"१० वां विश्व हिंदी सम्मेलन" भोपाल में १० से १२ सितंबर तक आयोजित!

11 सितम्बर 2015   |  वर्तिका   (175 बार पढ़ा जा चुका है)

"१० वां विश्व हिंदी सम्मेलन" भोपाल में १० से १२ सितंबर तक आयोजित!

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में तीन दिवसीय "10वें विश्व हिंदी सम्मेलन"आयोजित हो रहा है। इस अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घघाटन प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने माखन लाल चतुर्वेदी नगर, लाल परेड मैदान, भोपाल में किया। १० से १२ सितंबर तक चलने वाले इस सम्मेलन में, देश-विदेश से आये प्रतिनिधि भी शामिल हो रहे हैं । शब्दनगरी टीम को भी इस सम्मेलन में शामिल होने का अवसर प्राप्त हो रहा है। |हिंदी भाषा के सबसे बड़े अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में, हिंदी भाषा के संवर्धन हेतु विभिन्न विषयों पर चर्चा तथा विचार-विमर्श होगा|

ये आयोजन भारत में लगभग 32 साल बाद हो रहा हैं। इस आयोजन में, हर साल देश-विदेश के जाने माने हिंदी साहित्यकार, विद्वान, लेखक, पत्रकार,और हिंदी प्रेमी जुटते हैं। इस आयोजन में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के अलावा देश-विदेश की जाने-माने चेहरे भारत की विदेश मंत्री "सुषमा स्वराज", मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री "शिवराज सिंह चौहान", विदेश राज्य मंत्री जनरल, (डॉ.) विजय कुमार सिंह (सेवानिवृत्त), सदी के महानायक अमिताभ बच्चन भी शामिल हो रहे हैं|

विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन हर चौथे वर्ष भिन्न- भिन्न जगह पर होता है। इस सम्मलेन की शुरुवात, पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी ने 1975 में की थी। पहला विश्व हिंदी सम्मेलन नागपुर के वर्धा में राष्ट्रभाषा प्रचार समिति सहयोग से आयोजित हुआ था।

भोपाल पूरी तरह से विश्व हिंदी सम्मलेन में डूबा हुआ नज़र आ रहा हैं। सड़को पर, हिंदी सम्मेलन के साथ प्रधान मंत्री मोदी के बड़े बड़े कट आउट तथा बैनर नज़र आ रहे हैं|इस सम्मेलन में भाग लेने के लिए, देश-विदेश के विभिन्न प्रतिनिधि भी पधार रहे हैं| इस सम्मलेन में शामिल होने के लिए, बड़ी संख्या में हिंदी के विद्वान भोपाल पहुंच चुके हैं। १२ सितम्बर को आयोजित समापन समोराह में, सदी के महानायक अमिताभ बच्चन भी शिरकत करेंगे|










अगला लेख: महिला सुरक्षा के क्षेत्र में सकारात्मक प्रयास: वूमन पावर लाइन १०९०



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अगस्त 2015
हर-क्षण, हर-पल देश के पैरों को जकड़ती ये आरक्षण की आग,देश का युवा, इसमें जलकर न हो जाये राख,मेहनत और काबिलियत कि कद्र करो तुम, आरक्षण कर देगा सबको खाक,हर दिन एक सुअवसर हैं, इसका मूल्य समझो जनाब,न करो युवाओं को गुमराह तुम,देश के सिपाहियों में भरो उत्साह तुम,ले जाए देश को ये प्रगति पथ पर,ऐसे गीत गुनगुन
31 अगस्त 2015
19 सितम्बर 2015
यादों के भंवर से ,पीछे मुड़ कर देखते हूँ तब याद आता है बचपन,रोजमर्रा ज़िन्दगी से जब ऊब जाती हूँ, तब मुस्कराता है बचपन,स्वछंद हंसी देखती हूँ,तो नटखट ढंग से लजाता है बचपन,चॉकलेट और टॉफ़ी देखती हूँतो मनचले सा मचल जाता है बचपनबस्ता टाँगे, कॉपी लिए किसी बच्चे को जाते देखते हूँ,तब याद आता हैं बचपन,खेल-खिलौन
19 सितम्बर 2015
21 सितम्बर 2015
हिंदी के प्रसिद्ध व्यंगकार एवं हास्य कवि, "काका हाथरसी" के दोहे:अक्लमंद से कह रहे, मिस्टर मूर्खानंद,देश-धर्म में क्या धरा, पैसे में आनंदअँग्रेजी से प्यार है, हिंदी से परहेज,ऊपर से हैं इंडियन, भीतर से अँगरेज#अंतरपट में खोजिए, छिपा हुआ है खोट,मिल जाएगी आपको, बिल्कुल सत्य रिपोट#अंदर काला हृदय है, ऊपर ग
21 सितम्बर 2015
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x