आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

नीम : स्वाद की कड़वी, असर की मीठी

05 मार्च 2016   |  ओम प्रकाश शर्मा
नीम : स्वाद की कड़वी, असर की मीठी


‘एक तो करेला, ऊपर से नीम चढ़ा’...ये कहावत आपने ज़रूर सुनी होगी I इसका मतलब है एक मुश्किल पर दूसरी मुश्किल आ जाना I लेकिन आश्चर्य की बात ये है कि करेला और नीम दोनों ही बड़े काम की चीज़ें है I अगर आप भारत में रहते हैं तो आप करेला और नीम दोनों से ही भलीभांति परिचित होंगे I अगर हम बात सिर्फ नीम की करें तो यह भारतीय मूल का एक सदाबहार वृक्ष है, और यह अनेक देशों में आसानी से पाया जाता है I


नीम को गावों का डॉक्टर या वैद्य कहें तो अतिशयोक्ति नहीं होगी I हजारों वर्षों से लोगों को इसके औषधीय गुणों की जानकारी रही है और यही कारण है कि नीम सदैव हमारे जीवन से जुड़ी रही है I वास्तव में नीम का स्वाद तो कड़वा होता है लेकिन इसके गुण बड़े मीठे होते हैं I तभी तो नीम के बारे में कहा जाता है कि एक नीम और सौ हकीम, दोनों बराबर हैं I इसका प्रयोग हर्बल ओर्गानिक पेस्टिसाइड, साबुन, एंटीसेप्टिक क्रीम, दातुन, मधुमेह नाशक चूर्ण, कॉस्मेटिक आदि के रूप में किया जाता है I


➧नीम की दातुन में ऐसे गुण होते हैं, जो दांतों और मसूड़ों में लगने वाले तरह-तरह के बैक्टीरिया को पनपने नहीं देते, जिसके कारण दांत स्वस्थ और मज़बूत रहते हैं I


➧नीम की छाल को पानी के साथ घिसकर फोड़े-फुंसियों पर लगाने से बहुत जल्दी आराम मिलता है I


➧नीम का तेल चर्म रोगों को दूर करता है I


➧नीम के तेल का दिया जलाने से मच्छर भाग जाते हैं जिससे मच्छरों से होने वाली बीमारियों से बचाव हो जाता है


➧नीम की कोपलों को पानी में उबालकर कुल्ला करने से दांतों का दर्द ठीक हो जाता है I


➧नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर और पानी ठंडा करके उस पानी से नहाने से चरम विकार दूर होते हैं I यह चेचक के विषाणुओं को भी फैलने से रोकता है I यही कारण है कि चेचक के रोगी को नीम की पत्तियां बिछाकर उस पर लिटाते हैं I


➧नीम मलेरिया फ़ैलाने वाले मच्छरों को दूर करता है I नीम के पत्ते जलाकर रात को धुआं करने से मच्छर नष्ट हो जाते हैं और विषम ज्वर (मलेरिया) से बचाव होता है I


➧बिच्छू के काटने पर नीम की पत्तियां मसल कर काटे गए स्थान पर लगाने से जलन नहीं होती है और ज़हर का असर कम हो जाता है I


➧नीम की पत्तियां अनाज के साथ रखने से कीड़े और घुन नहीं लगते I


➧नीम का फूल तथा निबोरियां खाने से पेट के रोग नहीं होते I


विदेशों में भी नीम को एक ऐसे वृक्ष के रूप में जाना जाता है जो मधुमेह, एड्स, कैंसर जैसी तमाम बीमारियों का इलाज कर सकता है I


 

 

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x