कुंडलिया

18 मार्च 2016   |  महातम मिश्रा   (94 बार पढ़ा जा चुका है)

कुंडलिया

शुक्रवार '' चित्र अभिव्यक्ति आयोजन ''( 18.3.2016) ♧♧


"कुंडलिया छंद"


देखता बादल को है, नित सोचता किसान

सीढ़ी होती स्वर्ग की, करता एक विधान

करता एक विधान, दौड़ के उसपर चढ़ता

करता तुझमे छेद, खेत का पानी बढ़ता

कह गौतम कविराय, हाथ से लक्ष्य भेदता

तुमहि देत बतलाय, सुनहरी फसल देखता।।


महातम मिश्र (गौतम)

अगला लेख: "गीत- नवगीत"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 मार्च 2016
"
"बसंत जगा रहा है"शायद वो बसंत है, जो पेड़ों को जगा रहा हैमंजरी आम्र का है, कुच महुआ सहला रहा हैबौर महक रहें हैं बेर के, सुंगंध बिखराए हुएरंभा लचक रही है, बहार कदली फुला रहा है।।किनारे पोखर के सेमर, रंग पानी दिखा रहा हैकपास होनहार रुईया को, खूब चमका रहा हैपीत वदन सरसों, कचनार फूल गुलमोहर काबिखरें हैं
14 मार्च 2016
15 मार्च 2016
"
शीर्षक शब्द -नदी/नदिया /दरिया /जलधारा आदि "दोहा मुक्तक"नदी सदी की वेदना, जल कीचड़ लपटायकल बल छल की चाहना, नदिया दर्द बहायजलधारा बाधित हुई, दरिया दुर्गम राहकैसे बिन पानी दई, वंश वेलि बढ़िआय।।महातम मिश्र
15 मार्च 2016
18 मार्च 2016
शुक्रवार '' चित्र अभिव्यक्ति आयोजन ''( 18.3.2016) ♧♧"कुंडलिया छंद"देखता बादल को है, नित सोचता किसानसीढ़ी होती स्वर्ग की, करता एक विधानकरता एक विधान, दौड़ के उसपर चढ़ताकरता तुझमे छेद, खेत का पानी बढ़ताकह गौतम कविराय, हाथ से लक्ष्य भेदतातुमहि देत बतलाय, सुनहरी फसल देखता।।महातम मिश्र (गौतम)
18 मार्च 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x