही है और उसके कृत्यों का प्रवाह किस ओर मुड़ रहा है | इसके लिए समय-समय पर अपने परिवार में सभी पारिवारिक सदस्यों के साथ बैठकर चर्चा - परिचर्चा अवश्य करनी चाहिए | आवश्यक जानकारियों से सभी को अवगत कराते हुए प्रत्येक विषय पर विचारों का आदान-प्रदान होना चाहिए और परिवार के प्रत्येक सदस्य को यह अनुभव कराना चाहिए कि परिवार के निर्माण में उनका भी उत्तरदायित्व है | आशंकाएं एवं कुकल्पनायें न उत्पन्न होने पाए इसके लिए आवश्यक है कि परिवार में आपसी सामंजस्य बना रहे | सामंजस्य वहीं बना रहता है जहां मनुष्य खुले मन से मनुष्य अपने विचार सबके साथ साझा करता है | कोई भी निर्णय लेने के पहले यदि उस विषय पर परिवार में परामर्श कर लिया जाए तो शायद कोई भी विस्फोटक स्थिति उत्पन्न नहीं होने पाए | ऐसा करके ही अपने परिवार एवं समाज को समुन्नत एवं विकसित किया जा सकता है |*


*जहां आपसी परामर्श एवं सलाह से कार्य संपादित होते हैं वह परिवार दिनों दिन सफलता की ओर अग्रसर होता रहता है और जहां इसका अभाव देखने को मिलता है उस परिवार को विघटित होने से कोई भी नहीं बचा सकता |*

अगला लेख: संस्कारों का महत्व :- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 मार्च 2021
*इस संसार में मनुष्य जैसा कर्म करता उसको वैसा ही फल मिलता है | किसी के साथ मनुष्य के द्वारा जैसा व्यवहार किया जाता है उसको उस व्यक्ति के माध्यम से वैसा ही व्यवहार बदले में मिलता है , यदि किसी का सम्मान किया जाता है तो उसके द्वारा सम्मान प्राप्त होता है और किसी का अपमान करने पर उससे अपमान ही मिलेगा |
31 मार्च 2021
01 अप्रैल 2021
*मानव जीवन में सुख एवं दुख आते जाते रहते हैं | कभी-कभी परिवार में ऐसी बातें हो जाती है जो कि कष्टकारी होती है परंतु ऐसे समय पर मनुष्य को धैर्य धारण करना चाहिए | धैर्य धारण करना यदि सीखना है तो मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के जीवन चरित्र से अच्छा उदाहरण और कहीं नहीं मिल सकता | मनुष्य को सदैव सम
01 अप्रैल 2021
31 मार्च 2021
*सृष्टि का मूल है प्रकृति इसके बिना जीव का कोई अस्तित्व नहीं है | प्रकृति अग्नि , जल , पृथ्वी , वायु एवं अंतरिक्ष से अर्थात पंचमहाभूते मिलकर बनी है जिसे पर्यावरण भी कहा जाता है | पर्यावरण का संरक्षण आदिकाल से करने का निर्देश हमें प्राप्त होता रहा है | हमारे देश भारत की संस्कृति का विकास वेदों से हुआ
31 मार्च 2021
31 मार्च 2021
*हमारे देश भारत की संस्कृति आदिकाल से ही समृद्धशाली रही है | समय-समय पर पड़ने वाले अनेक पर्व एवं त्योहार हमारी संस्कृति का दर्शन कराते रहे हैं | इन त्योहारों के समय गाए जाने वाले लोकगीत हमारे त्योहारों की भव्यता को और भी बढ़ा देते थे | सावन के महीने में गाय जाने वाले कजरी गीत एवं झूला गीत तथा फागुन
31 मार्च 2021
31 मार्च 2021
*सृष्टि का संचालन परब्रह्म की कृपा से होता है इसमें उनका सहयोग उनकी सहचरी माया करती है | यह सकल संसार माया का ही प्रसार है | यह माया जीव को ब्रह्म की ओर उन्मुख नहीं होने देती है | यद्यपि जीव का उद्देश्य होता है भगवत्प्राप्ति परंतु माया के प्रपञ्चों में उलझकर जीव अपने उद्देश्य से भटक जाता है | काम ,
31 मार्च 2021
31 मार्च 2021
*इस संसार में जन्म लेने के बाद एक मनुष्य को पूर्ण मनुष्य बनने के लिए उसके हृदय में दया , करुणा , आर्जव , मार्दव ,सरलता , शील , प्रतिभा , न्याय , ज्ञान , परोपकार , सहिष्णुता , प्रीति , रचनाधर्मिता , सहकार , प्रकृतिप्रेम , राष्ट्रप्रेम एवं अपने मह
31 मार्च 2021
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x