ग्लैमरस भूमिकाओं की मल्लिका थीं अभिनेत्री परवीन बाबी

04 अप्रैल 2016   |  ओम प्रकाश शर्मा   (616 बार पढ़ा जा चुका है)

ग्लैमरस भूमिकाओं की मल्लिका थीं अभिनेत्री परवीन बाबी


परवीन बाबी सत्तर के दशक के शीर्ष नायको के साथ फिल्मो मे ग्लैमरस भूमिका निभाने के लिए याद की जाती है। उन्होने सत्तर और अस्सी के दशक में बनी ब्लॉकबस्टर फिल्मो मे भी काम किया जिनमें प्रमुख थीं  दीवार, नमक हलाल, अमर अकबर एन्थोनी और शान। वह भारतीय सिनेमा की तमाम खूबसूरत अभिनेत्रियो मे से एक मानी जाती है।

4 अप्रैल 1949 को परवीन जुनागध यानि परवीन बाबी, गुजरात के एक मुस्लिम परिवार मे जन्मी थीं। उनकी शुरुआती शिक्षा माउंट कार्मेल हाई स्कूल, अहमदाबाद से हुई और बाद में उन्होंने सेंट जेवियर्स कॉलेज, अहमदाबाद से अंग्रेजी साहित्य में परास्नातक की उपाधि प्राप्त की।


परवीन का मॉडलिंग करीअर 1972 मे शुरू हुआ और जल्द ही उन्हें क्रिकेटर सलीम दुरानी के साथ चरित्र (1973) नामक एक फिल्म करने का मौका भी मिला। हालांकि यह फिल्म फ़्लॉप रही, परवीन को इसके बाद कई फिल्मे करने के प्रस्ताव मिले। उनकी पहली बडी हिट अमिताभ बच्चन के साथ अभिनीत 'मजबूर' (1974) थी। जीनत अमान के साथ साथ, परवीन बॉबी ने भी भारतीय फिल्म नायिका की छवि को बदलने में मदद की। वह जुलाई 1976, उस समय के किसी मैगज़ीन के पहले पन्ने पर प्रदर्शित करने वाली पहली बॉलीवुड स्टार थीं। अपने कैरियर के दौरान, वह एक गंभीर अभिनेत्री की तुलना में एक ग्लैमरस हीरोइन के रूप में अधिक प्रसिद्ध थीं। वह एक फैशन आइकन के रूप में भी जानी जाती थी।

परवीन, हेमा मालिनी, रेखा, जीनत अमान, जया बच्चन, रीना रॉय और राखी के साथ साथ, अपने ज़माने की सबसे सफल अभिनेत्रियों में से एक मानी जाती थी। अमिताभ बच्चन के साथ आठ फिल्मों में अभिनय किया, जो हिट या सुपर हिट हुईं । उन्होंने शशि कपूर के साथ सुहाग (1979), काला पत्थर (1979) और नमक हलाल (1982) में अभिनय किया था। धर्मेंद्र के साथ जानी दोस्त (1983) और फिरोज खान के साथ काला सोना (1975) मे भी अभिनय कर चुकी थी। अपने कैरियर के अंत में उन्होंने मार्क जुबेर के साथ "दूसरी औरत" की भूमिका निभाई, विनोद पांडे के साथ नजदीकीया (1982) जैसी लीक से हटकर फिल्मों में अभिनय किया।


2002 में अपनी माँ के निधन के बाद परवीन का मानसिक संतुलन बिगड़ गया। वह अकेले रहने लगीं और एक चर्च से जुड़ी रहीं। वह इसी धर्म की अनुयाई थीं और कभी कभी वह चर्च से संपर्क कर लिया करती थीं। बताया जाता है कि परवीन डायबिटीज़ और पैर की बीमारी गैंगरीन से पीड़ित थीं जिसकी वजह से उनकी किडनी और शरीर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। एक व्हील चेयर, दो जोड़ी कपड़े, कुछ दवाइयां, चंद पेंटिंग्स और कैनवास ही परवीन के अंतिम दिनों के साथी थे।परवीन ने शादी नहीं की थी, इस तरह जीवन एकाकी ही रहा। उन्होंने अपनी जिंदगी के अंतिम दिन अकेले ही काटे और 20 जनवरी, 2005 को मौत की आगोश में चली गईं।


यूं तो एक कलाकार का जीवन खुली किताब की तरह होता है जिसे सब अपने अपने तरीक़े से पढ़ते हैं। मगर हँसते-खिलखिलाते चेहरों के पीछे तमाम दर्द से भी इंकार कोई कैसे करे। ये भी सच है कि परदे की चकाचौंध से जगमगाते सितारों की किरदार से अलग भी ज़िन्दगी होती है। दर्शकों और चाहने वालों के लिए तो यही बेहतर है कि इन सितारों को उसी आसमान पर सजाकर देखते रहें वे जिसके लिए जाने जाते हैं। बेहतरीन अदाकारी के लिए फिल्म जगत में परवीन बाबी को हमेशा याद किया जाएगा।   

अगला लेख: भारत माता की जय के बाद अब लाइमलाइट का अगला मुद्दा क्या ?



धन्यवाद, चंद्रेश जी !

यूं तो एक कलाकार का जीवन खुली किताब की तरह होता है जिसे सब अपने अपने तरीक़े से पढ़ते हैं। मगर हँसते-खिलखिलाते चेहरों के पीछे तमाम दर्द से भी इंकार कोई कैसे करे। ये भी सच है कि परदे की चकाचौंध से जगमगाते सितारों की किरदार से अलग भी ज़िन्दगी होती है। दर्शकों और चाहने वालों के लिए तो यही बेहतर है कि इन सितारों को उसी आसमान पर सजाकर देखते रहें वे जिसके लिए जाने जाते हैं। बेहतरीन पंक्तियों के लिए आपको बधाई सर ! अत्यन्त अर्थपूर्ण पंक्तियां और लेख भी अत्यन्त उम्दा !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 अप्रैल 2016
(व्यंग्य)नीम के पेड़ के नीचे बने चबूतरे पर मदारी और जमूरा दोनों पस्त से अलसाए बैठे हैं। गर्मी इतनी कि दूर-दूर तक आदमी तो दूर, कोई जानवर तक नजर नहीं आ रहा। नीम के पत्तों में कोई हलचल नहीं. कोई खड़खड़ाहट नहीं..उमस से हलकान मदारी, जेब से रूमाल निकाल चहरे पर फिराते बोला - ‘जमूरे..’‘हाँ उस्ताद..’ आदतन आलाप
02 अप्रैल 2016
19 अप्रैल 2016
पा
इसमें कोई दो राय नहीं कि पाकिस्तान से भारत आए तमाम हिन्दू परिवार वहां दयनीय हालात में रह रहे थे. भारत के विभिन्न राज्यों में रह रहे ये परिवार रोज़ी रोटी के लिए संघर्ष कर रहे हैं. इन्हें बस इतना सुकून है कि इनके बच्चे और घर की महिलाएं सुरक्षित हैं. अब इनके बच्चे भी यहाँ स्कूल जा सकेंगे, पढ़ सकेंगे. इस
19 अप्रैल 2016
02 अप्रैल 2016
चल मेरे साथ ही चल ऐ मेरी जान-ए-ग़ज़लइन समाजों के बनाये हुये बंधन से निकल, हम वहाँ जाये जहाँ प्यार पे पहरे न लगेंदिल की दौलत पे जहाँ कोई लुटेरे न लगेंकब है बदला ये ज़माना, तू ज़माने को बदल, प्यार सच्चा हो तो राहें भी निकल आती हैंबिजलियाँ अर्श से ख़ुद रास्ता दिखलाती हैंतू भी बिजली की तरह ग़म के अँधेरो
02 अप्रैल 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x