सुबह की धूप

15 सितम्बर 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (249 बार पढ़ा जा चुका है)

सुबह की धूप

प्रेम करने के लिए
गढ़ने को
अपने ही वायदे
और पैमाने
ताकि बिना किसी के
सपनों को लांघे
अपने सपनों को
सजाने की जगह मिल जाए ।

-डॉ. वीणा सिन्हा (एम्.डी.)
ई-१०४/५, शिवाजी नगर, भोपाल ।

अगला लेख: आज का शब्द (१२)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 सितम्बर 2015
पल्लवी : १- जड़, तने, शाखा तथा पत्तियों से युक्त बहुवर्षीय वनस्पति,२- नए पत्तों से युक्त३- पेड़, वृक्ष, पादप, तरु प्रयोग : पूजा-गृह के पास पल्लवी पर पीले प्रसून अति सुन्दर प्रतीत हो रहे हैं I
02 सितम्बर 2015
15 सितम्बर 2015
विहग :१- पक्षी२- पखेरू ३- नीड़ज ४- खग५- विहंग प्रयोग : रंग-बिरंगे विहग देखकर बच्चों की खुशी का ठिकाना न रहा ।
15 सितम्बर 2015
15 सितम्बर 2015
'
मैं हिन्दी में ख़ुदा से दुआ करता हूँ दुनिया को हिन्दी से मोहब्बत हो जाए हिंदी में प्यार दें, हिंदी से प्यार लें,जहाँ' के लोगों को इस तरह हिन्दी से प्यार हो जाए,कि जो प्यार हिन्दी, हिन्दुस्तानियों, हिंदी साहित्य के ह्रदय में है गहरा भरा वह विश्व-मानवता की जुबां' का राग, दिलों का तरन्नुम बन जाए ।एक महा
15 सितम्बर 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x