मनोज कुमार जी को २०१५ का दादा साहब फाल्के पुरस्कार

04 मार्च 2016   |  आशीष श्रीवास्‍तव   (206 बार पढ़ा जा चुका है)

मनोज कुमार जी  को २०१५ का दादा साहब फाल्के पुरस्कार

इस खबर को पचाने में थोड़ा वक्त लगेगा, फालके पुरस्कार के लिए चुने जाने पर बोले #मनोज कुमार  

जाने-माने फिल्म अभिनेता एवं निर्देशक मनोज कुमार को भारतीय सिनेमा में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए वर्ष 2015 के दादासाहेब फाल्के पुरस्कार के लिए चुना गया है। भारत सरकार के इस फैसले पर मनोज कुमार का कहना है कि यह सुखद अनुभव हैरान कर देने वाला है, इस खबर को पचाने में उन्हें थोड़ा वक्त लगेगा।


मनोज कुमार (78) ने बताया, "यह सुखद अनुभव है। मैं सो रहा था और मेरे पास दोस्तों के फोन आने शुरू हो गए। मुझे लगा कि वो मुझसे मजाक कर रहे हैं, लेकिन जब मैंने अपने बारे में एक न्यूज वेबसाइट पर खबर पढ़ी, तो मुझे पता चला कि यह सच है।"


देशभक्ति पर आधारित फिल्मों में महत्वपूर्ण भूमिका निभा चुके अभिनेता ने कहा, "मुझे यह बात पचाने में वक्त लगेगा कि मुझे यह पुरस्कार मिल रहा है। यह निश्चित रूप से प्रतिष्ठित पुरस्कारों में से है। मैंने अपने जीवन में जो कुछ भी हासिल किया, मैं उनसे संतुष्ट हूं और मेरा परिवार भी इस खबर से बेहद खुश है।"


भारतीय सिनेमा के विकास में उत्कृष्ट योगदान के लिए सरकार द्वारा दिए जाने वाले इस पुरस्कार के तहत एक स्वर्ण कमल, 10 लाख रुपये नकद और एक शॉल प्रदान किया जाता है। मनोज कुमार को 47वें दादासाहेब फाल्के पुरस्कार के लिए चुना गया है।


उन्होंने 'उपकार', 'हरियाली और रास्ता', 'वो कौन थी', 'हिमालय की गोद में', 'रोटी कपड़ा और मकान' और 'क्रांति' जैसी फिल्मों से अपने अभिनय की छाप छोड़ी।


राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता और पद्मश्री से सम्मानित मनोज कुमार ने 'रोटी कपड़ा और मकान' सहित पांच से अधिक फिल्मों का निर्देशन किया है।


मनोज कुमार बड़े पर्दे पर आखिरी बार 1995 की फिल्म 'मैदान-ए-जंग' में दिखाई दिए थे। उन्होंने कहा कि अब वह फिल्म उद्योग में और अधिक सक्रिय होने की कोशिश करेंगे।


उन्होंने कहा, "हां, मैं सुर्खियों से गायब था और यह मेरी ही गलती है। मैं एक फिल्म बनाना और जल्द ही सक्रिय होना चाहता हूं।"

अगला लेख: जमशेदजी टाटा



फिल्म अभिनेता-निर्माता-निर्देशक मनोज कुमार को बहुत-बहुत बधाई !

एक भारतीय
04 मार्च 2016

मनोज कुमार जी को बहुत बहुत शुभकामनाएं!

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2016
नियुक्ति-पत्र हाथ में लिए,खिलखिलाती बेटी से माँ ने पूछा-अब क्या करोगी?माँ!तुमने समाज कीसारी कुरीतियों, क्रूरताओं के सामनेएक कवच बन करमुझे जन्मा, पाला;अब तुम्हारी शक्ति बनूँगीऐसा अप्रत्याशित उत्तर...आलोक से भर गया मन का कोना-कोनासहसा ही मनपीछे मुङकर देखने लगा-वहाँ, जहाँ -बरामदे में खड़े सभी परिजन,नर
08 मार्च 2016
08 मार्च 2016
ना
औरत  तो अपना फर्ज़ खूब निभाती रही,और ये दुनिया मासूम पर ज़ुल्म ढाती रहीन मालूम कितनी कुर्बानियां दी हैं अब तलक,वो बेक़सूर होकर भी ताउम्र सज़ा पाती रहीबेटी, माँ, सास का किरदार सलीके से निभाया,इनाम तो न हुआ हासिल ज़िल्लत ही पाती रहीउसे इल्म ही न था कुछ सीखने समझने का,यही एक कमी थी दुनिया बेवक़ूफ बनाती रह
08 मार्च 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x