वैदिक संस्कृति

27 फरवरी 2016   |  देवेन्द्र प्रसाद   (133 बार पढ़ा जा चुका है)

लोग कैसे मानेंगे कि हमारी वैदिक संस्कृति महान है ?

• जब हम आयुर्वेद की चरक संहिता, सुश्रुत संहिता, वागभट्ट मुनिकृत अष्टांगहृदयम् आदि ग्रन्थों से सर्जरी चिकित्सा आदि प्रक्रीयाओं का उद्धार करेंगे और समाज में पुनः प्रतिष्ठित करेंगे तब लोग मानेंगे कि वैदिक सभ्यता महान है ।

• जब हम परशुराम, शिव, नकुल, इन्द्र आदि के धनुर्वेद में से प्रचीन परमाणु शस्त्रों अस्त्रों को पुनः प्रकाशित करके समाज के सामने लायेंगे तब लोग मानेंगे कि वैदिक सभ्यता महान है ।

• जब हम भरद्वाज मुनिकृत विमान शास्त्र में वर्णित 33 प्रकार के सिद्धांतो के आधार पर चलने वाले विमान शास्त्रों में से एक एक करके 33 प्रकार के विभिन्न विमान बनाकर पुनः समाज के सामने लायेंगे तब लोग मानेंगे कि हमारी वैदिक सभ्यता महान है ।

• जब हम पाणीनि मुनि कृत अष्टाध्यायी और पतञ्जलि मुनि कृत महाभाष्य के आधार पर कम्प्यूटर और अन्य Electronics के Software को संस्कृत भाषा में करके इनकी गति बढ़ाएँगे तब लोग मानेंगे कि वैदिक सभ्यता महान है ।

• जब हम सूर्यसिद्धांत और सिद्धांत शिरोमणि आदि ज्योतिष के ग्रंथों, निरुक्त आदि शास्त्रों से गणित,अंतरिक्ष विज्ञान, भूगर्भविज्ञान आदि के क्षेत्र में व्यापक परिवर्तन कर ब्रह्माण्ड एवं पृथिवी के रहस्यों क सुलझायेंगे तब लोग मानेंगे कि वैदिक सभ्यता महान है ।

• जब हम कणाद मुनिकृत वैशेषिक, कपिल मुनि के सांख्य आदि शास्त्रों के आधार पर कणों ( Atoms ) का स्पष्ट विशलेषण विश्व के सामने प्रस्तुत करेंगे तब लोग मानेंगे कि वैदिक सभ्यता महान है ।

• जब हम ऐतरेय, तैयतरीय, गोपथ, सामविधान आदि ब्राह्मण ग्रंथों, ऋग्वेद के नासदीय सूक्त से सृष्टि उत्पत्ति का रहस्य सुलझाकर Big Bang Theory, Black Hole Theory आदि की मिथ्यता को सिद्ध करके यथार्थ विज्ञान को प्रस्तुत करेंगे तब लोग मानेंगे कि वैदिक सभ्यता महान है ।

• जब हम अथर्ववेद के ब्रह्मचर्य सूक्त से वीर्यवान युवा युवतियाँ तैयार करेंगे तब लोग मानेंगे कि वैदिक सभ्यता महान है ।

{ हमारे केवल बड़े बड़े व्याख्यानों से या चिल्लाने से लोग नहीं मानेंगे कि वैदिक सभ्यता महान है हमें ये सब काम करके दिखाने होंगे तभी लोग विश्वास करेंगे कि वैदिक सभ्यता महान और विराट है । }

अगला लेख: हिंदी करण



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 फरवरी 2016
बो
बोलो धत तेरे की…! 😛😛 नमस्कार को टाटा खा गया,नूडल खा गया आटा!! अंग्रेजी के चक्कर मेंहुआ बडा ही घाटा !!!! बोलो धत्त तेरे की !! माताजी को मम्मी खा गयीपिता को खा गया डैड!! दादाजी को ग्रैंडपा खा गये,सोचो कितना बैड !!!! बोलो धत्त तेरे की !!गुरुकुल को स्कूल खा गया,गुरु को खा गया चेला!! सरस्वती माता की प्
19 फरवरी 2016
27 फरवरी 2016
शा
“कहते हैं दिल से ज्यादा महफूज जगह नहीं दूनिया में और कोई;फिर भी ना जाने क्यों सबसे ज्यादा यहीं से लोग लापता होते हैं।”
27 फरवरी 2016
17 फरवरी 2016
गा
आइये शुरुआत  गायत्री महामंत्र से करें ।महामंत्र – ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात्।अर्थ – उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें । वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे ।
17 फरवरी 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x