"मत्तगयंद/ मालती सवैया"

16 मार्च 2016   |  महातम मिश्रा   (112 बार पढ़ा जा चुका है)

"मत्तगयंद/ मालती सवैया


जा मत छोड़ मकान दलान मलाल जिया मत राखहु स्वामी
धीरज धारहु आपुहि मानहु जानहु मान न पावत नामी।।
खोजत है मृग राखि हिया निज आपनि कोख सुधा कस्तूरी
पावत नाहि कुलाच लगाय लगाय जिया जिय साध अधूरी।।
शौक श्रृंगार तजौ पिय आपनि भोग विलास अधार न सांई
मोह मया तजि आस भरो मन रेत दिवाल कहाँ लगि जाई।।
नाहक ऊसर खेत करो मत बादल वारिधि ताप मिटाई
देखहु भूमि पुकार रही रखि बेंग बिया मन करो न ढिठाई।।

महातम मिश्र

अगला लेख: "गीत- नवगीत"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 मार्च 2016
"
शीर्षक शब्द -नदी/नदिया /दरिया /जलधारा आदि "दोहा मुक्तक"नदी सदी की वेदना, जल कीचड़ लपटायकल बल छल की चाहना, नदिया दर्द बहायजलधारा बाधित हुई, दरिया दुर्गम राहकैसे बिन पानी दई, वंश वेलि बढ़िआय।।महातम मिश्र
15 मार्च 2016
06 मार्च 2016
"
सादर निवेदित एक भोजपुरी उलारा जो  रंग फ़ाग चौताल इत्यादि के बाद लटका के रूप में गाया जाता है। कल मैनें इसी के अनुरूप एक चौताल पोस्ट किया था  जिसका उलारा आज आप सभी मनीषियों को सादर निवेदित है, पनिहारन वही है उसके नखरे देखें"उलारा गीत"कूई पनघट गागर ले आई, इक कमर नचावत पनिहारनछलकाती अधजल कलसा, झुकि प्या
06 मार्च 2016
10 मार्च 2016
"
सादर शुभप्रभात आदरणीय मित्रों, आज आप सभी को सादर निवेदित है एक ग़ज़ल ………….  “गजल”चाहतें चाह बन जाती, अजनवी राह बन जाती मिली ये जिंदगी कैसी, मुकद्दर छांह बन जाती  पारस ढूँढने निकला, उठा बोझा पहाड़ों का बांधे पाँव की बेंड़ी, कनक री, राह बन जाती॥   मगर देखों ये भटकन, यहाँ उन्माद की राहें  मंज़िले मौत टकराती
10 मार्च 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x