एक इंसान की परिभाषा तो दी नहीं जा सकती,लोग ईश्वर को परिभाषित करने चलते हैं। कहने को तो उन्हें अंतरयामी कहते हैं,परन्तु बातें बनाने की कसर नहीं छोड़ते हैं।।

05 फरवरी 2015   |  ॐ गुरु   (582 बार पढ़ा जा चुका है)


अगला लेख: ॐ के शारीरिक लाभ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 जनवरी 2015
सत्य को समझिऐ
31 जनवरी 2015
03 फरवरी 2015
सौ
सौ गुना आनंद.....
03 फरवरी 2015
03 फरवरी 2015
ईश्वर के लिए यात्रा करते समय अच्छी आदतो को बनाये रखना आवश्यक हैं......
03 फरवरी 2015
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x