हटिया खुली बजाजा बंद, झाड़े रहो कलट्टर गंज

29 मार्च 2016   |  ओम प्रकाश शर्मा   (467 बार पढ़ा जा चुका है)

हटिया खुली बजाजा बंद, झाड़े रहो कलट्टर गंज

हटिया खुली बजाजा बंद, झाड़े रहो कलट्टर गंज...

फागुनी मस्ती में शहर के पुराने रईस व सेठों द्वारा उभरते सेठों पर फब्ती है जो बहुचर्चित हुई। आज यह होली की फब्ती हर ज़ुबान पर होती है। आइए इसकी दास्तान जानें। सन् 1866 में शहर के कलेक्टर डब्लू एच हालसी  ने अनाज मण्डी का उद्घाटन दशहरे के अवसर पर किया। इससे पहले अनाज मंडी दौलतगंज में थी। हालसी द्वारा स्थापित नई मंडी कलेक्टर गंज कहलायी। इसके आसपास ईंट भट्ठों की ज़मीन बराबर कर नयी आबादी कायम की गयी। इसमें बहुत से सेठ-साहूकारों के मुनीम व कर्मचारियों ने ठिकाना बनाया और आबाद हुए। अनाज मंडी में कानपुर नगर देहात सहित बैसवारा व बुन्देलखण्ड  के लोग बैलगाड़ियों में अनाज भरकर बेचने आते। रात में मंडी के आसपास गाड़ियाँ लगा देते और बैलों के सांई-चारा में व्यस्त हो जाते। वहां रहने वाले लोग परखी से माल देखने के बहाने बोरे छेद देते जिससे बखारी व बोरों से अनाज रात भर में पर्याप्त मात्रा में झर कर बाहर गिर जाता। सुबह साफ़ सफ़ाई के बहाने घरों के बाहर से गाड़ियां हटवा देते और अनाज को झार कर बटोर लेते। अनाज बटोरने वाले बहुत से सेठ बन गए। तब होली के अवसर पर पुराने सेठों ने वहां मौजूद नए सेठों पर झाड़े (झारे) रहो कलेक्टर गंज की फब्ती कसी जो आज सबसे ज़्यादा प्रचलित है।

हटिया, शहर की होली की परम्परा का केंद्र है। सन् 1874-75 में हटिया में चबूतरे बने और हाट लगने लगी। सन् 1942 में राष्ट्रीय आन्दोलन चरम पर था और हटिया का नवजीवन पुस्तकालय क्रांतिकारियों का केंद्र था। उन दिनों सात दिनों तक होली मनाई जाती थी जिसे तत्कालीन कलेक्टर ने रोक दिया। क्रांतिकारियों को यह नागवार गुज़रा और उन्होंने पार्क में तिरंगा फ़हरा कर होली जलाई और भारत माता की जय आदि के नारे के साथ फागुनी, फाग की मस्ती में डूब गए। घटना की जानकारी पर कलेक्टर ने पार्क को घेर लिया और 43 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। उनमें लाला बुद्धलाल, गुलाब चन्द्र सेठ,हमीद खाँ, इक़बाल कृष्ण कपूर, बाल कृष्ण शर्मा नवीन, शिवनारायण टण्डन, जागेश्वर त्रिवेदी, रघुवर दयाल भट्ट और विश्वनाथ मेहरोत्रा आदि थे। गिरफ़्तारी के विरोध में व्यापारियों ने बाजार बंद रखे।  आखिर प्रशासन झुका और सभी को रिहा किया गया। रिहाई के बाद रंगों का त्यौहार होली मनाया गया और इसे गंगा मेला नाम दिया गया। दिन भर रंगों की मस्ती के बाद शाम को गंगा स्नान कर शिष्टाचार भेंट करने की परम्परा कायम है।

होली की संस्कृति का शहर में पहले भी मनोरंजक रूप देखने सुनने को मिलता रहा है। शहर के नामी होरिहारों में पंडित प्रतापनारायण मिश्र का नाम आता है। होली के हुडदंग के बीच उन्होंने 15 मार्च 1883 को 'ब्राह्मण' पत्र भी शुरू किया था। उनके होरिहारपन के आगे पुलिस व सेठों को भी झुकना पड़ा। कहा जाता है होली के अन्झा में मिश्र जी चौक के लाला देवी प्रसाद खत्री के दरवाज़े पर जम गए और भंग की तरंग में रात भर अश्लील कबीरे गाते रहे। कबीरे सुन-सुन कर घर व बाहर लोग जमा हो गए। लाला जी ने खिसियाकर पुलिस बुला ली लेकिन 'ब्राह्मण' संपादक से पुलिस भी नतमस्तक हुई और मिश्र जी लाला देवी प्रसाद से नेग लेकर ही उठे। मिश्र जी की होली पर 21 कविताएँ साहित्य उपलब्ध है।  उन्होंने अश्लील कबीरों पर फाल्गुन महात्म्य शीर्षक किताब भी लिखी थी जो फाल्गुन मास में पढ़ी जाती थी। अब यह कृति विलुप्त हो गई है। 

-अनूप कुमार शुक्ल

(संपादक 'मात्रस्थान' हिंदी मासिक पत्रिका)


अगला लेख: भारत माता की जय के बाद अब लाइमलाइट का अगला मुद्दा क्या ?



हटिया खुली बाजार बंद, झारे रहो कलेक्टरगंज, वाह आदरणीय वाह नाम में ही करारा व्यंग है लेखका क्या कहना, पंडित जी का कबीरा बिलुप्त है अगर कुछ याद है तो दर्शन करवाएं

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अप्रैल 2016
सि
सिगरेट एवं तम्बाकू जैसे उत्पादों पर वैधानिक चेतावनी वास्तव में इनका सेवन करने वाले के मन में डर तो पैदा करती है, लेकिन किसी चीज़ की लत उस डर को भी नज़रअन्दाज़ कर देती है. इन्सान यह ग़लतफ़हमी पाल लेता है कि अंजाम कुछ भी हो, वह इनका सेवन किये बिना नहीं रह सकता. इसलिए क्या आप मानते हैं कि ऐसे उत्पादों पर चे
09 अप्रैल 2016
02 अप्रैल 2016
पूछ रहे हो क्या अभाव हैतन है केवल प्राण कहाँ है ?डूबा-डूबा सा अन्तर हैयह बिखरी-सी भाव लहर है ,अस्फुट मेरे स्वर हैं लेकिनमेरे जीवन के गान कहाँ हैं ?मेरी अभिलाषाएँ अनगिनपूरी होंगी ? यही है कठिनजो ख़ुद ही पूरी हो जाएँऐसे ये अरमान कहाँ हैं ?लाख परायों से परिचित हैमेल-मोहब्बत का अभिनय है,जिनके बिन जग सून
02 अप्रैल 2016
02 अप्रैल 2016
यदि आप बेरोजगार हैं या बिना लागत आमदनी करके सफलता के शिखर पर पहुंचना चाहते हैं तो डाक विभाग आपकी मदद कर सकता है। डाक विभाग की कैश ऑन डिलीवरी सुविधा का लाभ उठाकर आप मोटी आमदनी कर सकते हैं। आपको करना बस इतना है कि ऑनलाइन अपने शहर की चुनिंदा दुकानों की खास-खास चीजों का प्रचार कीजिए, आर्डर मिल
02 अप्रैल 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x