ओ घोड़ी पर बैठे दूल्हे क्या हँसता है! ( हास्य कविता )

17 अक्तूबर 2015   |  वर्तिका   (681 बार पढ़ा जा चुका है)

ओ घोड़ी पर बैठे दूल्हे क्या हँसता है! ( हास्य कविता )

ओ घोड़ी पर बैठे दूल्हे क्या हँसता है!!

देख सामने तेरा आगत मुँह लटकाए खड़ा हुआ है .

अब हँसता है फिर रोयेगा ,

शहनाई के स्वर में जब बच्चे चीखेंगे.

चिंताओं का मुकुट शीश पर धरा रहेगा.

खर्चों की घोडियाँ कहेंगी आ अब चढ़ ले.

तब तुझको यह पता लगेगा,

उस मंगनी का क्या मतलब था,

उस शादी का क्या सुयोग था.


अरे उतावले!!

किसी विवाहित से तो तूने पूछा होता,

व्याह-वल्लरी के फूलों का फल कैसा है.

किसी पति से तुझे वह बतला देगा,

भारत में पति-धर्म निभाना कितना भीषण है,

पत्नी के हाथों पति का कैसा शोषण है.


ओ रे बकरे!!

भाग सके तो भाग सामने बलिवेदी है.

दुष्ट बाराती नाच कूद कर,

तुझे सजाकर, धूम-धाम से

दुल्हन रुपी चामुंडा की भेंट चढाने ले जाएँगे.

गर्दन पर शमशीर रहेगी.

सारा बदन सिहर जाएगा.

भाग सके तो भाग रे बकरे,

भाग सके तो भाग.


ओ मंडप के नीचे बैठे मिट्टी के माधो!!

हवन नहीं यह भवसागर का बड़वानल है.

मंत्र नहीं लहरों का गर्जन,

पंडित नहीं ज्वार-भाटा है.

भाँवर नहीं भँवर है पगले.

दुल्हन नहीं व्हेल मछली है.

इससे पहले तुझे निगल ले,

तू जूतों को ले हाथ में यहाँ से भग ले.

ये तो सब गोरखधंधा है,

तू गठबंधन जिसे समझता,

भाग अरे यम का फंदा है.


ओ रे पगले!!

ओ अबोध अनजान अभागे!!

तोड़ सके तो तोड़ अभी हैं कच्चे धागे.

पक जाने पर जीवन भर यह रस्साकशी भोगनी होगी.

गृहस्थी की भट्टी में नित कोमल देह झोंकनी होगी.


अरे निरक्षर!!

बी. ए., एम. ए. होकर भी तू पाणी-ग्रहण

का अर्थ समझने में असफल है.

ग्रहण ग्रहण सब एक अभागे.

सूर्य ग्रहण हो, चन्द्र ग्रहण हो,

पाणी ग्रहण हो.

ग्रहण ग्रहण सब एक अभागे.

तो तोड़ सके तो तोड़ अभी हैं कच्चे धागे

और भाग सके तो भाग यहाँ से जान छुड़ाके.

                          ----

ओम प्रकाश 'आदित्य'

अगला लेख: नवरात्रि क्विज़!



रेणु
06 मई 2017

बहुत रोचक रचना है --

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अक्तूबर 2015
जो
[6/10 06:51] dinesh chaudhary: मेरा वजूद नहीं किसी तलवार और तख़्त ओ ताज का मोहताज में अपने हुनर और होंठो की हंसी से लोगो के दिल पे राज करता हैं..[6/10 06:51] dinesh chaudhary: बुरे हैं ह़म तभी तो ज़ी रहे हैं.. अच्छे होते तो द़ुनिया ज़ीने नही देती.[6/10 06:52] dinesh chaudhary: मेरी हिम्मत को परखने
06 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
पंडित जी, मेरी शादी को पांच साल हो गए, पर एक भी बच्चा नहीं हुआ है।पंडित: मैं बद्रीनाथ में तुम्हारे नाम का दीया जलाऊंगा, जिससे तुम्हारी मनोकामना पूरी होगी।10 साल बाद, पंडित उसके घर गया। घर में 10 बच्चे थे।पंडित: मुबारक हो, बच्चों के पापा कहां हैं?पत्नी: बद्रीनाथ गए हैं, दीया बुझाने।
06 अक्तूबर 2015
29 अक्तूबर 2015
करवाचौथ पर सुहागिन महिलाओं को रहता हैं, चाँद का इंतज़ार! इस दिन सुहाग के सभी प्रतीकों से सुसज्जित होकर, महिलाएं चाँद का घण्टों इंतज़ार करती हैं। चाँद के दीदार के बाद ही पूजन विधि संपन्न कर महिलाएं अपना व्रत खोलती है। सुहागनों के लिए ये पर्व अत्यंत महत्वपूर्ण हैं, इस दिन ये अपनी पति की लम्बी आयु के ल
29 अक्तूबर 2015
09 अक्तूबर 2015
जो
एक लड़के की माँ को पता चल गया की उसका बेटा बार डांस में गया था...माँ ने पहले तो लड़के को खूब डांटा और फिर बोली - अच्छा ये बताओ.....तुमने वहां पर कोई ऐसी चीज तो नहीं देखी जोतुम्हे नहीं देखनी चाहिए थी "लड़का - " हाँ देखी,वहाँ😄 पिताजी भी बैठे हुए थे "
09 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
पंडित जी, मेरी शादी को पांच साल हो गए, पर एक भी बच्चा नहीं हुआ है।पंडित: मैं बद्रीनाथ में तुम्हारे नाम का दीया जलाऊंगा, जिससे तुम्हारी मनोकामना पूरी होगी।10 साल बाद, पंडित उसके घर गया। घर में 10 बच्चे थे।पंडित: मुबारक हो, बच्चों के पापा कहां हैं?पत्नी: बद्रीनाथ गए हैं, दीया बुझाने।
06 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
[6/10 06:51] dinesh chaudhary: मेरा वजूद नहीं किसी तलवार और तख़्त ओ ताज का मोहताज में अपने हुनर और होंठो की हंसी से लोगो के दिल पे राज करता हैं..[6/10 06:51] dinesh chaudhary: बुरे हैं ह़म तभी तो ज़ी रहे हैं.. अच्छे होते तो द़ुनिया ज़ीने नही देती.[6/10 06:52] dinesh chaudhary: मेरी हिम्मत को परखने
06 अक्तूबर 2015
14 अक्तूबर 2015
फादर ने बनवा दिये तीन कोट¸ छै पैंट¸लल्लू मेरा बन गया कालिज स्टूडैंट।कालिज स्टूडैंट¸ हुए होस्टल में भरती¸दिन भर बिस्कुट चरें¸ शाम को खायें इमरती।कहें काका कविराय¸ बुद्धि पर डाली चादर¸मौज कर रहे पुत्र¸ हडि्डयां घिसते फादर।पढ़ना–लिखना व्यर्थ हैं¸ दिन भर खेलो खेल¸होते रहु दो साल तक फस्र्ट इयर में फेल।फस
14 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
सूचना क्रांति के क्षेत्र में इंटरनेट ने अहम भूमिका निभायी है। एक ओर तो इंटरनेट ने स्काइप और व्हाट्स एप के माध्यम से लोगों के बीच की दूरियां ख़त्म की है वही दूसरी ओर इंटरनेट ने रिश्तों में कही न कही दूरियां बढ़ा दी हैं । लोगों के बीच बढ़ती हुई संवादहीनता एवं मानसिक बीमारियां इसी का परिणाम है। बचपन भी इं
06 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
ससुर: तुम दारू पियत हो, कबहूं बताए नाहीं!दामाद: तोहार लड़की खून पियत है, तुम बताए का?
06 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
पंडित जी, मेरी शादी को पांच साल हो गए, पर एक भी बच्चा नहीं हुआ है।पंडित: मैं बद्रीनाथ में तुम्हारे नाम का दीया जलाऊंगा, जिससे तुम्हारी मनोकामना पूरी होगी।10 साल बाद, पंडित उसके घर गया। घर में 10 बच्चे थे।पंडित: मुबारक हो, बच्चों के पापा कहां हैं?पत्नी: बद्रीनाथ गए हैं, दीया बुझाने।
06 अक्तूबर 2015
14 अक्तूबर 2015
फादर ने बनवा दिये तीन कोट¸ छै पैंट¸लल्लू मेरा बन गया कालिज स्टूडैंट।कालिज स्टूडैंट¸ हुए होस्टल में भरती¸दिन भर बिस्कुट चरें¸ शाम को खायें इमरती।कहें काका कविराय¸ बुद्धि पर डाली चादर¸मौज कर रहे पुत्र¸ हडि्डयां घिसते फादर।पढ़ना–लिखना व्यर्थ हैं¸ दिन भर खेलो खेल¸होते रहु दो साल तक फस्र्ट इयर में फेल।फस
14 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
ससुर: तुम दारू पियत हो, कबहूं बताए नाहीं!दामाद: तोहार लड़की खून पियत है, तुम बताए का?
06 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
ससुर: तुम दारू पियत हो, कबहूं बताए नाहीं!दामाद: तोहार लड़की खून पियत है, तुम बताए का?
06 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
ससुर: तुम दारू पियत हो, कबहूं बताए नाहीं!दामाद: तोहार लड़की खून पियत है, तुम बताए का?
06 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
पंडित जी, मेरी शादी को पांच साल हो गए, पर एक भी बच्चा नहीं हुआ है।पंडित: मैं बद्रीनाथ में तुम्हारे नाम का दीया जलाऊंगा, जिससे तुम्हारी मनोकामना पूरी होगी।10 साल बाद, पंडित उसके घर गया। घर में 10 बच्चे थे।पंडित: मुबारक हो, बच्चों के पापा कहां हैं?पत्नी: बद्रीनाथ गए हैं, दीया बुझाने।
06 अक्तूबर 2015
09 अक्तूबर 2015
जो
एक लड़के की माँ को पता चल गया की उसका बेटा बार डांस में गया था...माँ ने पहले तो लड़के को खूब डांटा और फिर बोली - अच्छा ये बताओ.....तुमने वहां पर कोई ऐसी चीज तो नहीं देखी जोतुम्हे नहीं देखनी चाहिए थी "लड़का - " हाँ देखी,वहाँ😄 पिताजी भी बैठे हुए थे "
09 अक्तूबर 2015
29 अक्तूबर 2015
करवाचौथ पर सुहागिन महिलाओं को रहता हैं, चाँद का इंतज़ार! इस दिन सुहाग के सभी प्रतीकों से सुसज्जित होकर, महिलाएं चाँद का घण्टों इंतज़ार करती हैं। चाँद के दीदार के बाद ही पूजन विधि संपन्न कर महिलाएं अपना व्रत खोलती है। सुहागनों के लिए ये पर्व अत्यंत महत्वपूर्ण हैं, इस दिन ये अपनी पति की लम्बी आयु के ल
29 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
[6/10 06:51] dinesh chaudhary: मेरा वजूद नहीं किसी तलवार और तख़्त ओ ताज का मोहताज में अपने हुनर और होंठो की हंसी से लोगो के दिल पे राज करता हैं..[6/10 06:51] dinesh chaudhary: बुरे हैं ह़म तभी तो ज़ी रहे हैं.. अच्छे होते तो द़ुनिया ज़ीने नही देती.[6/10 06:52] dinesh chaudhary: मेरी हिम्मत को परखने
06 अक्तूबर 2015
27 अक्तूबर 2015
<!--[if !mso]><style>v\:* {behavior:url(#default#VML);}o\:* {behavior:url(#default#VML);}w\:* {behavior:url(#default#VML);}.shape {behavior:url(#default#VML);}</style><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatti
27 अक्तूबर 2015
06 अक्तूबर 2015
जो
पंडित जी, मेरी शादी को पांच साल हो गए, पर एक भी बच्चा नहीं हुआ है।पंडित: मैं बद्रीनाथ में तुम्हारे नाम का दीया जलाऊंगा, जिससे तुम्हारी मनोकामना पूरी होगी।10 साल बाद, पंडित उसके घर गया। घर में 10 बच्चे थे।पंडित: मुबारक हो, बच्चों के पापा कहां हैं?पत्नी: बद्रीनाथ गए हैं, दीया बुझाने।
06 अक्तूबर 2015
27 अक्तूबर 2015
ओ घोड़ी पर बैठे दूल्हे क्या हँसता है!!देख सामने तेरा आगत मुँह लटकाए खड़ा हुआ है .अब हँसता है फिर रोयेगा ,शहनाई के स्वर में जब बच्चे चीखेंगे.चिंताओं का मुकुट शीश पर धरा रहेगा.खर्चों की घोडियाँ कहेंगी आ अब चढ़ ले.तब तुझको यह पता लगेगा,उस मंगनी का क्या मतलब था,उस शादी का क्या सुयोग था.अरे उतावले!!किसी
27 अक्तूबर 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
जो
06 अक्तूबर 2015
जो
09 अक्तूबर 2015
जो
06 अक्तूबर 2015
जो
09 अक्तूबर 2015
जो
06 अक्तूबर 2015
जो
06 अक्तूबर 2015
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x