आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
x
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस

बुंदेलखंड में किसानों का मूलमंत्र बना जुगाड़, साइकिल से जोतते हैं खेत

04 अप्रैल 2016   |  चंद्रेश विमला त्रिपाठी
बुंदेलखंड में किसानों का मूलमंत्र बना जुगाड़, साइकिल से जोतते हैं खेत

सूखे की मार और खराब आर्थि‍क स्‍थिति ने किसानों को नए-नए जुगाड़ करना सिखा दिया है। खेत जुताई के लिए हल नहीं था तो बुंदेलखंड क्षेत्र के बांदा के एक किसान ने साइकिल को ही हल बना लिया और जुताई शुरू कर दी। किसान का कहना है कि बिना लागत के यह उसके लिए काफी किफायती साबित हो रहा है। बुंदेलखंड में किसानों की जिंदगी का मूलमंत्र ही जुगाड़ बन गया है। इस क्षेत्र के बांदा के गांव छनेहरा में रहने वाले एक किसान रामप्रसाद ने एक ऐसा जुगाड़ किया, जो उन तथा इस क्षेत्र के किसानों के लिए बेहद मददगार साबित हो रहा है। किसान रामप्रसाद ने 10 साल पुरानी अपनी कबाड़ की साइकिल को हल बनाने की सोची। रामप्रसाद के अनुसार, वह किराए पर खेती लेकर थोड़ी खेती-किसानी करते हैं| लेकिन सूखे ने कुछ नहीं होने दिया। अब खेत जोतने को न बैल हैं और न ही ट्रैक्टर के लिए रुपए। ऐसे में उन्होंने साइकिल को ही हल बना दिया। आइये जानें उन्होंने कैसे बनाया साइकिल को हल? रामप्रसाद जी ने साइकिल के पीछे के पहिए को निकाल दिया। साइकिल के पिछले हिस्से को मिट्टी में धंसने वाले लोहे को नुकीला शेप दिया। इसका डिजाइन हल की तरह कर दिया। राम प्रसाद इसे खींचते हैं| उनके साथ एक व्यक्ति पिछले हिस्से को मिट्टी की ओर दबाता है तो मिट्टी जुतने लगती है। किसान रामप्रसाद कहते हैं कि अब खेत जोतने में कोई लागत नहीं आती। न बैलों को खिलाना पड़ता है, न ही ट्रैक्टर में डीजल डलाना पड़ता है। हालाँकि साइकिल को हल बनाने में बहुत मामूली खर्च भी आया है। साइकिल का हल बनाते वक्त लोगों ने रामप्रसाद जी को पागल तक बोल दिया। वहीं, लोग अब उनकी तारीफ करते हैं। इस बाबत रामप्रसाद के पड़ोसी किसान मोहम्मद तलहा कहते हैं कि जो लोग रामप्रसाद के इस काम को करने में इनका मखौल उड़ाते थे आज उनकी तारीफ कर रहे हैं। वहीं किसान नेता शिव नारायण परिहार का इस बाबत कहना है कि बांदा के इस किसान ने आत्महत्या की बजाय यह साहसिक कदम उठाया जो बुंदेलखंड के लिए भी बेहद अहम है; दूसरे किसानों को भी इससे सीखना चाहिए। हालाँकि पहले भी इस तरह का साहस सामने आ चुका है| बांदा में ही एक किसान के ऐसे ही साहस का मामला कुछ समय पहले सामने आया था। एक पैर नहीं होने के बावजूद किसान पैर में लाठी बांध कर खेत को जोतता था। एनजीओ चलाने वाले एक सामाजिक कार्यकर्ता आशीष सागर के प्रयास से हालाँकि इस किसान को मदद मिली थी जबकि तत्कालीन प्रदेश सरकार ने किसान का कृत्रिम पैर भी लगवाया था। साथ ही सरकार द्वारा 5 लाख की आर्थिक मदद भी दी गई थी। (साभार:भास्कर.कॉम)

चंद्रेश विमला त्रिपाठी

पर्यटन-प्रशासन एवं प्रबंधन में यूजीसी-नेट उत्तीर्ण, एम.बी.ए. इन टूरिज्म-मैनेजमेंट(सीएसजेएम-कानपुर विश्वविद्यालय), मास्टर्स इन मास-कम्युनिकेशन(लखनऊ विश्वविद्यालय), दैनिक जागरण-यात्रा विभाग में बतौर लेखक (१ जून २००८ से १७ सितम्बर २०१५ तक ) ७ वर्ष, ३ माह एवं १७ दिन का कार्य-अनुभव, नई दिल्ली के प्रकाशकों द्वारा कुछ पुस्तकों का प्रकाशन जैसे - मैनेजिंग एंड सेल्स प्रमोशन इन टूरिज्म (अंग्रेज़ी), शक्तिपीठ (हिंदी) और फिल्म-पटकथा लेखन पर आधारित मौलिक गीतों युक्त हिंदी में लिखी पुस्तक- “देवी विमला”...एक साधारण भारतीय महिला की असाधारण कहानी, प्रख्यात गीतकार श्री प्रसून जोशी द्वारा एक प्रतियोगिता में चयनित सर्वश्रेष्ठ गीतों में से एक गीत शामिल, जागरण जोश के कवर पेज पर आल-एडिशन फोटो...

मित्रगण 141       वेबपेज  12       लेख 554
# चयनित विशेष ख़बरें...
अनुयायी 0
लेख 195
लेखक 1
शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
x
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस