स्वीकृति

28 अक्तूबर 2015   |  ओम प्रकाश शर्मा   (130 बार पढ़ा जा चुका है)

स्वीकृति

पहले हर अच्छी बात का मज़ाक बनता है, फिर विरोध होता है और फिर उसे स्वीकार लिया जाता है । 


स्वामी विवेकानन्द


अगला लेख: आओ सीखें शब्द (10)



रेणु
20 फरवरी 2017

जी बिलकुल ओम जी

उषा यादव
05 नवम्बर 2015

प्रेरक विचार !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अक्तूबर 2015
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
29 अक्तूबर 2015
10 नवम्बर 2015
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:ValidateAgainstSchemas> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXML
10 नवम्बर 2015
17 अक्तूबर 2015
गुरु सों ज्ञान जू लीजिए, सीस दीजिए दान । बहुतक भोंदू बहि गए, राखि जीव अभिमान ।।   गुरु से ज्ञान पाने के लिए अपना शीश भी काटकर अर्पित कर दिया जाए तो वह भी कमहै, अर्थात ज्ञान के लिए परम समर्पण आवश्यक है । जो इसके विपरीत सोचते हैं, वे मूर्खऔर अभिमानी होते हैं । उनका कभी उद्धार नहीं होता । संत कबीरदास
17 अक्तूबर 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
04 नवम्बर 2015
09 नवम्बर 2015
23 अक्तूबर 2015
17 अक्तूबर 2015
04 नवम्बर 2015
16 अक्तूबर 2015
20 अक्तूबर 2015
30 अक्तूबर 2015
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x