असली मर्द

16 अप्रैल 2021   |  शिल्पा रोंघे   (430 बार पढ़ा जा चुका है)

असली मर्द

सीमा और मनोज एक ही गांव में पले-बढ़े थे। आज पीपल के पेड़ के नीचे बैठकर मनोज अपने दोस्त संग पंजा लड़ा रहा था। तभी सीमा अपनी सहेली संग वहां आ पहुंची, बगल वाले पेड़ से बेर तोड़ने, एक-एक करके उसने बेर अपने दुप्पटे में लपेट कर बांध लिए।

तभी पड़ोस की चंदा काकी भी आ पहुंचीऔर बोली “अरे इतनी तपती धूप में कहां घूम रही हो तुम दोनों, जाओ घर जाकर चुल्हा चौका संभालों वहीं शोभा देता है तुम लोगों को, ये आवारागर्दी तो लड़कों का काम हैं।’’

“क्या आप भी, थोड़ा घूम फिर लिए तो कौन सा गुनाह कर लिए?’’ सीमा ने जवाब दिया।

“अरे शादी -ब्याह कर लो, कौन सा आजकल के मर्द मारते -पीटते है, पढ़ लिखकर बहुत आगे जो बढ़ गई हो तुम लोग। हमारे जमाने में तो 16 साल पूरे होते ही हाथ पीले हो जाते थे, ना हां बोलने की हक था ना मना करने का, खैर छोड़ों तुम लोगों को समझाना बेकार है।’’ ये कहते हुए काकी वहां से निकल गई।

हैरान -परेशान सीमा ने अपनी सहेली सुधा से कहा “अरे पता नहीं क्यों ये काकी हम पर सारी नाराजगी निकाल गई।’’

अरे काका ने कुछ कह दिया होगा, तो हम पर भड़ास निकालकर मन हल्का कर रहीं है और क्या, चल छोड़, देख वो मनोज अपने दोस्त के साथ पंजा लड़ा रहा है क्या तू उसे हरा सकती है ? सुधा ने पूछा।

“क्यों नहीं सीमा ने कहा।

कहीं तेरी पतली कलाई में मोच ना आ जाए, ये देख लेना। सुधा ने उसे चेताया।

मनोज मानवाधिकार में पोस्ट ग्रेजुएशन कर रहा था, गर्मियों की छुट्टियों में गांव आया था।

तभी सीमा को देखकर बोला कैसी हो तुम ?”

अच्छी हूं क्या तुम मुझसे पंजा लड़ाओगे ?’’सीमा ने कहा।

हां बिल्कुल क्यों नहीं।’’ मनोज ने जवाब दिया।

जैसे ही सीमा मनोज से पंजा लड़ाने बैठी तो मनोज का हाथ उसके हाथ पर भारी पड़ने लगा, उसे लगा उसका हारना तो तय ही है तभी मनोज ने अपना हाथ थोड़ा ढीला छोड़ दिया। बाजी पलट गई और सीमा जीत गई । तभी सीमा ने खुशी से कहा कि मैं जीत गई।”

सुधा ने कहा “अरे वाह तुने तो कमाल ही कर दिया।”

तभी सीमा का छोटा भाई वहां आ पहुंचा बोला “दीदी घर चलो, अम्मा बुला रही है।”

तभी सीमा अपने दुप्पटें में बंधे बैर को संभालते हुए घर की ओर चल दी।

मनोज के दोस्त सतीश ने कहा “अरे तू क्यों जान बुझकर हार गया।’’

मनोज ने कहा “असली मर्द वो थोड़े ही होता है जो हर बार जीते, कभी औरत पर हाथ उठाकर, हर आती-जाती महिला को गलत ढंग से घूरकर या उनके अधिकारों का दमन कर खुद को बड़ा साबित करे। अरे अगर मेरे हारने से एक औरत को ख़ुशी मिली है तो वही सही। पढ़े लिखे लोगों की कोई कमी नहीं हमारे देश में, लेकिन असली तालीम तो बिना औरत की बराबरी की बात कहे, अधूरी ही है।’’

सतीश ने कहा “मान गए, बात में दम तो है तुम्हारी काश ये हर कोई समझता तो कितना अच्छा होता।’’

शिल्पा रोंघे

नोट- यह कथा पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति व्यक्ति, घटना या स्थान से कोई संबध नहीं है। सर्वाधिकार सुरक्षित


आप मेरी लिखी इस कहानी को नीचे दिए गए ब्लॉग पर जाकर भी पढ़ सकते हैं ।


koshishmerikalamki.blogspot.com: असली मर्द

http://koshishmerikalamki.blogspot.com/2021/04/blog-post_15.html

असली मर्द

अगला लेख: जहां चाह वहां राह



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x