आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

#व्यंग-लोकतंत्र से राजनीति का बढ़ता व्यापार?

04 सितम्बर 2015   |  Alok Kumar

क्या लोकतंत्र अलोकतन्त्र हो गया है सैकड़ों पंजीकृत राजनैतिक दल, जितने दल उतने विचारधारा क्या आज़ादी के बाद बांटो और राज करो के तहत इस सोच को देश की राजनीती में जगह दी गई थी या व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए पक्ष और विपक्ष की भूमिका लोकतंत्र में असरदार रहें इसकी वकालत थी?

क्यों लोकतंत्र के नाम पर आराजकता ही व्याप्त है चारो ओर लूट, खसोट घोटाला, चोरी डकैती, बलात्कार और न जाने क्या क्या, सत्ता में आने से पहले लोकतंत्र का राग सुहाता है जैसे धरना/प्रदर्शन करना हमारा लोकतान्त्रिक अधिकार है मगर सत्ता मिल जानते के बाद इस सोच में तबदीली क्यों और कैसे आ जाती है?

लोकतंत्र का डीएनए अगर ख़राब है तो क्या तानाशाही (हिटलरगिरी) का डीएनए, लोकतंत्र के माध्यम से सत्ता मिल जाने के बाद भाता है? किसी भी व्यवस्था में/की खामियां उजागर तभी होती है जब उसको अपनाया जाता है तो क्या लोकतंत्र में जो खामियां है उसको दूर किया जाना चाहिए या चलता है चलता रहेगा वाला तकिया कलाम देश में लागु रहेगा?


Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215

अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

वर्तिका
04 सितम्बर 2015

सच में, गंदी राजनीति ने लोकतंत्र की बेड़ियाँ जकड़ी हुई हैं|

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
लोकप्रिय प्रश्न