गरीबी को डर बस भूख का है

17 दिसम्बर 2015   |  वैभव दुबे   (355 बार पढ़ा जा चुका है)

बारिश भिगाती रही मगर गरीबी को डर बस भूख का है

गर्मी भी सताती रही मगर गरीबी को डर बस भूख का है

सर्दी कंपकंपाती रही मगर गरीबी को डर बस भूख का है

मौसम से अमीरी ही डरी, गरीबी को डर बस भूख का है


कोई सत्ता में आया,छाया गरीबी को डर बस भूख का है

किसी ने सिंहासन गवांया गरीबी को डर बस भूख का है

व्यस्त सब सियासी खेल में गरीबी को डर बस भूख का है

क्यों कोई पूछने नहीं आया गरीबी को डर बस भूख का है


बन गए कई स्कूल नए मगर गरीबी को डर बस भूख का है

कैसे आखिर बच्चे पढ़ें,बढ़ें गरीबी को डर बस भूख का है

करने लगे हैं काम नन्हें हाथ गरीबी को डर बस भूख का है

पेट,पीठ में मिला पानी पी लिया,गरीबी को डर बस भूख का है


महल बनते रहे,ठिकाना नहीं,गरीबी को डर बस भूख का है

फुटपाथ पर ही रह लेंगे कहीं,गरीबी को डर बस भूख का है

कुचल जायेगा कोई वाहन मगर गरीबी को डर बस भूख का है

अमीरी फिर जीत जायेगी मगर गरीबी को डर बस भूख का है


घृणा से देखती कई नज़रें मगर गरीबी को डर बस भूख का है

दया से देखती कई नज़रें मगर गरीबी को डर बस भूख का है

खुल गए पैबन्द कपड़ों के मगर गरीबी को डर बस भूख का है

हवस से देखती कई नज़रें मगर गरीबी को डर बस भूख का है


चलो भूखों को खिलाएं फिर न गरीबी को डर बस भूख का है

उदास चेहरे पे हँसी लाएं फिर न गरीबी को डर बस भूख का है

ऐ इंसान डरो तो सही उस रब से गरीबी को डर बस भूख का है

दिल को मिलेगा सुकून कि अब न गरीबी को डर बस भूख का है


वैभव दुबे


अगला लेख: नववर्ष मंगलमय हो



बहुत प्रासंगिक एवं प्रभावपूर्ण रचना !

वैभव दुबे
17 दिसम्बर 2015

हार्दिक धन्यवाद प्रियंका जी

प्रियंका शर्मा
17 दिसम्बर 2015

बेहद गहरी रचना

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
18 दिसम्बर 2015
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x