मैं नीर भरी दु:ख की बदली!

01 मार्च 2016   |  काव्यान्जलि   (243 बार पढ़ा जा चुका है)

मैं नीर भरी दु:ख की बदली!

मैं नीर भरी दु:ख की बदली!


स्पंदन में चिर निस्पंद बसा,
क्रन्दन में आहत विश्व हंसा,
नयनों में दीपक से जलते,
पलकों में निर्झरिणी मचली!

मेरा पग-पग संगीत भरा,
श्वासों में स्वप्न पराग झरा,
नभ के नव रंग बुनते दुकूल,
छाया में मलय बयार पली,

मैं क्षितिज भॄकुटि पर घिर धूमिल,
चिंता का भार बनी अविरल,
रज-कण पर जल-कण हो बरसी,
नव जीवन अंकुर बन निकली!

पथ को न मलिन करता आना,
पद चिन्ह न दे जाता जाना,
सुधि मेरे आगम की जग में,
सुख की सिहरन बन अंत खिली!

विस्तृत नभ का कोई कोना,

मेरा न कभी अपना होना,

परिचय इतना इतिहास यही

उमड़ी कल थी मिट आज चली!

-महादेवी वर्मा

अगला लेख: मेरा नया बचपन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 फरवरी 2016
किन्तु जो तिमिर-पानऔ' ज्योति-दानकरता करता बह गयाउसे क्या कहूँकि वह सस्पन्द नहीं था ?और जो मन की मूक कराहज़ख़्म की आहकठिन निर्वाहव्यक्त करता करता रह गयाउसे क्या कहूँगीत का छन्द नहीं था ?पगों की संज्ञा में हैगति का दृढ़ आभास,किन्तु जो कभी नहीं चल सकादीप सा कभी नहीं जल सकाकि यूँ ही खड़ा-खड़ा ढह गयाउसे
16 फरवरी 2016
15 फरवरी 2016
हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिएइस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिएआज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगीशर्त थी लेकिन कि ये बुनियाद हिलनी चाहिएहर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव मेंहाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिएसिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहींमेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिएमेरे सीने
15 फरवरी 2016
16 फरवरी 2016
जग के उर्वर-आँगन मेंबरसो ज्योतिर्मय जीवन!बरसो लघु-लघु तृण, तरु परहे चिर-अव्यय, चिर-नूतन!बरसो कुसुमों में मधु बन,प्राणों में अमर प्रणय-धन;स्मिति-स्वप्न अधर-पलकों में,उर-अंगों में सुख-यौवन!छू-छू जग के मृत रज-कणकर दो तृण-तरु में चेतन,मृन्मरण बाँध दो जग का,दे प्राणों का आलिंगन!बरसो सुख बन, सुखमा बन,बरसो
16 फरवरी 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x