सपनों में आ जाना तुम

29 जनवरी 2015   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (201 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@ सपनों में आ जाना तुम @@@@@
*******************************************************
"नाज"पर हो नाज मुझको ,ऐसा साज बजाना तुम |
तुम आज यह क्या जानो ,कितना बड़ा खजाना तुम ||
जब जरुरत पड़े मुझको तो ,सपनों में आ जाना तुम |
बस कर के मेरे दिल में ,नहीं लौट के जाना तुम ||
मेरे साथ मीठे सुर में , गीत प्रेम के गाना तुम |
नहीं रूठना कभी भी मुझसे,न देना मुझको ताना तुम ||
धीरज रखना तुम हमेशा ,नहीं कभी घबराना तुम |
कट जाएगें कष्ट तुम्हारे ,ये बात दिल में लाना तुम ||
मेरे मन -मंदिर की देवी ,हर महफ़िल में आना तुम |
काव्य-पाठ के हर मौके पर,सम्मान हमेशा पाना तुम ||
सुर -सरिता की पावन गंगा ,घर -घर में बहाना तुम |
ज्ञान का प्रकाश फैला कर ,नयी चेतना लाना तुम ||
अपनी काव्य -प्रतिभा से , कर देना दीवाना तुम |
सितारा बन कर सारे जग का,दुनिया में छा जाना तुम ||
ईमान की मिसाल बन कर ,जनता को जगाना तुम |
मेरी प्रेम -पुकार सुनकर , मुझसे प्रेम जताना तुम ||
समता की पहचान बन कर, भेद-भाव भगाना तुम|
नारी-शक्ति को प्रेरित कर, नया जोश जगाना तुम ||
मेरे दिल से जाने का , करना नहीं बहाना तुम |
जब जरुरत पड़े मुझको तो ,सपनों में आ जाना तुम ||
********************************************************

अगला लेख: उन्नति की ठाना कर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जनवरी 2015
प्रेरक गीत -उन्नति की ठाना कर @@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ उन्नति की ठाना कर ,खुद को भी तू जाना कर | खुद्दारी से जीना है तो , प्रेम का रस पीना है तो , अपनी हार न माना कर | उन्नति की ठाना कर |खुद को भी तू जाना कर || सृजन करना तू हटकर,मेहनत करना तू डटकर | कष्टों के संग तू रह कर,जीना चमनों सा खिल कर || जनता मे
28 जनवरी 2015
31 जनवरी 2015
भ्रूणहत्या पर कटाक्ष करती कविता - @@@@@@ अजन्मी कन्या के मार्मिक वचन @@@@@@ ********************************************************************* भ्रूण -परीक्षण से गुजर चुकी गर्भवती नारी, गहरी नींद में स्वप्न देखते सुन रही है , उदगार अपने गर्भ में पल रही बेटी के | जो कह रही है उससे , मम्मा में नहीं
31 जनवरी 2015
29 जनवरी 2015
हि
क्रान्ति-कविता --"हिन्द ने तुम्हे पुकारा है" ********************************************************* भारत की पावन धरती पर ,हर गरीब शरीफ बेचारा है | क्रान्ति का बिगुल बजा तू ,कि हिन्द ने तुम्हे पुकारा है || महँगाई की सुरसा ने , अपना रूप विकराल किया | भ्रष्टाचार के भस्मासुर ने ,जन -जन को बेहाल किया
29 जनवरी 2015
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x