कोई नग्मा...

30 मार्च 2016   |  ओम प्रकाश शर्मा   (130 बार पढ़ा जा चुका है)

कोई नग्मा...

अपने लिए

सभी जीते हैं, 

ये कोई जीना है ? 

औरों की खातिर

कोई नग्मा

प्यार से गाते रहिये !

अगला लेख: भारत माता की जय के बाद अब लाइमलाइट का अगला मुद्दा क्या ?



यु ही कोई नग्मा गुनगुनाते रहिये ....बहुत सुन्दर भैया

यु ही कोई नग्मा गुनगुनाते रहिये ....बहुत सुन्दर भैया

सुरेश
14 जून 2017

बहुत अच्छा है

उषा यादव
02 अप्रैल 2016

बहुत सुन्दर !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 अप्रैल 2016
चल मेरे साथ ही चल ऐ मेरी जान-ए-ग़ज़लइन समाजों के बनाये हुये बंधन से निकल, हम वहाँ जाये जहाँ प्यार पे पहरे न लगेंदिल की दौलत पे जहाँ कोई लुटेरे न लगेंकब है बदला ये ज़माना, तू ज़माने को बदल, प्यार सच्चा हो तो राहें भी निकल आती हैंबिजलियाँ अर्श से ख़ुद रास्ता दिखलाती हैंतू भी बिजली की तरह ग़म के अँधेरो
02 अप्रैल 2016
02 अप्रैल 2016
पूछ रहे हो क्या अभाव हैतन है केवल प्राण कहाँ है ?डूबा-डूबा सा अन्तर हैयह बिखरी-सी भाव लहर है ,अस्फुट मेरे स्वर हैं लेकिनमेरे जीवन के गान कहाँ हैं ?मेरी अभिलाषाएँ अनगिनपूरी होंगी ? यही है कठिनजो ख़ुद ही पूरी हो जाएँऐसे ये अरमान कहाँ हैं ?लाख परायों से परिचित हैमेल-मोहब्बत का अभिनय है,जिनके बिन जग सून
02 अप्रैल 2016
01 अप्रैल 2016
भा
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:Always
01 अप्रैल 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x