पूछता क्यों शेष कितनी रात?

01 मार्च 2016   |  काव्यान्जलि   (507 बार पढ़ा जा चुका है)

पूछता क्यों शेष कितनी रात?

पूछता क्यों शेष कितनी रात?


छू नखों की क्रांति चिर संकेत पर जिनके जला तू

स्निग्ध सुधि जिनकी लिये कज्जल-दिशा में हँस चला तू

परिधि बन घेरे तुझे, वे उँगलियाँ अवदात!


झर गये ख्रद्योत सारे,

तिमिर-वात्याचक्र में सब पिस गये अनमोल तारे;

बुझ गई पवि के हृदय में काँपकर विद्युत-शिखा रे!

साथ तेरा चाहती एकाकिनी बरसात!


व्यंग्यमय है क्षितिज-घेरा

प्रश्नमय हर क्षण निठुर पूछता सा परिचय बसेरा;

आज उत्तर हो सभी का ज्वालवाही श्वास तेरा!

छीजता है इधर तू, उस ओर बढता प्रात!


प्रणय लौ की आरती ले

धूम लेखा स्वर्ण-अक्षत नील-कुमकुम वारती ले

मूक प्राणों में व्यथा की स्नेह-उज्जवल भारती ले

मिल, अरे बढ़ रहे यदि प्रलय झंझावात।


कौन भय की बात।

पूछता क्यों कितनी रात?

-महादेवी वर्मा

अगला लेख: मेरा नया बचपन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 फरवरी 2016
जग के उर्वर-आँगन मेंबरसो ज्योतिर्मय जीवन!बरसो लघु-लघु तृण, तरु परहे चिर-अव्यय, चिर-नूतन!बरसो कुसुमों में मधु बन,प्राणों में अमर प्रणय-धन;स्मिति-स्वप्न अधर-पलकों में,उर-अंगों में सुख-यौवन!छू-छू जग के मृत रज-कणकर दो तृण-तरु में चेतन,मृन्मरण बाँध दो जग का,दे प्राणों का आलिंगन!बरसो सुख बन, सुखमा बन,बरसो
16 फरवरी 2016
15 फरवरी 2016
जीवन में कितना सूनापनपथ निर्जन है, एकाकी है,उर में मिटने का आयोजनसामने प्रलय की झाँकी हैवाणी में है विषाद के कणप्राणों में कुछ कौतूहल हैस्मृति में कुछ बेसुध-सी कम्पनपग अस्थिर है, मन चंचल हैयौवन में मधुर उमंगें हैंकुछ बचपन है, नादानी हैमेरे रसहीन कपालो परकुछ-कुछ पीडा का पानी हैआंखों में अमर-प्रतीक्षा
15 फरवरी 2016
16 फरवरी 2016
अब अंतर में अवसाद नहीं चापल्य नहीं उन्माद नहीं सूना-सूना सा जीवन है कुछ शोक नहीं आल्हाद नहीं तव स्वागत हित हिलता रहता अंतरवीणा का तार प्रिये ..इच्छाएँ मुझको लूट चुकी आशाएं मुझसे छूट चुकी सुख की सुन्दर-सुन्दर लड़ियाँ मेरे हाथों से टूट चुकी खो बैठा अपने हाथों ही मैं अपना कोष अपार प्रिये फिर कर लेने
16 फरवरी 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x