छटपटाती रहीं और सिमटती रहीं कोशिशें बाहुबल में सिसकती रहीं। जुल्म जिस पर हुआ,कठघरे में खड़ा। करने वाले की किस्मत चमकती रही। दिल धड़कता रहा दलीलों के दर्मिया। जुल्मी चेहरे पे बेशर्मी झलकती रही। तन के घाव तो कुछ दिन में भर गये। आत्मा हो के छलनी भटकती रही। कली से फूल बनने के सपने लिए। बागवां में खिलती महकती रही। कुचल दी गई किसी के क़दमों तले। अपाहिज जिंदगी ताउम्र खलती रही। न्याय की आस भी बोझिल,बेदम हुई। सहानुभूति दिखावे की मिलती रही। सूरत बदली नहीं बेबसी,बदहाली की। ताजपोशी तो अक्सर बदलती रही। उपाधियों से तो कितने नवाजे गये। सत्य की अर्थी फिर भी उठती रही। ऐसी दुनिया न मिले की मलाल रहे। जहाँ जिंदगी मोम सी पिघलती रही। वैभव"विशेष"

20 जुलाई 2015   |  वैभव दुबे   (85 बार पढ़ा जा चुका है)

 छटपटाती रहीं और सिमटती रहीं कोशिशें बाहुबल में सिसकती रहीं।  जुल्म जिस पर हुआ,कठघरे में खड़ा। करने वाले की किस्मत चमकती रही।  दिल धड़कता रहा दलीलों के दर्मिया। जुल्मी चेहरे पे बेशर्मी झलकती रही।  तन के घाव तो कुछ दिन में भर गये। आत्मा हो के छलनी भटकती रही।  कली से फूल बनने के सपने लिए। बागवां में खिलती महकती रही।  कुचल दी गई किसी के क़दमों तले। अपाहिज जिंदगी ताउम्र खलती रही।  न्याय की आस भी बोझिल,बेदम हुई। सहानुभूति दिखावे की मिलती रही।  सूरत बदली नहीं बेबसी,बदहाली की। ताजपोशी तो अक्सर बदलती रही।  उपाधियों से तो कितने नवाजे गये। सत्य की अर्थी फिर भी उठती रही।  ऐसी दुनिया न मिले की मलाल रहे। जहाँ जिंदगी मोम सी पिघलती रही।  वैभव"विशेष"

अगला लेख: जिंदगी मोम सी पिघलती रही



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x