फिर भी जीना लड़की

15 सितम्बर 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (475 बार पढ़ा जा चुका है)

फिर भी जीना लड़की

बच भी जाओगी
केरोसिन में छुआई जाती
तीली की बदबूदार लपट से
पर कैसे बच पाओगी ।
पिता के माथे पर गहरा आई
लकीरों के फंदे से
या तुम्हें पैदा करने के
अपराधबोध से ग्रस्त
माँ की आँखों के अंधे कुएं से
बिटिया,
अब तो माँ की कोख भी
महफूज़ नहीं रही तुम्हारे लिए
जहाँ तैर लेती थी
तुम नौ माह निर्द्वंद्व
तुम्हें तलाशते गंडे-ताबीजों के अलावा
हमारे पास कोटिमान बायोप्सी की
तीखी सलाहें हैं,
अल्ट्रासाउंड की भेदती आँखें हैं,
तुम फिर भी जीना लड़की
जितनी बार मरना
उतनी बार जी जाना
हमारी मृत संवेदनाओं के
।....................... में ।

-डॉ. वीणा सिन्हा (एम्.डी.)
ई-१०४/५, शिवाजी नगर, भोपाल ।

अगला लेख: आज का शब्द (१२)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 सितम्बर 2015
अब भाषा भारत की हिंदी, ऐसी है अलबेली ।ज्यों घन घुमड़े, करे दामिनी घटा मध्य अठखेली ।।आज परिष्कृत शुभ्र सुन्दरी, हो गई हिन्दी भाषा ।कवि, लेखकों, विद्वानों की मिटती ज्ञान पिपासा ।।विकसित हुई आज ये हिन्दी, सब बाधाएँ झेलीं ।अनुपमेय लगती जैसे, अभिसारिका नई नवेली ।।अब भाषा भारत की हिंदी, ऐसी है अलबेली ।ज्यो
15 सितम्बर 2015
22 सितम्बर 2015
निरूपण :1- कोई विचार किसी के सम्मुख प्रस्तुत करने की क्रिया या भाव 2- निर्वचन प्रयोग : भाषा बुद्धि का एक उपकरण है । सम्यक निरूपण या वर्णन का माध्यम है ।
22 सितम्बर 2015
05 सितम्बर 2015
शब्दनगरी मंच पर, आप रोचक तथा ज्वलंत विषयों पर अपने विचारों को मुखर भी कर सकते हैं| विचारों की अभिव्यक्ति को ब्लॉग के माध्यम से करके, आप अपनी बात लाखों लोगों तक पहुंचा सकते हैं|इस मंच के माध्यम से, आप अपने विचारों को कविता, कहानी, संस्मरण का रूप दे सकते हैं| इन लेखों के माध्यम से, आप स्थापित लेखकों क
05 सितम्बर 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x