आज का शब्द (34)

01 जून 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (270 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (34)

निवृत्ति :

१- मुक्ति


२- विमुक्ति


३- अपोह


४- अवसर्जन


५- व्यवच्छेद


प्रयोग: आवश्यकता की पूर्ति होती है और कामना की निवृत्ति होती है I

अगला लेख: आज का शब्द (१३)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 जून 2015
विलक्षण: 1- अद्भुत 2- विस्मयकारी 3- अनूठा 4- अजीब 5- अलबेला प्रयोग: हमारा राष्ट्र धर्म, संस्कृति और भाषाओं के क्षेत्र में एक विलक्षण वैविध्य प्रदर्शित करता है।
03 जून 2015
18 मई 2015
निर्वाण : १- मोक्ष २- कैवल्य ३- तथागति ४- अमृतत्व ५- परमपद प्रयोग : बुद्ध का जीवन हज़ार धाराओं में होकर बहता है। जन्म से लेकर निर्वाण तक उनके जीवन की प्रधान घटनाएँ अजंता की दीवारों पर कुछ ऐसे लिख दी गई हैं कि आँखें अटक जाती हैं, हटने का नाम नहीं लेतीं।
18 मई 2015
02 जून 2015
समृद्ध: 1- धनवंत 2- समृद्धशाली 3- ऐश्वर्यवान 4- लक्ष्मीक 5- रत्नधर प्रयोग: जहां नारी का सम्मान होता है, वहाँ समाज समृद्ध होता है।
02 जून 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x