"कंहरवा तर्ज"

07 मार्च 2016   |  महातम मिश्रा   (111 बार पढ़ा जा चुका है)

 मंच को सादर प्रस्तुत है एक शिवमय रचना, आप सभी पावन शिवरात्री पर मंगल शुभकामना, ॐ नमः शिवाय


"कंहरवा तर्ज पर एक प्रयास"


डम डम डमरू बजाएं, भूत प्रेत मिली गाएं

चली शिव की बारात,  बड़ बड़ात रहिया।

नंदी नगर नगर,  घुमे बसहा बयल

संपवा करे फुफकार, मन डेरात रहिया।।

गलवा सोहे रुद्राक्ष, बासुकी जी माल भाल

सथवां मुनि ऋषि,  देवगण अघात रहिया।।

चन्द्रमा लिलार माथ, जटा लपटाय शिव

नाचे डंकिनी पिचास, भूत बौरात रहिया।।

भष्म भांग धतूरा, चिलम कस कस शरीरा

हथवां राखत त्रिशूला, शिव सुहात रहिया।।

बाजत तुरही मृदंग, फरकत अंग अंग

सुरताल रंगफाग, लय अघात रहिया।। 

देखि शिव की बारात, मैना हिम करे बात

गले कइसन मुण्डमाल, वर बारात रहिया।।

कैसन ज्ञानी कैसन ध्यानी, ई कैसन हवे दानी

कइसन खोजल दामाद, कस बुझात रहिया।।

हाथ आरती की थाल, गिरिजा के जयमाल

शिव-शिव, शिव हैं महान मुसुकात रहिया ।।


महातम मिश्र

अगला लेख: "कुण्डलिया"



सादर धन्यवाद आदरणीय रवि कुमार जी, सर यह भक्ति गीत है जिसका तर्ज कंहरवा लोक गायन पर कुछ कुछ आधारित है जो हमारे गोरखपुर अंचल में गाया जाता है अति मनोहारी गीत होती है सर

रवि कुमार
07 मार्च 2016

बस जो टाइटल है वो समझ में नहीं आया

रवि कुमार
07 मार्च 2016

अरे सर बहुत बढ़िया . हरहरमहादेव

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 फरवरी 2016
सादर शुभप्रभातमित्रगण, आज आप सभी को सादर निवेदित है एक कुण्डलिया छंद.............. “कुण्डलिया छंद”मन जब मन की ना सुने, करे वाद प्रतिवादकुंठित हो विचरण करे, ताहि शरण अवसाद ताहि शरण अवसाद, निरंकुश बैन उचारे  लपकि करे अपराध, हताहत रोष पुकारे कह गौतम कविराय, न विकृति बोली सज्जन बिन वाणी अकुलाय, विहंगम ह
24 फरवरी 2016
12 मार्च 2016
बु
बुरा न मानों होली है.....जोगीरा सररररर..........होली में हुड़दंग मिला है, जश्न धतूरा भाँग.....रंग गुलाबी गाल लगा है, खूब चढ़ा बेईमान.....जोगीरा सरररररझूम रहा है शहर मुहल्ला, खाय मगहिया पानगली गली में शोर मचा है, माया की मुस्कान......जोगीरा सरररररजोर-शोर से हर सेंटर पर है हल्ला इम्तहानबाप सिखाए अकल नक़ल
12 मार्च 2016
15 मार्च 2016
"
शीर्षक शब्द -नदी/नदिया /दरिया /जलधारा आदि "दोहा मुक्तक"नदी सदी की वेदना, जल कीचड़ लपटायकल बल छल की चाहना, नदिया दर्द बहायजलधारा बाधित हुई, दरिया दुर्गम राहकैसे बिन पानी दई, वंश वेलि बढ़िआय।।महातम मिश्र
15 मार्च 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x