आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

चुटकुला

16 अप्रैल 2016   |  विजय कुमार शर्मा

ग्राहक- दुकान पर जाकर दुकानदार से - एक किलो गुड़ देना

दुकानदार-   गुड़ देने को - वो डिब्बा खोला जिस पर नमक लिखा था 

ग्राहक- गुड़ की जगह नमक दे रहे हो मुझे लूटोगे क्या ?

दुकानदार- चुपकर-चुपकर मक्खियों को धोखा देने के लिए ऐसे लिखा है


विजय कुमार शर्मा

मैं राजनीति शास्त्र एवं हिंदी में एम.ए हुं, अपने विभाग में यूनियन का अध्यक्ष रह चुका हुं, जिला इंटक बठिंडा का वरिष्ठ उप प्रधान रह चुका हुं, नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति, बठिंडा एवं भुवनेश्वर का सदस्य-सचिव रह चुका हुं, आयकर विभाग में सहायक निदेशक के पद पर कार्यरत रह चुका हुं, आकाशवाणी एवं दूरदर्शन पर हिंदी मामलों से संबंधित विशेषज्ञ पेनलों एवं हिंदी संगोष्टियों का हिस्सा रह चुका हुं, अलग-अलग नाम से विभागीय और नराकास की 12 से भी अधिक पत्रिकाओं का संपादक रह चुका हुं तथा वर्तमान में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन में राजभाषा अधिकारी के पद पर तैनात हुं और स्वयं की ओर से लिखित पुस्तकों का लेखक भी हूँ

मित्रगण 114       वेबपेज  1       लेख 168
गद्य लेख
अनुयायी 47
लेख 137
लेखक 1

बहुत बढ़िया ! विजय जी, अपने तमाम साथियों से यही कहना चाहता हूँ कि मन में चल रही कोई भी छोटी से छोटी बात शब्दनगरी पर हिंदी में लिखने से कोई भी यूज़र संकोच न करें. कोई ज़रूरी नहीं है कि लेखन में बहुत गम्भीरता ही हो, लेख बड़ा साहित्यिक ही हो. बस इतना हो कि किसी के मन की बात सिर्फ मन में ही न दबी रह जाये. अपनी छोटी-छोटी खुशियां, बातें, इवेंट्स...कुछ भी शेयर ज़रूर करें. आपके तमाम गहन चिंतन को दर्शाते लेखों के बीच यह चुटकुला भी अच्छा लगा. शब्दनगरी जैसे हिंदी मंच के होते हुए, हमारे तमाम हिंदी भाषी मित्रों की ख़ामोशी अच्छी नहीं लग रही. दिन भर में आप सबकी एक छोटी सी पोस्ट भी हम सबके एक उद्देश्य के लिए, एक साथ होने का एहसास दिलाती है !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
लोकप्रिय प्रश्न