विश्व महिला दिवस पर एक कुंडलिया

08 मार्च 2016   |  महातम मिश्रा   (178 बार पढ़ा जा चुका है)

सादर शुभ प्रभात मित्रों,

आज विश्व महिला दिवस पर मंच की सभी महिला मित्रों को सादर प्रणाम, महिला शक्ति को सादर नमन। मुझे लगता है कि आज हमें अपने अंतरमन से यह जरूर पुछना चाहिए कि क्या हमारे अबतक के जीवन का एक पल भी बिना किसी महिला के साथ के व्यतित हुआ है। अगर उत्तर नहीं है तो पीछे मुड़कर देखें, जन्म दिया, एक माँ ने जो एक महिला है, बचपन को दुलरा कर हर पल साथ निभाया एक बहन ने, जो एक महिला है। गृहस्थ जीवन में जीवन संगिनी बन पत्नी ने अपना सब कुछ न्योछावर कर दिया, वह भी एक महिला है। सबका जीवन कर्म-धर्म अपने लिए होता है पर उसको दान में जिसने परिमार्जित किया वह एक बेटी है, जो एक महिला है। बूढ़ापे में जब किसी का सहारा करीब नहीं रहता तो एक बच्चे को गोदी में डालकर बचपन को दुलराने का सौभाग्य भी प्रदान किया इसी महिला ने। हर पल दूसरों के लिए जीने वाली इस महान शक्सीयत को बदले में हमने क्या दिया इस पर आज दिल से विचार जरूर होना चाहिए। 

मैथिली शरण गुप्त जी की ये पंक्तिया आज याद आ रही है और प्रश्न कर रही हैं कि शिखर पर पहुँचने वाली नारी की आँखों में आज फिर से आँसू .......

अबला जीवन हाय तुम्हारी यही कहानी 

आँचल में है दूध और आँखों में पानी।।........ है तो क्यों है। जिसको महाभारत में कहा गया है कि, पति के लिए चरित्र, संतान के लिए ममता, समाज के लिए शील, विश्व के लिए दया और जीव मात्र के लिए करुणा संजोने वाली महाप्रकृति का नाम ही नारी है। जो आदिशक्ति है अत: इतना ही कहूँगा कि जिस घर में महिला का सम्मान होता है वहीं जीवन के सारे पुष्प पल्लवित होते हैं। आज मेरी यह कुंडलिया उन माँ- बहनों को सादर समर्पित है जिन्होंने हमें पुरुषत्व पर चलना सिखाया......जय हो महिला शक्ति की........ 

"कुंडलिया"

माँ ममता स्नेह बहन, मातृछाया दुलार

बिना चाह अपना मिले, बिना राह अधिकार

बिना राह अधिकार, जुड़े अंजाना रिश्ता 

नारी नर साकार, उगाएं जीवन पिश्ता

कह गौतम कविराय, सहति न पाप धरती माँ

जब भी लौटी असहाय, धरी है रूप दुर्गा माँ।।

महातम मिश्र (गौतम)

अगला लेख: "कुण्डलिया"



Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215

अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 फरवरी 2016
भा
भारतीय नारी एक साथ 10 से 15 परिवार का टेंशन लेके चलती है -.- -.- -.- एक उनका खुद का बाकि टीवी सीरियल और पडोसी का 😜😜😜
27 फरवरी 2016
22 मार्च 2016
श्रीश्री रविशंकर के रवि से श्रीश्री बनने तक के सफर के बारे में एमएन चक्रवर्ती आगे बताते हैं, उन दिनों में वह बेहद आकर्षक थे। एक ऐसा युवक जिसके गाल आपको उसके करीब ले जाते और आपका दिल करता कि आप उसके गालों को पिंच करें। लंबे उड़ते बाल और दाढ़ी के बावजूद आप जब उसे छूते तो आपके अंदर नारी को छूने वाला फी
22 मार्च 2016
03 मार्च 2016
"
सादर शुभप्रभात, सादर निवेदित है एक रचना आशीष प्रदान करें ......... “गीत-नवगीत”गीत कैसे लिखूँ नाम तेरे करूँ  शब्द शृंगार पहलू समाते नहींकिताबों से मैंने भी सीखा बहुतहुश्न चेहरा पढ़ें मन सुहाते नहीं॥....... गीत कैसे लिखूँ ........ ये शोहरत ये माया की मीठी हंसीलिए पैगाम यह चुलबुली मयकसी होठ तक सुर्खुरु
03 मार्च 2016
22 मार्च 2016
श्रीश्री रविशंकर के रवि से श्रीश्री बनने तक के सफर के बारे में एमएन चक्रवर्ती आगे बताते हैं, उन दिनों में वह बेहद आकर्षक थे। एक ऐसा युवक जिसके गाल आपको उसके करीब ले जाते और आपका दिल करता कि आप उसके गालों को पिंच करें। लंबे उड़ते बाल और दाढ़ी के बावजूद आप जब उसे छूते तो आपके अंदर नारी को छूने वाला फी
22 मार्च 2016
03 मार्च 2016
"
सादर शुभप्रभात, सादर निवेदित है एक रचना आशीष प्रदान करें ......... “गीत-नवगीत”गीत कैसे लिखूँ नाम तेरे करूँ  शब्द शृंगार पहलू समाते नहींकिताबों से मैंने भी सीखा बहुतहुश्न चेहरा पढ़ें मन सुहाते नहीं॥....... गीत कैसे लिखूँ ........ ये शोहरत ये माया की मीठी हंसीलिए पैगाम यह चुलबुली मयकसी होठ तक सुर्खुरु
03 मार्च 2016
08 मार्च 2016
ना
औरत  तो अपना फर्ज़ खूब निभाती रही,और ये दुनिया मासूम पर ज़ुल्म ढाती रहीन मालूम कितनी कुर्बानियां दी हैं अब तलक,वो बेक़सूर होकर भी ताउम्र सज़ा पाती रहीबेटी, माँ, सास का किरदार सलीके से निभाया,इनाम तो न हुआ हासिल ज़िल्लत ही पाती रहीउसे इल्म ही न था कुछ सीखने समझने का,यही एक कमी थी दुनिया बेवक़ूफ बनाती रह
08 मार्च 2016
08 मार्च 2016
ना
औरत  तो अपना फर्ज़ खूब निभाती रही,और ये दुनिया मासूम पर ज़ुल्म ढाती रहीन मालूम कितनी कुर्बानियां दी हैं अब तलक,वो बेक़सूर होकर भी ताउम्र सज़ा पाती रहीबेटी, माँ, सास का किरदार सलीके से निभाया,इनाम तो न हुआ हासिल ज़िल्लत ही पाती रहीउसे इल्म ही न था कुछ सीखने समझने का,यही एक कमी थी दुनिया बेवक़ूफ बनाती रह
08 मार्च 2016
08 मार्च 2016
ना
औरत  तो अपना फर्ज़ खूब निभाती रही,और ये दुनिया मासूम पर ज़ुल्म ढाती रहीन मालूम कितनी कुर्बानियां दी हैं अब तलक,वो बेक़सूर होकर भी ताउम्र सज़ा पाती रहीबेटी, माँ, सास का किरदार सलीके से निभाया,इनाम तो न हुआ हासिल ज़िल्लत ही पाती रहीउसे इल्म ही न था कुछ सीखने समझने का,यही एक कमी थी दुनिया बेवक़ूफ बनाती रह
08 मार्च 2016
14 मार्च 2016
"
"बसंत जगा रहा है"शायद वो बसंत है, जो पेड़ों को जगा रहा हैमंजरी आम्र का है, कुच महुआ सहला रहा हैबौर महक रहें हैं बेर के, सुंगंध बिखराए हुएरंभा लचक रही है, बहार कदली फुला रहा है।।किनारे पोखर के सेमर, रंग पानी दिखा रहा हैकपास होनहार रुईया को, खूब चमका रहा हैपीत वदन सरसों, कचनार फूल गुलमोहर काबिखरें हैं
14 मार्च 2016
27 फरवरी 2016
भा
भारतीय नारी एक साथ 10 से 15 परिवार का टेंशन लेके चलती है -.- -.- -.- एक उनका खुद का बाकि टीवी सीरियल और पडोसी का 😜😜😜
27 फरवरी 2016
27 फरवरी 2016
"
आज का छंद है मत्तगयंद/मालती सवैया 211 211  211  211  211 211 211  22"मत्तगयंद/मालती सवैया"मोहन मान बिना कब आवत नाचत मोर घना वन राचेंचातक जाचक देखत है रुक मांगत है घर पावस बांचे।।बोलति बैन न बांसुरि रैन नहीं दिन चैन कहां मन पाएहे मन मोहन आपहि राखहु मांगत हूँ कर जोर लजाए।।महातम मिश्रएक प्रयास आप सभी क
27 फरवरी 2016
22 मार्च 2016
श्रीश्री रविशंकर के रवि से श्रीश्री बनने तक के सफर के बारे में एमएन चक्रवर्ती आगे बताते हैं, उन दिनों में वह बेहद आकर्षक थे। एक ऐसा युवक जिसके गाल आपको उसके करीब ले जाते और आपका दिल करता कि आप उसके गालों को पिंच करें। लंबे उड़ते बाल और दाढ़ी के बावजूद आप जब उसे छूते तो आपके अंदर नारी को छूने वाला फी
22 मार्च 2016
26 फरवरी 2016
चित्र अभिव्यक्ति मेंआप सभी का हार्दिक स्वागत है सादर सुप्रभात मित्रों........“कुंडलिया छंद”माँ बसंत मैं देख लूँ, आई तेरी कॉखदेख पतझड़आयगा, नवतरु पल्लव शौखनवतरू पल्लव शौख, मातु मैं कली बनूँगीपा तुमसा आकार, धन्य मैं बाग करूंगी कह गौतमकविराय, भ्रूण भी कहता माँ माँ हरियाली लहराय, कोंख से पुलकित है माँ॥ म
26 फरवरी 2016
15 मार्च 2016
"
शीर्षक शब्द -नदी/नदिया /दरिया /जलधारा आदि "दोहा मुक्तक"नदी सदी की वेदना, जल कीचड़ लपटायकल बल छल की चाहना, नदिया दर्द बहायजलधारा बाधित हुई, दरिया दुर्गम राहकैसे बिन पानी दई, वंश वेलि बढ़िआय।।महातम मिश्र
15 मार्च 2016
08 मार्च 2016
वि
स्त्री यदि बहन है तो प्यार का दर्पण है,स्त्री यदि पत्नी है तो खुद का समर्पण है,स्त्री यदि भाभी है तो भावना का भण्डार है,स्त्री अगर मामी, मौसी, बुआ है तो स्नेह का सत्कार है,स्त्री यदि चाची है तो कर्तव्य की साधना है,स्त्री अगर साथी है तो सुख की शतत् सम्भावना है,औरस्त्री यदि माँ है तो साक्षात परमात्मा
08 मार्च 2016
17 मार्च 2016
“गज़ल, गुबार मेरे”जब अपना कोई होता नहीं, इर्द गिर्द यार मेरे पहुँच जाता हूँ गाँव अपने, दूर रख गुबार मेरे उठा लाता चौबारों में, छिटके हुये दीदारों कोगमों के पहाड़ उड़ा जाते, बचपनी बयार मेरे॥ टहलते हुये मिल जाते, घरघर के आदर्श जहाँ बैठी मेरी माँ मिल जाती, गुजरी हुई द्वार मेरे॥ बचपन के मीत मिलते, भूलेबिसर
17 मार्च 2016
08 मार्च 2016
वि
स्त्री यदि बहन है तो प्यार का दर्पण है,स्त्री यदि पत्नी है तो खुद का समर्पण है,स्त्री यदि भाभी है तो भावना का भण्डार है,स्त्री अगर मामी, मौसी, बुआ है तो स्नेह का सत्कार है,स्त्री यदि चाची है तो कर्तव्य की साधना है,स्त्री अगर साथी है तो सुख की शतत् सम्भावना है,औरस्त्री यदि माँ है तो साक्षात परमात्मा
08 मार्च 2016
24 फरवरी 2016
सादर शुभप्रभातमित्रगण, आज आप सभी को सादर निवेदित है एक कुण्डलिया छंद.............. “कुण्डलिया छंद”मन जब मन की ना सुने, करे वाद प्रतिवादकुंठित हो विचरण करे, ताहि शरण अवसाद ताहि शरण अवसाद, निरंकुश बैन उचारे  लपकि करे अपराध, हताहत रोष पुकारे कह गौतम कविराय, न विकृति बोली सज्जन बिन वाणी अकुलाय, विहंगम ह
24 फरवरी 2016
08 मार्च 2016
ना
औरत  तो अपना फर्ज़ खूब निभाती रही,और ये दुनिया मासूम पर ज़ुल्म ढाती रहीन मालूम कितनी कुर्बानियां दी हैं अब तलक,वो बेक़सूर होकर भी ताउम्र सज़ा पाती रहीबेटी, माँ, सास का किरदार सलीके से निभाया,इनाम तो न हुआ हासिल ज़िल्लत ही पाती रहीउसे इल्म ही न था कुछ सीखने समझने का,यही एक कमी थी दुनिया बेवक़ूफ बनाती रह
08 मार्च 2016
12 मार्च 2016
बु
बुरा न मानों होली है.....जोगीरा सररररर..........होली में हुड़दंग मिला है, जश्न धतूरा भाँग.....रंग गुलाबी गाल लगा है, खूब चढ़ा बेईमान.....जोगीरा सरररररझूम रहा है शहर मुहल्ला, खाय मगहिया पानगली गली में शोर मचा है, माया की मुस्कान......जोगीरा सरररररजोर-शोर से हर सेंटर पर है हल्ला इम्तहानबाप सिखाए अकल नक़ल
12 मार्च 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x