कोई नग्मा...

30 मार्च 2016   |  ओम प्रकाश शर्मा   (130 बार पढ़ा जा चुका है)

कोई नग्मा...

अपने लिए

सभी जीते हैं, 

ये कोई जीना है ? 

औरों की खातिर

कोई नग्मा

प्यार से गाते रहिये !

अगला लेख: भारत माता की जय के बाद अब लाइमलाइट का अगला मुद्दा क्या ?



यु ही कोई नग्मा गुनगुनाते रहिये ....बहुत सुन्दर भैया

यु ही कोई नग्मा गुनगुनाते रहिये ....बहुत सुन्दर भैया

सुरेश
14 जून 2017

बहुत अच्छा है

उषा यादव
02 अप्रैल 2016

बहुत सुन्दर !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 मार्च 2016
"जीवन मिलना भाग्य की बात है; मृत्यु होना समय की बात है लेकिन मृत्यु के बाद भी लोगों के दिलों में जीवित रहना कर्मों की बात है !"
16 मार्च 2016
02 अप्रैल 2016
(व्यंग्य)शहर में ऐसा शोर था कि अश्‍लील साहित्‍य का बहुत प्रचार हो रहा है। अखबारों में समाचार और नागरिकों के पत्र छपते कि सड़कों के किनारे खुलेआम अश्‍लील पुस्‍तकें बिक रही हैं।दस-बारह उत्‍साही समाज-सुधारक युवकों ने टोली बनाई और तय किया कि जहाँ भी मिलेगा हम ऐसे साहित्‍य को छीन लेंगे और उसकी सार्वजनिक
02 अप्रैल 2016
04 अप्रैल 2016
क्
समाज के हर वर्ग के लोग आत्महत्या के शिकार होते हैं। अमीर-गरीब, पढ़े-लिखे और अनपढ़, महत्वाकांक्षी और आत्मसंतुष्ट... कोई पैमाना नहीं कि इस काल के गाल में कौन गिरता है। सर्वमान्य है कि कोई भी समस्या ऐसी नहीं जिसका हल न हो। फिर सवाल यह है कि क्या स्वयं का जीवन समाप्त करने वालों को इससे बचाया जा सकता है ?
04 अप्रैल 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x