विश्व पर्यटन ही नहीं, भारत पर्यटन दिवस भी मनाएं

29 सितम्बर 2015   |  चंद्रेश विमला त्रिपाठी   (1634 बार पढ़ा जा चुका है)

विश्व पर्यटन ही नहीं, भारत पर्यटन दिवस भी मनाएं

विश्व पर्यटन दिवस, विगत २७ सितम्बर को पूरे विश्व में जोशोखरोश के साथ मनाया गया जिसकी आहट या धूम तो हम कहीं ना कहीं अवश्य महसूस करते है लेकिन भारत पर्यटन दिवस के बारे में अभी हमारे देश ही में जागरूकता एवं लोकप्रियता की भारी कमी है | जरुरत है इसे और लोकप्रिय बनाने की क्योंकि भारत हर प्रकार के पर्यटन का एक महत्वपूर्ण गंतव्य है, जहां पर्यटन आकर्षणों की भरमार है | एक गणतंत्र देश के रूप में भारत के गोल्डन जुबिली समारोह के दौरान भारत की पर्यटन क्षमता को लोकप्रिय बनाने के उद्देश्य से पर्यटन मंत्रालय के विशेष प्रयास द्वारा २५ जनवरी, १९९८ को सर्वप्रथम भारत पर्यटन दिवस मनाया गया, जिसके बाद हर वर्ष २५ जनवरी को अब यह दिन भारत पर्यटन दिवस के रूप में मनाया जाता है, जिसका एकमात्र लक्ष्य है – पर्यटकों के बीच पर्यटन के विविध क्रिया-कलापों से युक्त भारतीय पर्यटन आकर्षणों के प्रति जागरूकता एवं लोकप्रियता को निरंतर बढ़ावा देना | इस कड़ी में इस बार भारत पर्यटन दिवस को भी दरकार है उसके एक से बढ़कर एक पर्यटन आकर्षणों के संरक्षित रूप में नियोजित होने का क्योंकि यही वह अवसर है, जब हम अपने देश के स्वर्णिम इतिहास एवं बहुरंगी संस्कृति के बहुआयामी इन्द्रधनुषी रंगों से ओत-प्रोत विश्वप्रसिद्ध एवं अभिनव पर्यटन आकर्षणों का दीदार कर सकते हैं और इसकी समृद्ध विरासत पर नाज़ कर सकते हैं | इसलिए अब हमें विश्व पर्यटन के साथ ही भारत पर्यटन दिवस को भी बड़े पैमाने पर मनाने के लिए अभी से तैयार हो जाना चाहिए क्योंकि हमारे देश में पर्यटन का हर वो प्रकार है, जो अन्य किसी देश में नहीं मिलेगा और सबसे बढकर यह बात है की भारत का हर पर्यटन आकर्षण स्वयं में एक खोज है ।

अगला लेख: महादलितों को टी वी, छात्राओं को स्कूटी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 सितम्बर 2015
जैसे-जैसे बिहार में विधानसभा चुनावी सरगर्मियां तेज हो रही हैं, वैसे-वैसे लोक-लुभावन वादों की भी घोषणाएं बढ़ती जा रही हैं | इस क्रम में भाजपा नेता श्री सुशील कुमार मोदी के मुंगेर के असरगंज चुनावी सभा में ऐलान उल्लेखनीय है जिसमे उन्होंने कहा कि बिहार में एन डी ए की सरकार बनने पर महादलितों को टी वी, छात
30 सितम्बर 2015
05 अक्तूबर 2015
बिहार विधानसभा में नेताओं की बदजुबानी थमने का नाम नहीं ले रही | ताजा मामलायह है कि आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुस्लिमीन के नेता असदुद्दीन ओवैसी नेकिशनगंज में अपनी चुनावी रैली के दौरान प्रधानमंत्री सहित कई नेताओं के खिलाफआपत्तिजनक बयान दिए | पी एम को तो ओवैसी ने शैतान व जालिम तक कह डाला | गौरतलब ह
05 अक्तूबर 2015
01 अक्तूबर 2015
ज्यों-ज्यों बिहार में चुनावी तारीख करीब आती जा रही है, त्यों-त्यों नेताओं की बदजुबानी भी बढ़ती जा रही है | ज्ञातव्य है कि बेगूसराय में जहां भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आर जे डी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को “चारा चोर” कहा तो एक चुनावी सभा में इसका पलटवार करते हुए लालू प्रसाद यादव ने अमित शाह को “नरभक्षी
01 अक्तूबर 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x