कोई नग्मा...

30 मार्च 2016   |  ओम प्रकाश शर्मा   (124 बार पढ़ा जा चुका है)

कोई नग्मा...

अपने लिए

सभी जीते हैं, 

ये कोई जीना है ? 

औरों की खातिर

कोई नग्मा

प्यार से गाते रहिये !

अगला लेख: भारत माता की जय के बाद अब लाइमलाइट का अगला मुद्दा क्या ?



यु ही कोई नग्मा गुनगुनाते रहिये ....बहुत सुन्दर भैया

यु ही कोई नग्मा गुनगुनाते रहिये ....बहुत सुन्दर भैया

सुरेश
14 जून 2017

बहुत अच्छा है

उषा यादव
02 अप्रैल 2016

बहुत सुन्दर !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 मार्च 2016
हटिया खुली बजाजा बंद, झाड़े रहो कलट्टर गंज...फागुनी मस्ती में शहर के पुराने रईस व सेठों द्वारा उभरते सेठों पर फब्ती है जो बहुचर्चित हुई। आज यह होली की फब्ती हर ज़ुबान पर होती है। आइए इसकी दास्तान जानें। सन् 1866 में शहर के कलेक्टर डब्लू एच हालसी  ने अनाज मण्डी का उद्घाटन दशहरे के अवसर पर किया। इससे पह
29 मार्च 2016
02 अप्रैल 2016
यदि आप बेरोजगार हैं या बिना लागत आमदनी करके सफलता के शिखर पर पहुंचना चाहते हैं तो डाक विभाग आपकी मदद कर सकता है। डाक विभाग की कैश ऑन डिलीवरी सुविधा का लाभ उठाकर आप मोटी आमदनी कर सकते हैं। आपको करना बस इतना है कि ऑनलाइन अपने शहर की चुनिंदा दुकानों की खास-खास चीजों का प्रचार कीजिए, आर्डर मिल
02 अप्रैल 2016
26 मार्च 2016
रोज़ बढ़ता हूँ जहाँ से आगेफिर वहीं लौट के आ जाता हूँबारहा तोड़ चुका हूँ जिन कोइन्हीं दीवारों से टकराता हूँरोज़ बसते हैं कई शहर नयेरोज़ धरती में समा जाते हैंज़लज़लों में थी ज़रा सी गिरहवो भी अब रोज़ ही आ जाते हैंजिस्म से रूह तलक रेत ही रेतन कहीं धूप न साया न सराबकितने अरमाँ है किस सहरा मेंकौन रखता है
26 मार्च 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x