सुक्ष्म शरीर और आप

16 अक्तूबर 2015   |  ॐ गुरु   (620 बार पढ़ा जा चुका है)

सुक्ष्म शरीर और आप

     हमारी जिंदगी इस जवानी में उलझ-उलझ कर मर जाती है और बुडापा आया हाथ पेरो में जोश नहीं , शरीर में ताकत नहीं. बूढ़े बन गए, रहा सहा बेटे बेटी खा जाते है. कहते है ऐ. पिताजी ये दो पिताजी वो दो, मुझको संपत्ति में हिस्सा दो और जीवन हाई हाय करते करते छूट जाता है. पल्ले क्या आता है. कुछ भी आपके पल्ले नहीं आता है. खाली हाथ आये और खाली हाथ चले जाओगे ये ही खेल है. “जीवस्य जीव योग भोजनं ” अब इस खेल से बाहर निकलना चाहते हो. जैसे साधू संत निकल जाते है इस खेल से बाहर | बाबा बन जाते हैं सब कुछ छोड़ जाते है. लेकिन फिर आके उलझ गए तो फस गए, मर गए. सरल नहीं है. अब आपको भगवत ज्ञान सुनते सुनते कई वर्ष हो गए है ना . अच्छी बात है. ये आपका शरीर देख रहे हो ना. ये शरीर एक ढांचा है. जैसे की जो कार है ये एक ढांचा ही तो है. इसमें ड्राईवर बठेगा तो गाडी चलेगी. इसी तरह आपका शरीर भी एक ढांचा है. इसका ड्राईवर अलग है. वो है मनीराम है. क्या नाम है उसका? मनीराम मतलब “मन”. ये शरीर तो ढांचा मात्र है. और कुछ नहीं है. ये ढांचा गड़बड़ सड़बड होता है तो बीमार आदि होता है. सुक्षम शरीर दूसरा है. इसके अन्दर दूसरा शरीर है. वो सबसे ज्यादा ताकतवर है. इस शरीर से भी ज्यादा ताकतवर है. इसको वही चलाता है. इस ढाँचे को कौन चलाता है ? अन्दर का शरीर. दिखता है क्या ? नहीं दीखता ! अब चार चीजे इसमें बड़ी गहराई से सोचना. इस ढाँचे को चलाने वाला कौन ?  “मन, चित, बुद्धि और अहंकार” समझ रहे हो ना ? अगर ये चार चीजें आपको समझ में आ गई तो आत्मज्ञान समझ में आ जाएगा. और ये चार ही चीजे आपको समझ में नहीं आई तो औंकार सुनो ! हरी नमः करो पर इस ढाँचे से कभी भी मोक्ष नहीं मिलता है हामारे शरीर के अन्दर मन बुद्धि चित और अहंकार हैं जिन्हें समझ कर उन पर विजय पाना आवश्यक हैं. 

अगला लेख: भवसागर का विचित्र खेल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x