आज का विचार

08 फरवरी 2016   |  योगिता वार्डे ( खत्री )   (417 बार पढ़ा जा चुका है)

एक व्यक्ति की आदत थी की वह रास्ते मैं मिलने वाले 

 हर व्यक्ति को नमस्कार करता था | पर एक आदमी 

 उसके नमस्कार का जवाब गाली से देता था |

 एक दिन उस व्यक्ति से किसी ने पूछा 

 " वो आदमी हर रोज तुम्हें बुरा भला कहता है ,

  तुम फिर भी उसे नमस्कार क्यों करते हो "

 उस नेक इंसान ने जवाब दिया 

  जब वो मेरे लिए अपनी बुरी आदत नहीं छोड़ 

  सकता तो मैं उसके लिए अपनी अच्छी 

  आदत क्यों छोड़ दूँ |

अगला लेख: एक ख़त " बेटी का माँ के नाम "



बिलकुल सही कहा आपने आशा जी !

आशा “क्षमा”
09 फरवरी 2016

बिलकुल सही ! दोनों अपने-अपने संस्कारो के अनुसार व्यव्हार कर रहे हैं !

धन्यवाद प्रियंका जी , बिलकुल सही कहा आपने .....

ऐसा कई बार, कई बातों में हम लोगों को भी सोचना पड़ता है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x