क्या ये लोग जवाब देंगे?

17 मार्च 2016   |  आशीष श्रीवास्‍तव   (116 बार पढ़ा जा चुका है)

दलित कह रहे हैं ब्राह्मणवाद खत्म होना चाहिए. और बहन मायावती पंडित सतीश चन्द्र मिश्रा को पार्टी के चुनाव प्रभार की बागडोर सौंप रही हैं. भक्त कह रहे हैं मुसलमान बीफ से परहेज करें वरना हिसाब होगा. उधर मोदी जी अरब के बीचोंबीच अबु धाबी में मंदिर निर्माण कर रहे हैं. कन्हैया मज़दूर की लड़ाई लड़ना चाहता है और दूसरी ओर कामरेड जावेद अख्तर जेट एयरवेज की डायरेक्टरशिप लेकर पूँजीवाद का पूरा मज़ा ले रहे हैं.

इस देश में संवाद और यथार्थ में बड़ा अंतर है.

होना भी चाहिए जब नीरा राडिया के साथ 900 चूहे खाने के बाद इस देश में कोई सोशल जर्नलिज्म के हज पर निकलता है. 500 करोड़ की टैक्स चोरी में फंसा चैनल जब कहता है 'जुबां पर सच और दिल में..तब संवाद और यथार्थ में अंतर दीखता है. जो बंधु वामपंथी पार्टी का झंडा लेकर यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की जगह राजनीत में वक़्त खपा रहे थे वो आज संपादक बनकर कन्हैया के लिए कसीदे पढ़ रहे हैं. जो एबीवीपी के नेता थे वो एंकर बनकर कन्हैया को कोस रहे हैं.

ये छद्म संघर्ष कब तक चलेगा?

हम क्यों नही कहते कि हम पत्रकारिता नहीं पत्रकारिता की आड़ में अपनी विचारधारा को लेकर पाठकों के साथ छल करते हैं. और बिज़नेस फ्रंट पर कॉर्पोरेट इंटरेस्ट को लेकर दूसरों को गुमराह.

हम पत्रकार नही छलिया हैं और छलना अब हमने पेशा बना लिया है.

मैं विनम्र निवेदन करूँगा भाई दिलीप मंडल से की फेसबुक पोस्ट की अगली क़िस्त में वो पंडित सतीश चन्द्र मिश्रा, पंडित ब्रजेश पाठक और पंडित रामवीर उपाध्याय पर लिखें और मायावती के चेहरे से नीला नकाब उतारें.

मैं चाहूंगा बरखा दत्त हमे भ्रस्टाचार पर रिलायंस और इंडिया बुल्स के अरबों रूपए के मीडिया निवेश से अवगत कराएं.

मैं विनम्र निवेदन करूँगा सुधीर चौधरी से कि वो ये बताएं की माफिया सरगना मुख़्तार अंसारी और उनके मालिक सुभाष चन्द्र के बीच रिश्ते क्या थे और हैं?

ये तीनों बड़े पत्रकार हैं और पैनी निगाह रखते हैं. अगर वो इन मामलों पर रोशिनी डालेंगे तो समाज और मीडिया के बीच बढ़ती खाई और घटती साख कुछ कम हो सकेगा 

 इंडिया संवाद पोर्टल के संस्थापक पत्रकार दीपक शर्मा के फेसबुक वॉल से

अगला लेख: जमशेदजी टाटा



जी हाँ कथनी करनी का अंतर


well said ... ये बात सही भी है की बोलना और कर दिखाना अलग अलग बातें है ।

well said ... ये बात सही भी है की बोल्न और कर दिखाना अलग अलग बातें है ।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 मार्च 2016
श्री पी ए  संगमा जी का आज हृदयगति रुकने से आकस्मिक निधन हो गया है. देश के लिए एक अपूरणीय क्षति है , उनके जैसा मृदुभाषी , ज्ञानवान और सभी दलों में स्वीकार्य व्यक्ति अब शायद ही इस देश को मिले . प्रभु उनकी आत्मा को शान्ति प्रदान करे 1973 में, पीए संगमा मेघालय में प्रदेश युवा कांग्रेस के उपाध्यक्ष बने।अ
04 मार्च 2016
04 मार्च 2016
 महाराणा प्रताप जी की आज ४७५वी जयंती है. सादर नमन इस भारत माँ के वीर सुपुत्र को रण बीच चोकड़ी भर-भर कर चेतक बन गया निराला थाराणाप्रताप के घोड़े से पड़ गया हवा का पाला था,जो तनिक हवा से बाग़ हिली लेकर सवार उड़ जाता थाराणा की पुतली फिरी नहीं,तब तक चेतक मुड जाता था.बचपन से ही महाराणा प्रताप साहसी, वीर, स्वा
04 मार्च 2016
10 मार्च 2016
बुंदेलखंड झांसी के एक साधारण परिवार की बेटी ने लड़कियों की सुरक्षा के लिए एक एंटी रेप बेल्ट बनायींझांसी में कक्षा 10 में पढ़ने वाली शि‍वानी प्रजापति ने महिलाओं की सेफ्टी के लिए एक एंटी रेप बेल्ट बनायीं है । इस बेल्ट की खास बात यह है कि अगर आप बेल्ट पहने हैं और कोई आपको छूएगा तो यह बेल्ट 3 वोल्ट का जो
10 मार्च 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x