आवाज़

17 नवम्बर 2015   |  aradhana   (161 बार पढ़ा जा चुका है)

आवाज़
--------------------------------------------
उन के दरों -दीवार की बातें करें
दिल से दिल मिलाने की बातें करें
---------------------------------------------
कल तलक रहे बिल्कुल बे- आवाज़
आज उन के दीदार की बातें करें
---------------------------------------------------
ज़मी चुप है,आसमां बड़ा खामोश
सख्त होते हालात की बातें करें
------------------------------------------------------
मातम का होता है बस इक बहाना
शब-ए -गम में क्या मौंत की बातें करें
-------------------------------------------------------
हर एक कोई होता नहीं है मेहरबान
बेरहम दुनियाँ की क्या बातें करें
--------------------------------------------------------
दुख से मिलकर दुख का बादल छँटता
माँ के आँचल के सकूँ की बातें करें
--------------------------------------------------------------
भूख से ऊंचा रहेगा सदा ही ईमान
बेबसी, भूख की क्या बातें करें
------------------------------------------------------------------
हम भी है कायल तेरे ए आसमान
"अरु" देश के बदहालात की क्या बातें करें
---------------------------------------------------
आराधना राय "अरु"

अगला लेख: बदल जाएगी



वर्तिका
18 नवम्बर 2015

बहुत उम्दा, आराधना जी!

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x