कुंडलिया

18 मार्च 2016   |  महातम मिश्रा   (122 बार पढ़ा जा चुका है)

कुंडलिया

शुक्रवार '' चित्र अभिव्यक्ति आयोजन ''( 18.3.2016) ♧♧


"कुंडलिया छंद"


देखता बादल को है, नित सोचता किसान

सीढ़ी होती स्वर्ग की, करता एक विधान

करता एक विधान, दौड़ के उसपर चढ़ता

करता तुझमे छेद, खेत का पानी बढ़ता

कह गौतम कविराय, हाथ से लक्ष्य भेदता

तुमहि देत बतलाय, सुनहरी फसल देखता।।


महातम मिश्र (गौतम)

अगला लेख: "गीत- नवगीत"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 मार्च 2016
"
सादर शुभप्रभात आदरणीय मित्रों, आज आप सभी को सादर निवेदित है एक ग़ज़ल ………….  “गजल”चाहतें चाह बन जाती, अजनवी राह बन जाती मिली ये जिंदगी कैसी, मुकद्दर छांह बन जाती  पारस ढूँढने निकला, उठा बोझा पहाड़ों का बांधे पाँव की बेंड़ी, कनक री, राह बन जाती॥   मगर देखों ये भटकन, यहाँ उन्माद की राहें  मंज़िले मौत टकराती
10 मार्च 2016
08 मार्च 2016
वि
सादर शुभ प्रभात मित्रों,आज विश्व महिला दिवस पर मंच की सभी महिला मित्रों को सादर प्रणाम, महिला शक्ति को सादर नमन। मुझे लगता है कि आज हमें अपने अंतरमन से यह जरूर पुछना चाहिए कि क्या हमारे अबतक के जीवन का एक पल भी बिना किसी महिला के साथ के व्यतित हुआ है। अगर उत्तर नहीं है तो पीछे मुड़कर देखें, जन्म दिया
08 मार्च 2016
07 मार्च 2016
"
 मंच को सादर प्रस्तुत है एक शिवमय रचना, आप सभी पावन शिवरात्री पर मंगल शुभकामना, ॐ नमः शिवाय"कंहरवा तर्ज पर एक प्रयास"डम डम डमरू बजाएं, भूत प्रेत मिली गाएंचली शिव की बारात,  बड़ बड़ात रहिया।नंदी नगर नगर,  घुमे बसहा बयलसंपवा करे फुफकार, मन डेरात रहिया।।गलवा सोहे रुद्राक्ष, बासुकी जी माल भालसथवां मुनि ऋष
07 मार्च 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x