ग़ज़ल -बीते लम्हें

13 सितम्बर 2015   |  अवधेश प्रताप सिंह भदौरिया 'अनुराग'   (319 बार पढ़ा जा चुका है)

ग़ज़ल -बीते लम्हें

आने वाला वक्त अगर, दोहराएगा बीते लम्हें ,
उन्हें पकड़ के रख लूंगा ,जो छूट गए पीछे लम्हें ।

रफ्ता-रफ्ता उमींदों की, चादर जब बुन जायेगी ,
थोडा रूककर के सुस्तायेंगे ,यादों के मीठे लम्हें ।

माँ की उंगली पकड़ ठुमक कर ,चला करेंगे इतराके ,
आयेंगे कल बचपन की ,चंचलता के नीचे लम्हें ।

अभी वक्त है ठहर जरा तू,बतिया ले मन की बातें ,
ना जाने फिर चुप्पी ओढ़े ,आ जाएँ पीछे लम्हें ।

नवयोवन की भाषा सचमुच ,इतनी ज्यादा बदल गई ,
समझ नहीं पाते माँ-बाबा ,बच्चों के खीचे लम्हें ।

नैतिकता औ संस्कार को ,निगल रहा है परिवर्तन ,
हमने जो अरमानो से ,जी भर कर के सींचे लम्हें ।

अगला लेख: समय



आदरणीय अर्चना जी आपकी सकारात्मक प्रितिक्रिया हमारा उत्त्साह बढ़ातीं है ,धन्यवाद!

अर्चना गंगवार
31 अक्तूबर 2015

आने वाला वक्त अगर, दोहराएगा बीते लम्हें ,
उन्हें पकड़ के रख लूंगा ,जो छूट गए पीछे लम्हें ।

बहुत खूब कहा है

शर्माजी बहुत-बहुत धन्यवाद ,आपका प्रोत्साहन ,विचारों को संजीवनी प्रदान करता है !

नैतिकता औ संस्कार को ,निगल रहा है परिवर्तन , हमने जो अरमानो से ,जी भर कर के सींचे लम्हें... बहुत सुन्दर रचना !

माँ की उंगली पकड़ ठुमक कर ,चला करेंगे इतराके ,
आयेंगे कल बचपन की ,चंचलता के नीचे लम्हें । --- सुन्दर । कोमल भावों का चित्रांकन !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2015
साफ़ कर अपनी नज़र,अपना गिरेवाँ देखते हैं , और  कितने लोग हैं ,जो अपना ईमां देखते हैं ।ऐव अक्सर ढूँढना ,दस्तूर है अहले ज़माने का , खुदगर्ज हैं रिश्ते यहां सब अपना अरमाँ देखते हैं काश मिल जाये शकूंने दिल जूनून-ऐ-दौर में ,इसलिए हम दर-बदर अपना नशेमां देखते हैं|  ख्वाब है या कोई हकीक़त कुछ समझ आता नहीं, अपन
03 सितम्बर 2015
14 सितम्बर 2015
अभी शेष है निशा चलो !कुछ देर मचल कर रात गुजारें ।पूछ चुके हैं जाकर दर -दर ,ढूंढ रहे थे जिनको घर-घर,थी जिनकी अभिलाषा मन को ,जहाँ झुके थे प्रणय नमन को ,आज वो ही आये हैं अपनी, परिभाषा लेकर मेरे द्वारे । अभी शेष है निशा चलो !कुछ देर मचल कर रात गुजारें ।
14 सितम्बर 2015
02 सितम्बर 2015
अतिक्रमण कर प्रेमपथ का ,छल गया विश्वास मेरा ।अब अंधेरों में भटकता ,फिर रहा एहसास मेरा ॥रिक्तता की प्यास बुझती, ना हृदय की वेदना ,त्रासदी अन्तःकरण की ,है क्षणिक उत्तेजना , कुंडली सी मारकर,बैठा है कोई पंथ घेरे ,कौन वह ?कर्तव्य पथ कर रहा उपहास मेरा ॥ अतिक्र
02 सितम्बर 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x