"घुल जाऊँगा हवाओं में"

20 सितम्बर 2015   |  अवधेश प्रताप सिंह भदौरिया 'अनुराग'   (238 बार पढ़ा जा चुका है)

"घुल जाऊँगा हवाओं में"

मुझको महफूज़ रख, निगाहों में ,
वरना घुल जाऊँगा, हवाओं में ।

गर मेरा हाथ ,तुमने छोड़ दिया,
ढूंढ ना पाओगे , दिशाओं में|

प्रेम-धागों को, यूँ ना तोड़ो यारो,
जोड़ दें वो दम नहीं,दवाओं में |

तुम जो छू लो ,तो सकूँ आये,
याद रख्खुँगा मैं, दुआओं में|

दिल में जज्वात ,कुछ संजो लेना ,
सिर्फ लुटना नहीं,अदाओं में ।


"हो गए बागी सवाल"

वो लोग वतन बेच के,खुशहाल हो गए,
वाशिंदा मेरे मुल्क के,कंगाल हो गए ।
रखना पडा है गिरवी ,आबरू-ईमान को,
बच्चे हमारे भूख से ,बेहाल हो गए ।
रोटी की भूख कम थी ,चारा भी खा गए,
सत्ता में सियासत के,जो दलाल हो गए ।
है मुल्क तरक्की के, दौर-ए-सफ़र में यारो,
कई राम-औ -रहीम के,बिकवाल हो गए ।
लौ कंपकपा रही है,अरमान चिरागों के ,
बड़े शख्त आंधियों के,इकवाल हो गए ।
इक उम्र खर्च की है,इस घर को बनाने में ,
टुकड़ों में बंट गया है, क्या हाल हो गए ।
'अनुराग'चाहिए अब,वाजिव जवाब हमको,
चुप रहते-रहते देखो ,बागी सबाल हो गए ।

अगला लेख: समय



धन्यवाद अनुराग जी

तुम जो छू लो ,तो सकूँ आये,
याद रख्खुँगा मैं, दुआओं में|

सुंदर अभिव्यक्ति !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 सितम्बर 2015
सत्य का आकार तुम हो ,सत्य का आधार तुम हो,सृष्टि की संवेदना में ,शक्ति का संचार तुम हो ।दृष्टी से झरती तुम्हारी ,सूर्य की नव रश्मीयाँ ,तुम प्रकाशित तुमही प्रगति,उपहार तुम हो ।आत्मा में धर्म ,मन ,वाणी ,ह्रदय में संहित ,प्रेम की आराधना ,समृद्धि का उद्दगार तुम हो|सत्य है अक्षय ,प्रगट होकर ,ना क्षय होता
05 सितम्बर 2015
05 सितम्बर 2015
होगा हृदय मंथन ,मगर विश्वास चाहिए,ज्यों अंधकार के लिए,प्रकाश चाहिए ।संभव है नई सृष्टि का,निर्माण तो मगर ,कल्पनाओं को खुला, आकाश चाहिए ।दृष्टि-दृष्टि के विभिन्न ,दृष्टिकोण हैं ,दृश्य को अदृश्य का ,एहसास चाहिए । संवेदना करेगी,सूक्ष्मता से निरिक्षण ,प्रस्तुत तो आदि -अंत का इतिहास चाहिए ।ये दौर मरुस्थल
05 सितम्बर 2015
11 सितम्बर 2015
वो लोग वतन बेच के,खुशहाल हो गए,वाशिंदा मेरे मुल्क के,कंगाल हो गए ।रखना पडा है गिरवी ,आबरू-ईमान को,बच्चे हमारे भूख से ,बेहाल हो गए ।रोटी की भूख कम थी ,चारा भी खा गए,सत्ता में सियासत के,जो दलाल हो गए ।है मुल्क तरक्की के, दौर-ए-सफ़र में यारो,कई राम-औ -रहीम के,बिकवाल हो गए ।लौ कंपकपा रही है,अरमान चिरागों
11 सितम्बर 2015
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x