वायु सेना में शामिल होगी 'अस्त्र' मिसाइल

14 मार्च 2016   |  आशीष श्रीवास्‍तव   (426 बार पढ़ा जा चुका है)

वायु सेना में शामिल होगी 'अस्त्र' मिसाइल: जानें 5 खूबियां

भारतीय वायुसेना अगले साल तक अपने जखीरे में 'अस्‍त्र' मिसाइल को भी शामिल कर लेगी। हवा से हवा में सटीक निशाना साधने वाली इस हाई टेक्‍नोलॉजी वाली मिसाइल को सार्वजनिक तौर पर पहली बार दागने की तैयारी हो चुकी है।

10 साल लग गए बनाने में
भारतीय वायुसेना के लिए 'अस्‍त्र' मिसाइल काफी अहम है क्‍योंकि इसे बनाने में लगभग 10 साल लग गए। फिलहाल इसका परीक्षण चल रहा है और यह 2016 के अंत तक पूरा हो जाएगा। आईएएफ के एक अधिकारी के मुताबिक, 18 मार्च को राजस्‍थान के पोखरण में विमान सुखोई 30 एमकेआई के जरिए इस मिसाइल को छोड़ा जाएगा। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी यहां मौजूद होंगे।


1. इस मिसाइल की तकनीक बैलिस्टिक मिसाइल 'अग्नि' से बहुत अधिक उन्नत है। इसमें काफी आधुनिक और स्‍मार्ट यंत्र लगे हैं। यह मिसाइल लक्ष्य को उस जगह से हटा देने पर भी उसे आसानी से ढूंढ लेगी। शायद यही वजह है कि इसे बनाने में रक्षा शोध एवं अनुसंधान संगठन (डीआरडीओ) को इतनी देर लग गई। 
   

2. इसमें लगे अत्याधुनिक यंत्र इसे तेजी से लक्ष्य का पीछा करके उसे समाप्त करने की क्षमता देते हैं। इस मिसाइल ने पैंतरे बदलने वाले लक्ष्यों को भी परीक्षण के दौरान बहुत सटीक ढंग से भेदा है। 
    

3. दुश्मन के विमानों द्वारा इलेक्ट्रो मैग्नेटिक क्षेत्र बना कर मिसाइलों को लक्ष्य से भटकाने की कोशिश करने की स्थिति में उससे निकल कर इसमें सटीक निशाना साधने की क्षमता है। डीआरडीओ की मानें तो यह मिसाइल 20 किलोमीटर से 80 किलोमीटर के तक लक्ष्य को भेदने में सक्षम है।


4. यह मिसाइल 3.57 मीटर लंबी है। इसका व्यास 178 मिलीमीटर है और प्रक्षेपण के समय इसका वजन 154 किलोग्राम रहता है। आम तौर पर इसमें 15 किलोग्राम विस्फोटक रहता है। 
    

5. समुद्र स्तर से दागने पर यह 20 किलोमीटर जाती है लेकिन यह 8 हजार मीटर की ऊंचाई से दागने पर 44 किलोमीटर और 15 हजार मीटर से दागने पर 80 किलोमीटर दूर के लक्ष्य को भेद सकती है। एक बार नाकाम होने की बात छोड़ दें तो यह मिसाइल अब तक के सभी परीक्षणों में सफल रही है।

inextlive Desk

अगला लेख: जमशेदजी टाटा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2016
नियुक्ति-पत्र हाथ में लिए,खिलखिलाती बेटी से माँ ने पूछा-अब क्या करोगी?माँ!तुमने समाज कीसारी कुरीतियों, क्रूरताओं के सामनेएक कवच बन करमुझे जन्मा, पाला;अब तुम्हारी शक्ति बनूँगीऐसा अप्रत्याशित उत्तर...आलोक से भर गया मन का कोना-कोनासहसा ही मनपीछे मुङकर देखने लगा-वहाँ, जहाँ -बरामदे में खड़े सभी परिजन,नर
08 मार्च 2016
04 मार्च 2016
 महाराणा प्रताप जी की आज ४७५वी जयंती है. सादर नमन इस भारत माँ के वीर सुपुत्र को रण बीच चोकड़ी भर-भर कर चेतक बन गया निराला थाराणाप्रताप के घोड़े से पड़ गया हवा का पाला था,जो तनिक हवा से बाग़ हिली लेकर सवार उड़ जाता थाराणा की पुतली फिरी नहीं,तब तक चेतक मुड जाता था.बचपन से ही महाराणा प्रताप साहसी, वीर, स्वा
04 मार्च 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x