RBI लाया ये ऐप!

13 अप्रैल 2016   |  आशीष श्रीवास्‍तव   (387 बार पढ़ा जा चुका है)

अब न कार्ड चाहिए, न कैश, शॉपिंग या फंड ट्रांसफर 


बैंकिंग को आसान बनाने के लिए आरबीआई ने यूनीफाइड पेमेंट इंटरफेस यानी यूपीआई का ऐप लॉन्च किया है। इससे 29 बैंक जुड़े हुए हैं। इसका ऐप गूगल प्लेस्टोर पर मिलेगा जहां से इसे अपने स्मार्टफोन में डाउनलोड किया जा सकता है। इसे बैंकिंग क्षेत्र की क्रांतिकारी व्यवस्था कहा जा रहा है और जिस तरह एटीएम सेंटर ने बैंकों में जाने की जरूरत काफी हद तक खत्म कर दी थी, यूपीआई कैश रखने की जरूरत को खत्म करने की क्षमता रखता है।

1-यूपीआई के जरिए एक दिन में 50 रुपये से लेकर एक लाख रुपये तक ट्रांसफर किए जा सकते हैं, वो भी महज चुटकियों में अपने स्मार्टफोन के जरिए। हालांकि पहले भी आप फोन के जरिए पैसा ट्रांसफर करते रहे होंगे, लेकिन ये सिस्टम उन सबसे ज्यादा आसान, सुरक्षित और त्वरित है।

अब न कार्ड चाहिए, न कैश, शॉपिंग या फंड ट्रांसफर के लिए RBI लाया ये ऐप!

इसे बैंकिंग क्षेत्र की क्रांतिकारी व्यवस्था कहा जा रहा है और जिस तरह एटीएम सेंटर ने बैंकों में जाने की जरूरत काफी हद तक खत्म कर दी थी, यूपीआई कैश रखने की जरूरत को खत्म करने की क्षमता रखता है।

कमेंट्स

×

2-यूपीआई आने के बाद आपको ऑनलाइन पेमेंट करने के लिए कार्ड नंबर, एक्सपायरी डेट, सीवीवी नंबर, ओटीपी(वन टाइम पासवर्ड), नाम आदि भरने की जरूरत नहीं होगी। नेटबैंकिंग से पेमेंट करने के मामले में भी उसका पासवर्ड देना होता है और सिक्योरिटी का मसला सामने आता है। यूपीआई इन झंझटों को खत्म कर देगा।

3-यूपीआई 24 घंटे और सातों दिन काम करेगा। मतलब इसमें आरटीजीएस या एनईएफटी की तरह समय विशेष पर ही सेवाएं उपलब्ध रहने जैसी स्थिति नहीं रहेगी, बल्कि ये आईएमपीएस की तरह रियल टाइम फंड ट्रांसफर होगा।

4-यूपीआई में आपको अपनी वर्चुअल आईडी अपने बैंक से मिलेगी। ये आपका नाम, फोन नंबर, आधार नंबर आदि कुछ भी हो सकता है। अगर आपका फोन नंबर 9876543210 है और खाता एसबीआई में है तो आपका वर्चुअल आईडी 9876543210@sbi हो सकता है। यूपीआई दरअसल एक वर्चुअल आईडी से दूसरे वर्चुअल आईडी तक फंड ट्रांसफर करता है।

5-शॉपिंग करने के बाद आपको न तो कैश देना होगा और न डेबिट या क्रेडिट कार्ड, बस दुकानदार को अपनी वर्चुअल आईडी बताइए। वो इसे यूपीआई एप में डालेगा, आपसे बिल की राशि भरेगा और कलेक्ट फ्रॉम का बटन दबा देगा। उसकी रिक्वेस्ट आपके बैंक को जाएगी जो आपके फोन पर इसकी डिटेल भेजकर आपकी सहमति मांगेगा। आप जैसे ही इस डिटेल को हरी झंडी देंगे, आपके अकाउंट से पैसा दुकानदार के अकाउंट में पहुंच जाएगा।

6-आपको अपने घर पैसे भेजने हैं। यूपीआई ऐप में अपने परिवार के किसी भी सदस्य की वर्चुअल आईडी डालिए। भेजी जाने वाली राशि भरिए और पे टू का बटन दबा दीजिए। पैसा आपके खाते से उस सदस्य के खाते में पहुंच जाएगा। यही बात दोस्तों या किसी और शख्स को पैसा भेजने के लिए लागू होगी। जरूरत सिर्फ इस बात की है कि पैसा भेजने वाले और पैसा पाने वाले दोनों के फोन में यूपीआई का ऐप हो।

7-आपको ऑनलाइन शॉपिंग करनी है या आईआरसीटीसी की साइट पर टिकट बुक कराना है। टिकट बुक कराने के बाद पेमेंट के ऑप्शन में यूपीआई वाला ऑप्शन चुनिए। अपनी वर्चुअल आईडी डालिए और कलेक्ट फ्रॉम का बटन दबा दीजिए। ये रिक्वेस्ट आपके बैंक को जाएगी जो आपके फोन पर इसकी डिटेल भेजकर आपकी सहमति मांगेगा। आप जैसे ही इस डिटेल को हरी झंडी देंगे, आपके अकाउंट से पैसा कट जाएगा और साइट को भुगतान हो जाएगा।

8-आप पेशेवर हैं और आपने किसी क्लाइंट का काम किया है लेकिन उसने आपको अभी तक पेमेंट नहीं किया है। तो आप उसका वर्चुअल आईडी, लंबित राशि यूपीआई ऐप में डालिए और कलेक्ट फ्रॉम का बटन दबा दीजिए। ये एक तरह के आपके इनवॉयस के तरह काम करेगा। जैसे ही आप कलेक्ट फ्रॉंम पर क्लिक करेंगे, आपका मैसेज उसके बैंक को और बैंक से मैसेज उसके फोन पर पहुंच जाएगा। उसकी ओर से सहमति देते ही आपके काम का पेमेंट हो जाएगा और लंबित राशि आपके अकाउंट में पहुंच जाएगी।

अगला लेख: उत्तर प्रदेश पुलिस अब सोशल मीडिया पर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x