सत्ताहीन राजनेता का हाल

31 जनवरी 2015   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (225 बार पढ़ा जा चुका है)

सत्ता यानी कुर्सी के बिना एक राजनेता की दशा का चित्रण करता गीत -
************************************************************************
तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
तेरे बिन ,तेरे बिन ,अपना हाल |
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
ज्यों अकल बिन इन्सान जिया |ज्यों आदर बिन मेहमान जिया ||
ज्यों हिन्दी बिन हिन्दुस्तान जिया |ज्यों भक्त बिना भगवान् जिया ||
और साली बिन,और साली बिन, ज्यों सुसराल |
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
तेरे बिन ,तेरे बिन ,अपना हाल |
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
ज्यों जेब बिना कोई दाम जिया |ज्यों दफ्तर बिन कोई काम जिया ||
ज्यों काम बिना कोई दाम जिया |ज्यों खास बिना कोई आम जिया ||
सिक्कों के बिन,सिक्कों के बिन , ज्यों टकसाल |
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
तेरे बिन ,तेरे बिन ,अपना हाल |
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
ज्यों होली ,बिन रंग जिया |ज्यों नशे के बिन भंग जिया ||
ज्यों केश के बिन बैंक जिया ,ज्यों बिन तरल के टैंक जिया ||
नेता बिन ,नेता बिन ,ज्यों हड़ताल
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
तेरे बिन ,तेरे बिन ,अपना हाल |
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
ज्यों ताली के बिन कव्वाली का |ज्यों गोली के बिन दुनाली का ||
ज्यों जीजे के बिन साली का |ज्यों झगड़े के बिन गाली का ||
बिन नमक के ,बिन नमक के ,ज्यों दाल |
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
तेरे बिन ,तेरे बिन ,अपना हाल |
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
खादिम बिन जैसे अल्ला है |नगदी बिन जैसे गल्ला है ||
पारखी के बिन कला है |झगड़ें के बिन जैसे हल्ला है ||
बिन पतों के ,बिन पतों के , ज्यों डाल |
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
तेरे बिन ,तेरे बिन ,अपना हाल |
कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ ,कुर्सी तुम्हे क्या बतलाऊँ |
******************************************************

अगला लेख: उन्नति की ठाना कर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जनवरी 2015
प्रेरक गीत -उन्नति की ठाना कर @@@@@@@@@@@@@@@@@@@@ उन्नति की ठाना कर ,खुद को भी तू जाना कर | खुद्दारी से जीना है तो , प्रेम का रस पीना है तो , अपनी हार न माना कर | उन्नति की ठाना कर |खुद को भी तू जाना कर || सृजन करना तू हटकर,मेहनत करना तू डटकर | कष्टों के संग तू रह कर,जीना चमनों सा खिल कर || जनता मे
28 जनवरी 2015
29 जनवरी 2015
ला
@लाज है नारी का गहना,इसका मत व्यापार करो@********************************************************नारी जिस्म-फ़रोशी का , बन्द यह बाजार करो ।लाज है नारी का गहना,इसका मत व्यापार करो ॥नारी के जिन उरोजों पर,होता शिशुओं का अधिकार।मिलती है जिनसे उनको,उज्ज्वल पावन जीवन-धार॥सरे आम उघाड़ कर उनको, न उन पे अत्या
29 जनवरी 2015
31 जनवरी 2015
@
@@@@@@@@- नारी- @@@@@@@@ इस दुनिया की शोभा है , इस दुनिया की रौनक है | खुश रखें सदा इसको ,रचा कुदरत ने है जिसको || जिसकी दीवानी सृष्टि सारी,वो नारी है कहलाती | बुझे -बुझे मर्दों का मन ,नारी ही तो बहलाती || घर में पायल खनकाती ,मन का मोर नचवाती | पतली कमर लचकाती ,प्यार में आकर इठलाती || इस दुनिया की श
31 जनवरी 2015
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x