आज का शब्द (34)

01 जून 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (257 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (34)

निवृत्ति :

१- मुक्ति


२- विमुक्ति


३- अपोह


४- अवसर्जन


५- व्यवच्छेद


प्रयोग: आवश्यकता की पूर्ति होती है और कामना की निवृत्ति होती है I

अगला लेख: आज का शब्द (१३)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 मई 2015
साथियो, 20 मई, 1900 को कौसानी, अल्मोड़ा में जन्मे सुमित्रानंदन पंत हिंदी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। उनकी प्रमुख काव्य कृतियाँ हैं - ग्रन्थि, गुंजन, ग्राम्या, युगांत, स्वर्णकिरण, स्वर्णधूलि, कला और बूढ़ा चाँद, लोकायतन, चिदंबरा, सत्यकाम आदि। पंत जी की जयन्ती पर उन्ह
20 मई 2015
13 जून 2015
"बड़ा आदमी वह कहलाता है जिससे मिलने के बाद कोई स्वयं को छोटा न महसूस करे।"
13 जून 2015
20 मई 2015
चन्द्रकान्ता : १- रात्रि २- यामिनी ३- निशा ४- रजनी ५- निशिता ​प्रयोग : मिलन की चन्द्रकान्ता स्मृतियों में पल्लवित है I
20 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x