मुफ्त में हमें कभी कुछ नहीं मिलता |

10 दिसम्बर 2015   |  सत्यदेव तिवारी   (838 बार पढ़ा जा चुका है)

मुफ्त में हमें कभी कुछ नहीं मिलता |

                            मुफ्त में हमें कभी कुछ नहीं मिलता | हम जितनी मेहनत करते है , उसी के अनुसार हमें फल मिलता है |इसलिए बिना कुछ किए पाने की उम्मीद को छोड़कर खुद को कार्य के लिए तैयार करे | जितने वाले अपनी मेहनत विस्वास के बल पर सफलता हासिल कर लेते है |

                                जो लोग हार जाते है पीछे रह जाते है वे अपनी हार की वजह दुसरो को ठहरा देते है | हर समय बहाने बनाकर अपनी कमियों को छुपाने की कोशिश करते है |


काश ! मुझे भी मौका मिला होता |

यह काम मेरे करने लायक नहीं है |

मेरे पास वक्त नहीं है |

मुझे किसी ने सहारा नहीं दिया |

मै ज्यादा लोगो को नहीं जानता |

मै कम पढ़ा – लिखा हूँ |

                        असफल लोगो के पास तो बहानो की सूची मिल जायेगी | लेकिन यदि आप सफल होना चाहते है तो बहानो से खुद को बचाइए | काम सिर्फ सोच –विचार कर नहीं पूरी तैयारी ,योजना और विस्वास के साथ करे ताकि हम खुद को बहानेबाजी से दूर रख सके और अपना लक्ष्य पा सके |  


अगला लेख: हमारे साथ हमेशा अच्छा ही होता है |



प्रियंका शर्मा
11 दिसम्बर 2015

लेख के लिए , शुक्रिया । पढ़ कर अच्छा लगा

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x