"हो गए बागी सवाल"

11 सितम्बर 2015   |  अवधेश प्रताप सिंह भदौरिया 'अनुराग'   (126 बार पढ़ा जा चुका है)

"हो गए बागी सवाल"

वो लोग वतन बेच के,खुशहाल हो गए,
वाशिंदा मेरे मुल्क के,कंगाल हो गए ।

रखना पडा है गिरवी ,आबरू-ईमान को,
बच्चे हमारे भूख से ,बेहाल हो गए ।

रोटी की भूख कम थी ,चारा भी खा गए,
सत्ता में सियासत के,जो दलाल हो गए ।

है मुल्क तरक्की के, दौर-ए-सफ़र में यारो,
कई राम-औ -रहीम के,बिकवाल हो गए ।

लौ कंपकपा रही है,अरमान चिरागों के ,
बड़े शख्त आंधियों के,इकवाल हो गए ।

इक उम्र खर्च की है,इस घर को बनाने में ,
टुकड़ों में बंट गया है, बुरे हाल हो गए ।

'अनुराग'चाहिए अब,वाजिव जवाब हमको,
चुप रहते-रहते देखो ,बागी सबाल हो गए ।

अगला लेख: समय



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 सितम्बर 2015
उठो !और दृढ़तर कसलो अपनी वीणा के तार,आदि -अंत से दिग-दिगंत तक ,दो स्वर को विस्तार ।मधुर-मधुर ध्वनि छेड़ ,तान ले ,राग आलाप,निराले ,साध सुरों की सरगम से,सारे संवेग जगा लो ;शब्द -संतुलन ,मधुर-मधुर सुर गूंजे शत-शत बार ॥उठो !और दृढ़तर कसलो अपनी वीणा के तार,आदि -अंत से दिग-दिगंत तक ,दो स्वर को विस्तार ।मुद
05 सितम्बर 2015
12 सितम्बर 2015
समय वो तलवार है जिसे कोई नहीं हासिल कर सका, समय वो ताकत है जिसे कोई नही रोक सका, समय से आजतक कोई नही बच सका लगता है , लगता है हम समय को काट रहे हैं ,पर सच तो है की समय हमे काट रहा है,समय वो ज़ंजीर है जिसे कोई नही तोड़ सका, समय वो चीज है जिसे भागवान नही रोक सका ।'कृष्णा' ! ये पंक्तींया मेरे
12 सितम्बर 2015
05 सितम्बर 2015
होगा हृदय मंथन ,मगर विश्वास चाहिए,ज्यों अंधकार के लिए,प्रकाश चाहिए ।संभव है नई सृष्टि का,निर्माण तो मगर ,कल्पनाओं को खुला, आकाश चाहिए ।दृष्टि-दृष्टि के विभिन्न ,दृष्टिकोण हैं ,दृश्य को अदृश्य का ,एहसास चाहिए । संवेदना करेगी,सूक्ष्मता से निरिक्षण ,प्रस्तुत तो आदि -अंत का इतिहास चाहिए ।ये दौर मरुस्थल
05 सितम्बर 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x