फूल

01 मार्च 2016   |  काव्यान्जलि   (193 बार पढ़ा जा चुका है)

फूल

मधुरिमा के, मधु के अवतार

सुधा से, सुषमा से, छविमान,

आंसुओं में सहमे अभिराम

तारकों से हे मूक अजान!

सीख कर मुस्काने की बान

कहां आऎ हो कोमल प्राण!


स्निग्ध रजनी से लेकर हास

रूप से भर कर सारे अंग,

नये पल्लव का घूंघट डाल

अछूता ले अपना मकरंद,

ढूढं पाया कैसे यह देश?

स्वर्ग के हे मोहक संदेश!


रजत किरणों से नैन पखार

अनोखा ले सौरभ का भार,

छ्लकता लेकर मधु का कोष

चले आऎ एकाकी पार;

कहो क्या आऎ हो पथ भूल?

मंजु छोटे मुस्काते फूल!


उषा के छू आरक्त कपोल

किलक पडता तेरा उन्माद,

देख तारों के बुझते प्राण

न जाने क्या आ जाता याद?

हेरती है सौरभ की हाट

कहो किस निर्मोही की बाट?


चांदनी का श्रृंगार समेट

अधखुली आंखों की यह कोर,

लुटा अपना यौवन अनमोल

ताकती किस अतीत की ओर?

जानते हो यह अभिनव प्यार

किसी दिन होगा कारगार?


कौन है वह सम्मोहन राग

खींच लाया तुमको सुकुमार?

तुम्हें भेजा जिसने इस देश

कौन वह है निष्ठुर करतार?

हंसो पहनो कांटों के हार

मधुर भोलेपन का संसार!

-महादेवी वर्मा

अगला लेख: मेरा नया बचपन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 फरवरी 2016
अब अंतर में अवसाद नहीं चापल्य नहीं उन्माद नहीं सूना-सूना सा जीवन है कुछ शोक नहीं आल्हाद नहीं तव स्वागत हित हिलता रहता अंतरवीणा का तार प्रिये ..इच्छाएँ मुझको लूट चुकी आशाएं मुझसे छूट चुकी सुख की सुन्दर-सुन्दर लड़ियाँ मेरे हाथों से टूट चुकी खो बैठा अपने हाथों ही मैं अपना कोष अपार प्रिये फिर कर लेने
16 फरवरी 2016
16 फरवरी 2016
यह कदंब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे। मैं भी उस पर बैठ कन्हैया बनता धीरे-धीरे॥ ले देतीं यदि मुझे बांसुरी तुम दो पैसे वाली। किसी तरह नीची हो जाती यह कदंब की डाली॥ तुम्हें नहीं कुछ कहता पर मैं चुपके-चुपके आता। उस नीची डाली से अम्मा ऊँचे पर चढ़ जाता॥ वहीं बैठ फिर बड़े मजे से मैं बांसुरी बजाता। अम
16 फरवरी 2016
16 फरवरी 2016
कुछ भी बन बस कायर मत बन,ठोकर मार पटक मत माथा तेरी राह रोकते पाहन।कुछ भी बन बस कायर मत बन।युद्ध देही कहे जब पामर,दे न दुहाई पीठ फेर करया तो जीत प्रीति के बल परया तेरा पथ चूमे तस्करप्रति हिंसा भी दुर्बलता हैपर कायरता अधिक अपावनकुछ भी बन बस कायर मत बन।ले-दे कर जीना क्या जीनाकब तक गम के आँसू पीनामानवता
16 फरवरी 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x