“अंतराग्नि-2015” में “शब्दनगरी” की हुई विशेष सराहना.....

03 नवम्बर 2015   |  चंद्रेश विमला त्रिपाठी   (152 बार पढ़ा जा चुका है)

“अंतराग्नि-2015”  में “शब्दनगरी” की हुई विशेष सराहना..... - शब्द (shabd.in)


विगत 29 अक्टूबर को आई.आई.टी.-कानपुर के अति प्रसिद्ध वार्षिक सांस्कृतिक महोत्सव “अंतराग्नि-2015” का रंगारंग आगाज़ अमित त्रिवेदी, नीति मोहन और दिव्य कुमार जैसे संगीत के सितारों की शानदार सांगीतिक प्रस्तुति के जरिये हुआ, जिसका विधिवत समापन 1 नवम्बर की गुलाबी ठंडी रात में प्रख्यात पार्श्वगायिका सुनिधि चौहान की दमदार गायिकी के साथ हुआ | 4 दिनों के इस भव्य आयोजन में देश-विदेश के विभिन्न क्षेत्रों के नामचीन शख्सियतों के साथ ही विशिष्ट कॉलेजों, विश्वविद्यालयों के प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं ने एक से बढ़कर एक रोचक प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेकर अपने हुनर का लोहा मनवाया | ज्ञातव्य है कि “अंतराग्नि-2015” के स्पांसर्स (आयोजकों) में से एक “शब्दनगरी” इस खास महोत्सव के ‘हिंदी लिटररी इवेंट्स’ का “टाइटल स्पांसर” अर्थात “शीर्षक आयोजक” रहा जिसके अंतर्गत 6 प्रतियोगितायें (काव्यांजलि, किरदार, आमने-सामने, दृष्टिकोण, इशारों-इशारों में एवं शब्दरंग) हुईं, जिनमें जजेज मृदुला शुक्ला, माया मृग, रामजी तिवारी एवं विवेक मिश्रा की उपस्थिति में छात्र-छात्राओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया | इन प्रतियोगिताओं में चयनित प्रतियोगियों को “शब्दनगरी” के संयोजक एवं निदेशक श्री निखिल तिवारी एवं टीम ने पुरस्कृत कर प्रशस्ति-पत्र भी प्रदान किया | वहीं “अंतराग्नि-2015” के तीसरे दिन हुए ‘कवि-सम्मेलन’ में शामिल ख्याति-प्राप्त हस्तियों जैसे राहत इंदौरी, अरुण जेमिनी, सुमन दुबे, कुमार मनोज जैसे मूर्धन्य कवि-कवियत्री को “शब्दनगरी” ने स्मृति-चिन्ह देकर सम्मानित किया | उल्लेखनीय है कि “अंतराग्नि-2015” के विविध कार्यक्रमों, प्रतियोगिताओं, स्टाल्स में शामिल “शब्दनगरी” की प्रसिद्ध लोगों के साथ ही छात्र-छात्राओं एवं सामान्य-जनों द्वारा इसकी नवोन्मेषी अवधारणा के कारण मुक्त-कंठ से विशेष सराहना हुई |

अगला लेख: “इमाम हुसैन की शहादत की इबादत है”, मुहर्रम



अनेकानेक बधाइयाँ शब्द नगरी संगठन .........

बधाई हो बधाई ।.. इसी तरह द्रुत गति से बढ़ते रहें

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अक्तूबर 2015
अल्लाह के रसूल (मैसेंजर) पैगंबर मोहम्मद के नाती “इमाम हुसैन” और उनके अनुयायिओंकी शहादत की याद में मुहर्रम मनाया जाता है। यह कोई पर्व नहीं वरन मातम का दिन है।वास्तव में, मुहर्रम हिजरी संवत का प्रथम महीना है, जिसमें शिया मुस्लिमदस दिन तक इमाम हुसैन की याद में शोक मनाते हैं। मातम के दस दिनों के आख़िरी व
24 अक्तूबर 2015
22 अक्तूबर 2015
                       आज के युग में भगवानश्रीराम के आदर्श विश्व शांति के लिए निश्चय ही वरदान हैं | आज भी हम भगवान श्री राम के आदर्शों पर चलनेवाले संतान की ही अभिलाषा रखते हैं | वस्तुतः भगवानश्री राम का पूरा जीवन एक सामान्य व्यक्ति के लिए एक पावन ग्रन्थ है, जिसमें सुख-दुःख, संघर्ष इत्यादिमानवीय संवे
22 अक्तूबर 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x