उन्नति की ठाना कर

28 जनवरी 2015   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (195 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रेरक गीत -उन्नति की ठाना कर
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
उन्नति की ठाना कर ,खुद को भी तू जाना कर |
खुद्दारी से जीना है तो , प्रेम का रस पीना है तो ,
अपनी हार न माना कर |
उन्नति की ठाना कर |खुद को भी तू जाना कर ||
सृजन करना तू हटकर,मेहनत करना तू डटकर |
कष्टों के संग तू रह कर,जीना चमनों सा खिल कर ||
जनता में तू जोश जगा ,जरुरत पड़े तो रोष जगा |
ईमान की नयी रीत बना,अपनी हार को जीत बना ||
जिन्दगी बहुत ही फानी है,तू नहीं यह बहाना कर |
उन्नति की ठाना कर ,खुद को भी तू जाना कर ||
धारा के संग तू बहकर , नयी बात नहीं कह कर |
घिसीपिटी जिन्दगी जी कर,मरना नहीं आँसूं पी कर||
ईमान की तू अलख जगा ,भ्रष्टाचार का भूत भगा |
खोज की तू लगन लगा ,उत्कर्ष की तू उमंग जगा ||
संतों की यह बानी है ,उनकी बात भी माना कर |
उन्नति की ठाना कर ,खुद को भी तू जाना कर ||
ये जो मित्रों शोहरत है ,यह तो नेकी की छत है |
संघर्षों से मिलती है ,प्रयासों पर पलती है ||
पाना इसे लियाकत से ,बचा इसे निज ताकत से |
तू है अगर सही पथ पर,तो चिन्ता नहीं कर गत पर ||
या तो तू अर्पित हो जा ,या सबको तू अर्पित कर |
उन्नति की ठाना कर ,खुद को भी तू जाना कर ||
खुद्दारी से जीना है तो ,प्रेम का रस पीना है तो ,
अपनी हार न माना कर |
उन्नति की ठाना कर |खुद को भी तू जाना कर ||
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

अगला लेख: हमारी हिन्दी,हमारा गौरव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 जनवरी 2015
बो
@@@@@ बो विश्वगुरु भारत देश कठे @@@@@ ******************************************************* मानवता है धर्म जकारो ,बे मिनख भलेरा आज कठे | भ्रष्टाचार ने रोक सके , इसो भलेरो राज कठे || पति रो दुखड़ो बाँट सके ,बा सती सुहागण नार कठे| घर ने सरग बणा सके ,बा लुगाई पाणीदार कठे || लुगाई ने सम्भाळ सके ,बो मर्
31 जनवरी 2015
29 जनवरी 2015
@@@@@@ परिस्थिति का प्रभाव @@@@@@ *********************************************************** परिस्थिति किसी काम को ,कितना बदल देती है | एक जगह जो समस्या होती ,हल दूजी जगह कर देती है || जाती -रंजिश से की गयी हत्या,सजा का कारण बनती है | पर सीमा पर दुश्मन की हत्या,सम्मान की वजह बनती है || जो काम निज प
29 जनवरी 2015
31 जनवरी 2015
@
@@@@@@@@- नारी- @@@@@@@@ इस दुनिया की शोभा है , इस दुनिया की रौनक है | खुश रखें सदा इसको ,रचा कुदरत ने है जिसको || जिसकी दीवानी सृष्टि सारी,वो नारी है कहलाती | बुझे -बुझे मर्दों का मन ,नारी ही तो बहलाती || घर में पायल खनकाती ,मन का मोर नचवाती | पतली कमर लचकाती ,प्यार में आकर इठलाती || इस दुनिया की श
31 जनवरी 2015
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x