आरक्षण की आग!

31 अगस्त 2015   |  वर्तिका   (239 बार पढ़ा जा चुका है)

आरक्षण की आग!

हर-क्षण, हर-पल देश के पैरों को जकड़ती ये आरक्षण की आग,
देश का युवा, इसमें जलकर न हो जाये राख,
मेहनत और काबिलियत कि कद्र करो तुम, आरक्षण कर देगा सबको खाक,
हर दिन एक सुअवसर हैं, इसका मूल्य समझो जनाब,

न करो युवाओं को गुमराह तुम,
देश के सिपाहियों में भरो उत्साह तुम,
ले जाए देश को ये प्रगति पथ पर,
ऐसे गीत गुनगुनाओ तुम,

न बांटो, इस देश को जाति-धर्म के नाम पर,
ग़रीबों को मिले लाभ, ऐसे उद्घोष लोगों तक पहुंचाओं तुम,
इस आरक्षण की आग ने बहुतों को जलाया हैं,
अब ये आग न लगाओ तुम|

अगला लेख: "१० वां विश्व हिंदी सम्मेलन" भोपाल में १० से १२ सितंबर तक आयोजित!



वर्तिका
09 सितम्बर 2015

धन्यवाद शालिनी, सुधीर जी एवं ओम प्रकाश जी!

ले जाए देश को ये प्रगति पथ पर,
ऐसे गीत गुनगुनाओ तुम...सुन्दर एवं सार्थक रचना !

सुधीर द्विवेदी
01 सितम्बर 2015

बिलकुल सही है ।

सही कहे है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 सितम्बर 2015
हर साल, शिक्षक दिवस ५ सितम्बर को डॉ. सर्वपल्ली राधा कृष्णन के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है| इस दिन हम अपने प्रिय शिक्षकों को याद करना कभी भी नहीं भूलते| डा. राधाकृष्णन, महान शिक्षाविद होने के साथ-साथ, हमारे देश के दूसरे राष्ट्रपति भी थे। इस लेख के माध्यम से, आज की युवा पीढ़ी को डॉ. राधाकृष्ण
04 सितम्बर 2015
31 अगस्त 2015
हर-क्षण, हर-पल देश के पैरों को जकड़ती ये आरक्षण की आग,देश का युवा, इसमें जलकर न हो जाये राख,मेहनत और काबिलियत कि कद्र करो तुम, आरक्षण कर देगा सबको खाक,हर दिन एक सुअवसर हैं, इसका मूल्य समझो जनाब,न करो युवाओं को गुमराह तुम,देश के सिपाहियों में भरो उत्साह तुम,ले जाए देश को ये प्रगति पथ पर,ऐसे गीत गुनगुन
31 अगस्त 2015
27 अगस्त 2015
काले मेघा! काले मेघा ! इतना क्यूँ तरसाए,बहुत हुई अब देर सही, पर अब क्यूँ न बरसे हाय,गरमी से परेशां जनता सब बोले हाय! हाय!काले मेघ बोले, "तब तू( जनता) क्यूँ न पेड़ लगायें"?जब बारिश की इतनी आस तो क्यूँ प्रदुषण फैलायें ?जहाँ देखो वहां, तू पेड़ ही पेड़ कटवाए!फिर हमसे पूछे, हम क्यूँ न बरसे हाय!इसे बात पर
27 अगस्त 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x