रहे हनुमान धरा पर

22 सितम्बर 2015   |  वैभव दुबे   (1367 बार पढ़ा जा चुका है)

रहे हनुमान धरा पर

आज 22 सितम्बर को कानपुर में बुढ़वा मंगल बड़ी श्रद्धा और धूमधाम से मनाया जा रहा है।
अन्जनीनंदन,सुख समृद्धि के दाता ,प्रभु श्री राम के अनन्य भक्त श्री हनुमान जी के चरणों में समर्पित कुछ पंक्तियाँ..
बैकुंठ गए सब देव, रहे हनुमान धरा पर।
कलियुग में भी सत्कर्मों का मान धरा पर।

भूत-प्रेत,बाधाएं मिटें, हो भक्ति की विजय।
बल,विवेक,विद्या के दाता बजरंगी की जय।

भक्ति से है भक्तों का स्वाभिमान धरा पर।
कलियुग में भी सत्कर्मों का मान धरा पर।

चैत्र मास की पूनम , पवनसुत ने जन्म लिया।
निज बाल लीलाओं से सूर्य को भी तंग किया।

नाम मिला हनुमान वज्र से चोट खा कर।
कलियुग में भी सत्कर्मों का मान धरा पर।

जामवन्त ने याद कराया जब शक्ति का ज्ञान।
माँ सीता को शीश नवाया,लंका हुई शमशान।

रावण को लज्जित किया लंका जला कर।
कलियुग में भी सत्कर्मों का मान धरा पर।

नागपाश से मूर्क्षित लक्ष्मण राम करें विलाप।
सन्जीवनी संग सुमेरु पर्वत ही ले आये आप!

भक्ति,शक्ति से लक्ष्मण के प्राण बचा कर।
कलियुग में भी सत्कर्मों का मान धरा पर।

पिंगाक्ष,रामेष्ट,केसरीनन्दन आदि नाम तुम्हारे।
इन्सान तो क्या भगवान भी हैं आपके सहारे।

हनुमान आशीष मिले,राम का ध्यान जरा कर।
कलियुग में भी सत्कर्मों का मान धरा पर।

वैभव"विशेष"











अगला लेख: जानूँ मैं



वैभव दुबे
23 सितम्बर 2015

धन्यवाद ओम प्रकाश जी

भक्ति से है भक्तों का स्वाभिमान धरा पर।
कलियुग में भी सत्कर्मों का मान धरा पर.... अति सुन्दर रचना !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
21 सितम्बर 2015
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x