महिलाएँ जिन पर कानपुर को गर्व है

29 मार्च 2016   |  ओम प्रकाश शर्मा   (447 बार पढ़ा जा चुका है)

महिलाएँ जिन पर कानपुर को गर्व है


महिला सशक्तीकरण पर सर्वाधिक चर्चा नब्बे के दशक से उभरे भूमंडलीकरण के दौरान प्रारंभ हुई। 'विमेन फ्रीलिव' जैसे अप्रासंगिक आन्दोलन ने 'सशक्तीकरण' का जो रूप ग्रहण किया है वह उचित एवं प्रासंगिक दोनों ही है। महिला सशक्तीकरण के सन्दर्भ में जब कानपुर का प्रसंग आता है तो कुछ नाम सहज ही याद आने लगते हैं। इन्हीं व्यक्तियों के कृतित्वों के माध्यम से सशक्तीकरण का जो रूप सामने आता है, मुझे लगता है कि सशक्तीकरण की एक परिभाषा भी उसी में से निकलनी चाहिए।
सन् चौरासी-पच्चासी में जब मैं पत्रकारिता का अध्ययन कर रही थी तो जाकर मिली थी तारन गुजराल से। लाजपत नगर के एक मकान में जब तारन जी से मिली थी तो उनके अन्दर एक कवि की पीड़ा भी थी जो उनकी बातों में शायरी के द्वारा व्यक्त हो रही थी। उनके अन्दर मैंने एक स्वतंत्र चिंतन पाया की वे स्वयं को केवल एक स्त्री के रूप में ही नहीं देखती अपितु अपनी शख्शियत को भी पहचानती थीं।
कथा साहित्य में कानपुर की न होते हुए भी राष्ट्रीय स्तर पर  कानपुर की पहचान अपने वजूद से बनाने वाली सुमति अय्यर को स्मरण किये बिना आगे बढ़ने को मन तैयार नहीं होता। एक संवेदनशील कथाकार का ऐसा दुःखान्त। सोचकर ही मन द्रवित हो जाता है।
महिला सशक्तीकरण के लिए मेरा मानना है कि प्रभावी निर्णय लेने की क्षमता एवं उन निर्णयों को लागू करने की शक्ति सर्वाधिक महत्वपूर्ण मानदंड है। इस सन्दर्भ में डॉ. लक्ष्मी सहगल का कानपुर की सरज़मीं पर होना कनपुरियों के लिए गर्व का विषय है। इसी क्रम में मानवती आर्या का नाम भी उल्लेखनीय है। स्वतंत्रता आन्दोलन में सुभाष चन्द्र बोस की आज़ाद हिन्द फ़ौज में दोनों ही महिलाओं की प्रभावी भूमिका थी। 'प्रतिष्ठा' से मानवती तक के सफर के बाद भी वह थकी नहीं। किसी भारतीय नारी का यह सबसे सशक्त रूप है जिसमें वह समाज के हित के लिए अपने पति का शव लेकर स्वयं मेडिकल कॉलेज में देहदान के लिए पहुँचती है। यह निर्णय लेने एवं उसे लागू करने की अदम्य शक्ति का परिचायक है। मैं मानवती जी को प्रणाम करती हूँ।
सशक्तीकरण में महिलाओं की स्थिति के सकारात्मक स्वरुप को राजनैतिक शक्ति के द्वारा प्राप्त किया जाना भी आवश्यक है। इस दृष्टि से जब मैं कानपुर में देखती हूँ तो सर्वप्रथम सुशीला रोहतगी जी का उल्लेख करना चाहूंगी। राजनीति के क्षेत्र में सुशीला रोहतगी एक मात्र ऐसी महिला हैं जिन्होंने भारत के पाँचो सदनों में प्रतिनिधित्व किया। चूँकि भारत में पांच ही सदन होते हैं इसलिए उनकी इस विलक्षण प्रतिभा के लिए कानपुर को उनका विशेष रूप से शुक्रगुज़ार होना चाहिए क्योंकि यह कार्य किसी पुरुष ने भी नहीं किया। ये सदन हैं, नगर निगम, विधान सभा, विधान परिषद, लोक सभा एवं राज्य सभा।
मैं पुनः साहित्य के क्षेत्र की ओर लौटी हूँ। काव्य एवं गद्य दोनों में राष्ट्रीय स्टार पर जिन्हें सम्मान एवं प्रतिष्ठा मिली हो और विशेषकर हिंदी साहित्य के अकादमिक पक्ष पर जिनका ऐसा अधिकार हो कि पाठक और आलोचक दोनों ही उनको सच्चे मन से स्वीकारें।  वह हैं डॉ. सुमन राजे। जब उनकी काव्य कृति एरिका आई थी तो लगा था कि इतिहास, परंपरा और काव्य की यह अद्भुत चिंतन परक प्रस्तुति है। लेकिन जब उनकी कृति आत्मकथा के भीतर आत्मकथा आई तो उनकी प्रतिभा एवं चिंतन का लोहा पूरे साहित्य जगत ने माना।
साहित्य बिना समालोचना के अधूरा होता है। समालोचना के क्षेत्र में आज के मूर्धन्य प्रज्ञा पुरुष नामवर सिंह के गुरु पंडित देवीशंकर अवस्थी ऐसे लोगों में माने जाए हैं जिन्होंने समालोधना को एक विधा के रूप में स्थापित किया। लेकिन अगर डॉ. कमलेश अवस्थी की संकल्प शक्ति न होती तो एक चमकता सितारा बादलों की ओट में खो जाता क्योंकि जिस प्रकार सर पियरे क्यूरी के वैज्ञानिक खोजपूर्ण कार्य को उनके देहावसान के बाद उनकी पत्नी मैडम क्यूरी ने संसार के सामने प्रस्तुत किया उसी प्रकार डॉ. कमलेश अवस्थी ने स्वर्गीय देवीशंकर अवस्थी के अप्रकाशित कार्य को प्रकाशित करा कर अपनी ऊर्जा शक्ति का परिचय दिया।
शिक्षा के क्षेत्र में कानपुर की दो महिलाओं का उल्लेख अति आवश्यक है। डॉ. हेमलता स्वरुप जो तत्कालीन कानपुर विश्वविद्यालय की कुलपति रहीं एवं डॉ. माधवीलता शुक्ला जो अब एक मृदुल स्मृति के रूप में आज भी हमारे बीच हैं। डॉ. माधवीलता शुक्ला ने साहित्य के क्षेत्र में गीता माधव सन्देश एवं अन्य रचनाओं के माध्यम से तो अतुलनीय योगदान दिया ही है, उन्होंने गीता मेला की एक अभिनव शुरुआत भी कानपुर में की। उन्होंने कानपुर के दक्षिण क्षेत्र में महिला शिक्षा की पूर्णता के लिए बृहस्पति महिला महाविद्यालय की स्थापना भी की।
चिकित्सा के क्षेत्र में महिलाओं की विशेषता के लिए कानपुर विख्यात है। यहाँ पर डॉ. आरती लाल चंदानी का उल्लेख विशेष रूप से इसलिए आवश्यक है कि उन्होंने भारत में पहली बार हिंदी में मेडिसिन जैसे विषय पर पुस्तक लिखी।
-डॉ. अलका दीक्षित
(निदेशक, उत्कर्ष अकादमी स्वरुप नगर कानपुर)
साभार : 'मात्रस्थान' पत्रिका
 

अगला लेख: भारत माता की जय के बाद अब लाइमलाइट का अगला मुद्दा क्या ?



ATI Sundar Lekh

Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215

अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

धन्यवाद, उषा जी, योगिता जी एवं आशीष जी !

बहुत ही बढ़िया लेख |

उषा यादव
02 अप्रैल 2016

बहुत बढ़िया लेख ! डॉ. अलका जी के प्रति आभार !

जी हाँ इन महान विभूतियों के कारण हूँ कनपुरियों को गर्व की अनुभूति होती है... प्रेरणा दायक लेख

अखिल भारत वैचारिक क्रांति मंच, भोपाल, शब्दनगरी से जुड़ने के लिए धन्यवाद ! प्रस्तुत लेख पसंद करने हेतु आभार !

महातम मिश्र जी, हार्दिक आभार !

भारतीय नारियाँ ही भारत की शक्ति हैं | जिसनें अपने गर्व से इस भारत भूमि पर हजारों गर्व करने वाले ,नर और नारियों कों जन्म देकर इस भूमि कों पहचान दी | नमन भारत माता की जय

अति सुंदर संसमरण वाह आदरणीय वाह

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 अप्रैल 2016
यदि आप बेरोजगार हैं या बिना लागत आमदनी करके सफलता के शिखर पर पहुंचना चाहते हैं तो डाक विभाग आपकी मदद कर सकता है। डाक विभाग की कैश ऑन डिलीवरी सुविधा का लाभ उठाकर आप मोटी आमदनी कर सकते हैं। आपको करना बस इतना है कि ऑनलाइन अपने शहर की चुनिंदा दुकानों की खास-खास चीजों का प्रचार कीजिए, आर्डर मिल
02 अप्रैल 2016
01 अप्रैल 2016
बड़े-बड़े शहरों में बीचो-बीच तंग गलियों के रूप में सड़ रही हैं ऐसी तमाम सरकारी ज़मीनें जिनका इस्तेमाल प्रशासन को किसी ऐसे रूप में करना चाहिए जो साफ़ सुथरी रहनेके साथ लोगों के काम भी आएँ क्योंकि ऐसी गलियों में घरों के दरवाज़े नहीं खुलते बल्कि सिर्फ कूड़ा-कचरा फेका जाता है, और इनकी सफ़ाई कभी नहीं होती
01 अप्रैल 2016
31 मार्च 2016
कुछ लोगों को भले ही अन्य पेय की अपेक्षा बेल का शरबत कम भाए, लेकिन इसके औषधीय गुण जानने के बाद हर कोई इसका शरबत पीना चाहेगा। बेल फल, कफ़-पित्त और वायु तीनों विकारों को दूर करता है। इसका सेवन भूख बढ़ाता है। यह फल ज्वरनाशक, वेदनाहर, कृमिनाशक, संग्राही (मल को बाँधकर लाने वाले) व सूजन उतारने वाले हैं। शरीर
31 मार्च 2016
02 अप्रैल 2016
चल मेरे साथ ही चल ऐ मेरी जान-ए-ग़ज़लइन समाजों के बनाये हुये बंधन से निकल, हम वहाँ जाये जहाँ प्यार पे पहरे न लगेंदिल की दौलत पे जहाँ कोई लुटेरे न लगेंकब है बदला ये ज़माना, तू ज़माने को बदल, प्यार सच्चा हो तो राहें भी निकल आती हैंबिजलियाँ अर्श से ख़ुद रास्ता दिखलाती हैंतू भी बिजली की तरह ग़म के अँधेरो
02 अप्रैल 2016
08 अप्रैल 2016
भा
भावुकता स्नेहिल ह्रदय ,दुर्बलता न नारी की ,संतोषी मन सहनशीलता, हिम्मत है हर नारी की ........................................................................भावुक मन से गृहस्थ धर्म की , नींव वही जमाये है ,पत्थर दिल को कोमल करना ,नहीं है मुश्किल नारी की.................................................
08 अप्रैल 2016
01 अप्रैल 2016
भा
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:Always
01 अप्रैल 2016
08 अप्रैल 2016
भा
भावुकता स्नेहिल ह्रदय ,दुर्बलता न नारी की ,संतोषी मन सहनशीलता, हिम्मत है हर नारी की ........................................................................भावुक मन से गृहस्थ धर्म की , नींव वही जमाये है ,पत्थर दिल को कोमल करना ,नहीं है मुश्किल नारी की.................................................
08 अप्रैल 2016
16 मार्च 2016
उससे  कहना  कि  कमाई  के न चक्कर में रहेदौर  अच्छा  नहीं,  बेहतर है कि वो घर में रहे Iजब  तराशे  गए   तब  उनकी  हक़ीक़त  उभरी,वरना कुछ रूप तो सदियों किसी पत्थर में रहे Iदूरियाँ  ऐसी  कि  दुनिया  ने  न  देखीं  न  सुनीं,वो  भी  उससे  जो  मिरे  घर  के बराबर में रहे Iवो  ग़ज़ल  है  तो  उसे छूने की ह़ाज
16 मार्च 2016
08 अप्रैल 2016
भा
भावुकता स्नेहिल ह्रदय ,दुर्बलता न नारी की ,संतोषी मन सहनशीलता, हिम्मत है हर नारी की ........................................................................भावुक मन से गृहस्थ धर्म की , नींव वही जमाये है ,पत्थर दिल को कोमल करना ,नहीं है मुश्किल नारी की.................................................
08 अप्रैल 2016
22 मार्च 2016
श्रीश्री रविशंकर के रवि से श्रीश्री बनने तक के सफर के बारे में एमएन चक्रवर्ती आगे बताते हैं, उन दिनों में वह बेहद आकर्षक थे। एक ऐसा युवक जिसके गाल आपको उसके करीब ले जाते और आपका दिल करता कि आप उसके गालों को पिंच करें। लंबे उड़ते बाल और दाढ़ी के बावजूद आप जब उसे छूते तो आपके अंदर नारी को छूने वाला फी
22 मार्च 2016
15 मार्च 2016
नज़र में हर दुश्वारी रखख़्वाबों में बेदारी रखदुनिया से झुक कर मत मिलरिश्तों में हम-वारी रखसोच समझ कर बातें करलफ़्ज़ों में तह-दारी रखफ़ुटपाथों पर चैन से सोघर में शब-बेदारी रखतू भी सब जैसा बन जाबीच में दुनिया-दारी रखएक ख़बर है तेरे लिएदिल पर पत्थर भारी रखख़ाली हाथ निकल घर सेज़ाद-ए-सफ़र हुश्यारी रखशेर
15 मार्च 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x