प्यार की ये कहानी हमारी - शिखा

06 जुलाई 2015   |  Shikha   (394 बार पढ़ा जा चुका है)







आपसे ही hai pyar ki ye kahani humari,


Aapse hi hai ye zindgani humari.





Kaise samjaye aapko ki saath aapka kitna lazmi hai,


Kaise bataye aapko ki pyar humara kitna nirmal hai.





Zustjuu bhi hai aapse, diwangi bhi hai aapse,


Dil ki har dhadkan ki ravani bhi hai aapse.





Har dhadkan chale sirf aapke hi naam se,


Zindgi ka har lamha bhi sirf juda hai aapse.





Ab sirf itni hi gujarish hai aapse humari,


Yu hi rahena humesha shamil zindgi mai humari.





Shikha




अगला लेख: आपके साथ बीते वो - शिखा



Shikha
08 जुलाई 2015

बहोत बहोत शुक्रिया sharmaji

Shikha
08 जुलाई 2015

बहोत बहोत शुक्रिया manjeetji

Shikha
08 जुलाई 2015

बहोत बहोत शुक्रिया शब्दनगरी संगठन

"जुस्तजू भी है आपसे, दीवानगी भी है आपसे, दिल की हर धड़कन की रवानी भी है आपसे"...बहुत खूबसूरत अंदाज़-ए-बयां ! बधाई !

मंजीत सिंह
07 जुलाई 2015

वाह ... इस कविता में अपनापन और प्रेम झलकता है...
बस कमी है तो हिंदी में टाइप करने की ... ऐसे पढ़ने में थोड़ी समस्या होती है . अगली रचना में हिंदी में ही लिखियेगा, कविता की सुंदरता और निखार जाएगी ...

सुन्दर भावाभिव्यक्ति ! रचना प्रकाशन हेतु बधाई !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x